योगी सरकार पर प्राचीन मंदिरों को तोड़ने का आरोप: संजय सिंह और समर्थकों पर मुकदमा दर्ज होने पर भड़की AAP, अयोध्या में प्रदर्शन करने की दी चेतावनी

0

आम आदमी पार्टी (आप) के राष्ट्रीय प्रवक्ता और राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने उत्तर प्रदेश की भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सरकार पर काशी की धार्मिक नगरी वाली पहचान को विश्वनाथ कॉरिडोर के नाम पर मिटाने का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि विश्वनाथ कॉरिडोर के नाम पर कई प्राचीन मंदिर तोड़े जा रहे हैं। हिन्दुओं के ठेकेदार वाली भाजपा सरकार विश्वनाथ कॉरिडोर के नाम पर पुरातत्व विभाग में दर्ज काशी के प्राचीन मंदिरों को तोड़ रही है। जो काशी की असली पहचान हैं।

file photo

सिंह ने मंगललवार को पार्टी ऑफिस में एक प्रेस कॉन्फेंस के दौरान कहा कि उन्होंने इस मुद्दे पर प्रधानमंत्री मोदी और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखा है और मंदिरों को तोड़ने पर रोक लगाने तथा टूटे मंदिरों की फिर से बनवाने की मांग की है। उन्होंने बताया कि जब उनके द्वारा मंदिर तोड़े जाने के खिलाफ अभियान चलाया गया तो योगी सरकार के इशारे पर उनके तथा 250 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया गया है।

AAP सांसद ने यूपी सरकार से पूछा, “क्या यह मुकदमे मंदिरों को बचाने की मांग करने पर दर्ज कराए गए हैं? क्या योगी राज में मंदिर बचाना गुनाह है?” सिंह ने कहा कि अगर एक हफ्ते के भीतर उनके और 250 लोगों के खिलाफ दर्ज फर्जी मुकदमों को वापस नहीं लिया गया तो वो 23 जनवरी को नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती पर अयोध्या में गांधी प्रतिमा पर धरना देंगे और यदि मुख्यमंत्री योगी में हिम्मत है तो गिरफ्तार करके दिखाएं। वह योगी सरकार की बन्दर घुड़कियों से डरने वाले नहीं है।

पत्रकारों से बातचीत के दौरान सिंह ने कहा कि पार्टी की तरफ से लिखित तौर पर जिला प्रशासन को सूचना दी गई थी और यात्रा का पूरा रूट बताया गया था। प्रशासन ने पहले यात्रा को रोकने की कोशिश की, फिर उसके बाद मुकदमा पंजीकृत किया। उन्होंने कहा कि मंदिर और ऐतिहासिक धरोहर बचाने के लिए हर कुर्बानी देने को पार्टी तैयार है। उन्होंने कहा कि जिस जगह से प्रधानमंत्री मोदी चुनाव लड़ते हैं और जो भाजपा हिंदूवादी होने का बात करती है, वह मंदिरों को तोड़ रही है। 5000 साल पुरानी भारत माता की प्रतिमा को तोड़ दिया।

सिंह ने काशी में तोड़े जा रहे मंदिर पर प्रधानमंत्री के चुप्पी की आलोचना की। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री वहां से सांसद हैं लेकिन उन्होंने इस मुद्दे पर अभी तक कुछ नहीं बोला है। उन्होंने विश्वनाथ कॉरिडोर के तहत तोड़े जा रहे मंदिरों की तस्वीरें दिखाते हुए राज्यसभा में प्रस्तावित प्राइवेट मेंबर बिल को सभी पार्टियों से पास कराने की अपील की। दिल्ली में आयोजित पत्रकार सम्मेलन में सिंह ने कहा कि सपा बसपा समेत सभी पार्टी को एकजुट होकर आम आदमी पार्टी द्वारा लाए जा रहे प्राइवेट मेबर बिल को पास कराना चाहिए।

उन्होंने आगे कहा कि अगर तोड़े गए मंदिरों को फिर से नहीं बनवाया गया तो वो अगले माह से पूरे उत्तर प्रदेश में यात्रा निकालेंगे। राज्यसभा सांसद ने एक बयान जारी कर कहा कि मंदिरों को तोड़ने की प्रकिया पिछले एक साल से चल रही है। शिवलिंगों, मूर्तियों को नालों में फेंका जा रहा है। योगी सरकार द्वारा मंदिरों को तोड़े जाने के खिलाफ पार्टी ने 12 और 13 जनवरी को अयोध्या से लेकर काशी तक यात्रा निकाली। यात्रा के सफल होने एवं भाजपा की मंदिरों के प्रति काली करतूतों के उजागर होने से बौखलाई योगी सरकार ने आप नेताओं पर मुकद्दमा दर्ज करवा दिया है।

उन्होंने कहा कि भाजपाई अयोध्या में कहते है, ‘राम लला हम आयेंगे, मंदिर वहीं बनायेंगे…’ लेकिन काशी में कहते है भोले बाबा हम आयेंगे, मंदिर सभी तुडवाएंगे। अयोध्या में 176 मन्दिरों को भी तोड़ने की नोटिस भाजपा सरकार ने दे दी है और ये अंतिम नोटिस है इसके बाद अयोध्या में भी प्राचीन मन्दिरों को तोड़ने की प्रकिया शुरू हो जाएगी।

उन्होंने कहा कि अयोध्या प्रशासन ने उनके स्वयं सहित प्रदेश सचिव सुधीर भारद्वाज, अवध प्रांत अध्यक्षा ब्रज कुमारी सिंह, प्रदेश प्रवक्ता सभाजीत सिंह, पश्चिम प्रान्त की महिला अध्यक्षा छवि यादव, पूर्वांचल सचिव सतेन्द्र तिवारी, निर्मल मिश्रा एवं 200 अन्य कार्यकर्ताओं पर मुकद्दमा दर्ज किया है इसके अलावा पूर्वांचल अध्यक्ष संजीव सिंह को प्रशासन ने रासुका लगाने की धमकी भी दी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here