सेक्स सीडी कांड : दिल्ली सरकार के बर्खास्त मंत्री संदीप कुमार को मिली जमानत

0

बलात्कार के आरोपों में गिरफ्तार दिल्ली के बर्खास्त मंत्री संदीप कुमार को दिल्ली की एक अदालत ने जमानत दे दी. अदालत ने उन्हें निर्देश दिया कि वह सबूतों के साथ छेड़छाड़ न करें।

बलात्कार के आरोपों में गिरफ्तार दिल्ली के बर्खास्त मंत्री संदीप कुमार को दिल्ली की एक अदालत ने जमानत दे दीअदालत ने उन्हें निर्देश दिया कि वह सबूतों के साथ छेड़छाड़ न करें।

विशेष न्यायाधीश पूनम चौधरी ने आप विधायक को एक लाख रुपये के निजी मुचलके और उतनी ही रकम की जमानत राशि पर जमानत दे दी। अदालत ने कुमार को निर्देश दिया कि वह अपना पासपोर्ट जमा करें और गवाहों को प्रभावित नहीं करें. उन्हें तीन सितंबर को गिरफ्तार किया गया था और तब से वह हिरासत में थे।

संदीप

कुमार ने इस आधार पर जमानत की मांग की थी कि मामले में जांच पूरी हो चुकी है और उनसे हिरासत में पूछताछ करने की और आवश्यकता नहीं है। पुलिस ने उनकी जमानत याचिका का विरोध किया था. उन्होंने कहा था कि वह प्रभावशाली व्यक्ति हैं और जांच को प्रभावित कर सकते हैं।
पुलिस ने दावा किया था कि पीड़िता उसी इलाके में रहती है जिसका कुमार प्रतिनिधित्व करते हैं और अगर उन्हें जेल से रिहा किया जाता है तो वह सबूतों के साथ छेड़छाड़ कर सकते हैं।

भाषा की खबर के अनुसार, कुमार ने राहत की मांग की। उन्होंने कहा कि वह पिछले दो महीने से हिरासत में हैं और प्राथमिकी दर्ज किए जाने के समय से उनका आचरण सही रहा है और उन्होंने खुद पुलिस के समक्ष आत्मसमर्पण किया था।

विशेष न्यायाधीश पूनम चौधरी ने आप विधायक को एक लाख रुपये के निजी मुचलके और उतनी ही रकम की जमानत राशि पर जमानत दे दी. अदालत ने कुमार को निर्देश दिया कि वह अपना पासपोर्ट जमा करें और गवाहों को प्रभावित नहीं करें. उन्हें तीन सितंबर को गिरफ्तार किया गया था और तब से वह हिरासत में थे।

कुमार ने इस आधार पर जमानत की मांग की थी कि मामले में जांच पूरी हो चुकी है और उनसे हिरासत में पूछताछ करने की और आवश्यकता नहीं है. पुलिस ने उनकी जमानत याचिका का विरोध किया था उन्होंने कहा था कि वह प्रभावशाली व्यक्ति हैं और जांच को प्रभावित कर सकते हैं।
पुलिस ने दावा किया था कि पीड़िता उसी इलाके में रहती है जिसका कुमार प्रतिनिधित्व करते हैं और अगर उन्हें जेल से रिहा किया जाता है तो वह सबूतों के साथ छेड़छाड़ कर सकते हैं।

कुमार ने राहत की मांग की. उन्होंने कहा कि वह पिछले दो महीने से हिरासत में हैं और प्राथमिकी दर्ज किए जाने के समय से उनका आचरण सही रहा है और उन्होंने खुद पुलिस के समक्ष आत्मसमर्पण किया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here