सेविंग अकाउंट बैलेंस जीरो होने पर भी नहीं लगेगा नॉन मेंटीनेंस चार्ज

0

भारतीय रिजर्व बैंक ने बैंकों को इस संबंधी निर्देश जारी किया है कि अगर ग्राहक के बचत खाते में बैलेंस जीरो है तो उनको नॉन मेंटीनेंस चार्ज अब नहीं देना पड़ेगा। दरअसल बैंकों ने सेविंग अकाउंट में न्यूनतम बैलेंस की सीमा तय कर रखी है।
bank frauds

Also Read:  इतिहास में पहली बार मीडिया के सामने आए सुप्रीम कोर्ट के चार मौजूदा जज, कहा- शीर्ष अदालत का प्रशासन ठीक से काम नहीं कर रहा

बैलेंस कम होने पर बैंक अकाउंट मेंटेन न रखने की एवज में वे ग्राहकों से पैसे वसूलते हैं और बैलेंस शून्य होने पर भी बैंक ये चार्ज लगाते हैं जिससे अकाउंट में निगेटिव बैलेंस आ जाता है।

पंजाब केसरी समाचार पत्र के मुताबिक भारतीय रिजर्व बैंक ने कहा है कि अगर कोई बैंक ऐसा करता है और अकाउंट बैलेंस नेगेटिव पर कस्टमर बैंकिंग लोकपाल से शिकायत कर सकते हैं।

Also Read:  पंजाब विधानसभा में भारी हंगामा: मार्शलों ने AAP विधायकों को निकाला बाहर, MLA की पगड़ी उतरी

ऐसे ज्यादातर मामले उन ग्राहकों के सामने आए हैं जो अपनी नौकरी बदलते हैं। ऐसे में उन लोगों के सैलरी अकाउंट में पैसे आने बंद हो जाते हैं जिससे बैंक उन पर चार्ज लगाना शुरू कर देते हैं। नियम के मुताबिक यह आदेश बीते साल से लागू होना था लेकिन कुछ बैंक अभी भी उसी नियम के तहत ग्राहकों पर नॉन मेंटीनेंस चार्ज लगाते आ रहे हैं।

Also Read:  शत्रुघ्न सिन्हा ने पीएम मोदी पर साधा निशाना कहा- कांग्रेस मुक्त नहीं तंबाकू मुक्त भारत की बात करें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here