VIDEO: सड़कों की खराब हालत की वजह से परेशान हुईं BJP सांसद राजीव प्रताप रूडी की मां ने बेटे को सुनाई खरी खोटी, कहा- ‘5 साल में रोड तक नहीं बनवा पाया’

0

लोकसभा के पांचवें चरण में सोमवार को हुए मतदान के बाद केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह, यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी सहित 674 उम्मीदवारों के राजनीतिक भविष्य का फैसला इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (EVM) में कैद हो गया है। सोमवार को लोकसभा के पांचवें चरण में सात राज्यों में 51 सीटों के लिए मतदान हुआ। सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) और सहयोगियों दलों के लिए काफी कुछ दांव पर है, क्योंकि 2014 के चुनावों में उन्होंने 51 में से 40 सीटों पर जीत दर्ज की थी। दो सीटों पर कांग्रेस ने जीत हासिल की थी, जबकि शेष पर अन्य विपक्षी दलों ने जीत हासिल की।

लोकसभा चुनाव के पांचवें चरण में उत्तर प्रदेश के अलावा बिहार में कई दिग्गज नेताओं का भविष्य दांव पर है, लेकिन सारण सीट पर सबकी खासतौर पर नजर है। यहां से पूर्व केंद्रीय मंत्री और बीजेपी के वरिष्ठ नेता राजीव प्रताप रूडी मैदान में हैं और उन्हें इस बार राष्ट्रीय जनता दल के चंद्रिका राय चुनौती दे रहे हैं। बीजेपी के उम्मीदवार रूडी इस बार इस सीट से चौका लगाने के फिराक में हैं। वहीं, पूर्व स्वास्थ्य मंत्री तेजप्रताप यादव के ससुर चंद्रिका राय को लालू प्रसाद का ‘मैदान’ बचाने की चुनौती है। इस रोचक मुकाबले पर बिहार ही नहीं देश भर की निगाहें टिकी हैं।

रुडी की मां ने बेटे को सुनाई खरी खोटी

हालांकि, बीजेपी नेता राजीव प्रताप रूडी के काम से जनता तो दूर खुद उनकी मां भी संतुष्ट नहीं है। दरअसल, सोमवार को रूडी की माता जी छपरा के एक पोलिंग बूथ पर वोट डालने जा रही थीं, इस दौरान सड़कों की खराब हालत की वजह से उन्हें काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा। खराब रास्तों की वजह से परेशान हुईं मां ने मीडिया से बातचीत में अपने ही सांसद बेटे राजीव प्रताप रुडी को जमकर खरी खोटी सुनाई।

न्यूज वर्ल्ड इंडिया से बातचीत में उन्होंने कहा कि मतदान करने के बाद जब वह घर जाएंगी तो अपने बेटे से खराब सड़क की शिकायत करेंगी। माता जी ने चैनल से बातचीत में अपने बेटे सांसद राजीव प्रताप रूडी के काम पर सवाल उठाते हुए कहा कि वह घर जाकर पूछेंगी कि पांच साल में तुमने रोड तक नहीं बनवाया। उन्होंने कहा कि वह अपने बेटे से पूछेंगीं, ‘तुम्हारा छपरा जिला कैसा है, कैसा रखा है…जो अभी तक रोड नहीं है जाने के लिए…।’

दरअसल, दलों के हिसाब से देखें तो इस चुनाव में महागठबंधन की ओर से आरजेडी और बीजेपी के बीच ही टक्कर मानी जा रही है। पिछले लोकसभा चुनाव में सारण की सीट से बीजेपी के रूडी ने आरजेडी की राबड़ी देवी को पराजित किया था। उस चुनाव में रूडी को जहां 41 फीसदी से ज्यादा मत मिले थे, वहीं राबड़ी को 36 प्रतिशत मतों से संतोष करना पड़ा था। सारण संसदीय क्षेत्र में मढ़ौरा, छपरा, गरखा, अमनौर, परसा और सोनपुर विधानसभा क्षेत्र आते हैं। इसमें से चार विधानसभा क्षेत्र पर आरजेडी, जबकि दो पर बीजेपी का कब्जा है।

‘संपूर्ण क्रांति’ के जनक जयप्रकाश नारायण की कर्मभूमि रहे सारण की राजनीति में लालू प्रसाद लंबे समय तक केंद्र बिंदु रहे हैं। इस क्षेत्र का संसद में चार बार प्रतिनिधित्व कर चुके लालू परिवार के लिए यह परंपरागत सीट मानी जाती रही है। हालांकि, बीजेपी के राजीव प्रताप रूडी भी यहां से तीन बार सांसद चुने गए हैं। सारण की विशेषता रही है कि यहां पार्टियां भले ही अपने उम्मीदवार को चुनाव मैदान में उतारती हैं, लेकिन मुख्य मुकाबला यदुवंशी और रघुवंशी के बीच का ही होता है। (इनपुट- आईएएनएस के साथ)

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here