कोबरापोस्ट ऑपरेशन कराओके की ‘नायक’ सौम्या टंडन ने ‘भाभी जी घर पर है’ के एपिसोड में आचार संहिता के उल्लंघन पर तोड़ी चुप्पी

0

टीवी का पॉपुलर कॉमेडी सीरियल ‘भाभी जी घर पर हैं’ में गौरी मेम का किरदार निभाने वाली मशहूर अभिनेत्री सौम्या टंडन उन चार अभिनेताओं में से एक थी, जिन्होंने कोबरापोस्ट के स्टिंग ऑपरेशन में पैसे के लिए अपनी ‘आत्मा’ को बेचने से मना कर दिया था। जब से लोगों को यह पता चला कि सौम्या टंडन ने एक राजनीतिक पार्टी का समर्थन करने के लिए पैसे की पेशकश को स्वीकार नहीं किया तभी से वो सोशल मीडिया पर एक स्टार बन गईं। लेकिन उसके कुछ सप्ताह बाद ही उनके अपने शो ‘भाभी जी घर पर हैं’ ने खुद बीजेपी के एजेंडे को बढ़ावा देकर चुनाव संहिता का उल्लंघन किया।

सौम्या टंडन
फाइल फोटो: सौम्या टंडन

कांग्रेस की महाराष्ट्र इकाई ने इस महीने की शुरुआत में चुनाव आयोग से संपर्क किया और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनकी सरकार की योजनाओं की प्रशंसा करते हुए ‘भाभी जी घर पर हैं’ और ज़ी टीवी के दो अन्य कार्यक्रमों पर प्रतिबंध लगाने की मांग की। कांग्रेस का आरोप है कि इन सीरियल्स में बीजेपी का प्रचार हो रहा है। कांग्रेस ने तर्क दिया कि राज्यसभा सांसद सुभाष चंद्रा के स्वामित्व वाले चैनलों ने आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन किया था।

सौम्या टंडन ने स्पॉटबॉय वेबसाइट से बात करते हुए कहा, “मैंने अभी तक फिर से काम शुरू नहीं किया है और इसीलिए चैनल इस सवाल का जवाब देने के लिए एक बेहतर इकाई होगा।” हांलाकी, टीवी की तरफ से इस मामले को लेकर अभी तक कोई बयान सामने नहीं आया है।

‘भाभी जी घर पर हैं’ शो में अनीता भाभी का किरदार निभाने वाली सौम्या टंडन बीते महीने ही मां बनी है। इस साल की शुरुआत में एक बच्चे को जन्म देने के बाद फिलहाल सौम्या अवकाश पर हैं। खबर है कि अब सौम्या जल्द ही शो में वापस एंट्री कर सकती हैं।

बता दें कि सौम्या टंडन उन चार अभिनेताओं में से एक थी, जिन्होंने कोबरापोस्ट के स्टिंग ऑपरेशन में पैसे के लिए अपनी ‘आत्मा’ को बेचने से मना कर दिया था। जबकि मनोरंजन उद्योग के 36 हस्तियों ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट का उपयोग करके एक राजनीतिक पार्टी के एजेंडे को आगे बढ़ाने के लिए धन स्वीकार करने पर सहमति व्यक्त की थी। इन हस्तियों ने कैमरे के सामने स्वीकार किया कि वो पैसे के बदले राजनीतिक दल को बढ़ावा दे सकते है।

लेकिन सौम्या टंडन ने इस गंदे खेल का हिस्सा बनने से साफ इनकार कर दिया था। सौम्या टंडन के अलावा तीन और ऐसी हस्तियां है जिन्होंने जिन्होंने कोबरापोस्ट के स्टिंग ऑपरेशन में पैसे के लिए अपनी ‘आत्मा’ को बेचने से मना कर दिया था। वे कलाकार थे अरशद वारसी, विद्या बालन और रज़ा मुराद

कोबरापोस्ट के खुलासे के बाद, ‘जनता का रिपोर्टर’ से बात करते हुए सौम्या टंडन ने कहा था कि, “मनोरंजन उद्योग में मेरे 12 साल के करियर में कई बार ऐसा हुआ है कि मुझे किसी राजनीतिक दल के समर्थन के लिए संपर्क किया गया, खासकर चुनावों के करीब या रैली के लिए विशेष उम्मीदवार या सोशल मीडिया पर किसी विशेष पार्टी के बारे में बात करने के लिए या अपनी पार्टियों में शामिल करने के लिए। मैंने ऐसा कभी नहीं किया है, मैं वो कभी नही करूंगी।”

अभिनेत्री ने कहा, “जब तक मैं सच में व्यक्ति या पार्टी में विश्वास नहीं करती, तब तक मै कुछ ऐसा नहीं करुगी। क्योंकि बहुत सी चीजें हैं जो मैं पैसे के लिए करती हूं, लेकिन यह कुछ ऐसा है जो मैं पैसे के लिए कभी नहीं करूंगी। क्योंकि मुझे लगता है कि यह कहीं अधिक गंभीर है और इसके कहीं अधिक निहितार्थ हैं और मैं इस तरह की चीजों के लिए खुद को पैसे के लिए कभी नहीं बेचूंगी।”

गौरतलब है कि कोबरापोस्ट ने मंगलवार को भारतीय मनोरंजन उद्योग की 36 ऐसी हस्तियों को उजागर किया है, जो 2019 के लोकसभा चुनावों में पैसे लेकर अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर अनुकूल संदेश पोस्ट करके एक राजनीतिक पार्टी को बढ़ावा देने के लिए सहमत हुए हैं।

इन हस्तियों में टीवी और फिल्मों के दिग्गज अभिनेता के आलावा गायक, सोशल मीडिया सेलिब्रिटी और स्टैंड-अप कॉमेडियन तक शामिल है। इन हस्तियों ने कैमरे के सामने स्वीकार किया कि वो पैसे के बदले राजनीतिक दल को बढ़ावा दे सकते है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here