रुपये में अचानक गिरावट अथवा मजबूती आना ठीक नहीं, इससे मुद्रा विनिमय बाजार में उतार-चढ़ाव बढ़ता है: स्टेट बैंक

0

भारत का सबसे बड़ा बैंक भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) के समूह आर्थिक सलाहकार सौम्या घोष ने आज कहा कि रुपये में अचानक गिरावट अथवा तेजी आना ठीक नहीं है इससे मुद्रा विनिमय बाजार में उतार-चढ़ाव बढ़ता है।

रुपये
File Photo: AFP

समाचार एजेंसी भाषा की रिपोर्ट के मुताबिक, इंडियन चैंबर आफ कामर्स (आईसीसी) के एक कार्यक्रम से इतर संवाददाताओं से बातचीत करते हुये घोष ने कहा कि पिछले पांच छह माह में डालर के मुकाबले रुपया 64 से गिरता हुआ 70 रुपये प्रति डालर पर आया है। इस दौरान उसका मूल्यह्रास व्यवस्थित रहा है। डालर के मुकाबले रुपया 72 को छूएगा, यह कोई मायने नहीं रखता है।

सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) वृद्धि के बारे में उन्होंने कहा कि स्टेट बैंक शोध अनुमान के मुताबिक पहली तिमाही में इसके 7.7 प्रतिशत और पूरे वित्त वर्ष के दौरान 7.5 प्रतिशत रहने का अनुमान है।

सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों पर रिजर्व बैंक और सरकार के दोहरे नियंत्रण के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा, ‘शीर्ष बैंक के पास उनके नियंत्रण के लिये बहुत अधिकार हैं, सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों का निजी बैंकों के मुकाबले कहीं अधिक आडिट होता है।’ नोटबंदी और जीएसटी के दोहरे प्रभाव पर उन्होंने कहा कि अर्थव्यवस्था पर इनका असर समाप्त हो चुका है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here