महाराष्ट्र: दक्षिणपंथी संगठन सनातन संस्था से जुड़े कथित सदस्य को ATS ने किया गिरफ्तार, घर से बरामद हुए 8 देसी बम और गन पाउडर

0

महाराष्ट्र के पालघर जिले के नालासोपारा पश्चिम इलाके में गुरुवार (9 अगस्त) रात महाराष्ट्र आतंकवाद निरोधक दस्ते (एटीएस) ने छापा मारकर एक घर से भारी मात्रा में विस्फोटक बरामद किए हैं। एटीएस ने इस मामले में वैभव राउत नाम के शख्स को गिरफ्तार किया है, जो कथित रूप से दक्षिणपंथी संगठन सनातन संस्था का सदस्य है। विस्फोटक के अलावा कुछ किताबें भी बरामद हुई हैं। फिलहाल एटीएस आरोपी को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है।

बताया जा रहा है कि आरोपी हिंदूवादी संगठन सनातन संस्था का कार्यकर्ता है। खबरों के अनुसार, एटीएस की एक टीम ने खूफिया सूचना के आधार पर गुरुवार देर रात महाराष्ट्र के पालघर इलाके में वैभव राउत नामक शख्स के घर पर छापा मारा। इस छापे में एटीएस की टीम को वैभव के घर से करीब 8 देशी बम, आपत्तिजनक साहित्य, गन पाउडर और डेटोनेटर आदि सामान बरामद हुआ है।

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक, एक वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी के नेतृत्व में मारे गए इस छापे में एटीएस की टीम के साथ डॉग स्कवॉयड भी मौजूद थी। एटीएस के अधिकारियों का कहना है कि उनकी पिछले कुछ समय से वैभव राउत पर नजर थी। फिलहाल, आरोपी के घर से मिले संदिग्ध सामान को जांच के लिए मुंबई फॉरेंसिक साइंस लैबोरेटरी भेज दिया गया है। शुक्रवार सुबह तक चली छापेमारी के बाद वैभव राउत को गिरफ्तार कर लिया गया।

सूत्रों के मुताबिक राउत से हिरासत में पूछताछ करने के बाद उसे अदालत में पेश किया जाएगा। एटीएस के अधिकारियों का कहना है कि यह पता लगाने की कोशिश की जा रही है कि वैभव राउत के घर से मिले सामान का सोर्स क्या है और आरोपी इसका इस्तेमाल कहां किया जाना था? बता दें कि सनातन संस्था का नाम नरेंद्र दाभोलकर, एमएम कलबुर्गी, गोविंद पानसरे और गौरी लंकेश की हत्या से भी जुड़ चुका है।

कई हत्याओं से जुड़ चुका है संस्था का नाम

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक वैभव राउत सनातन संस्था और हिंदू जनजागृति समिति का सदस्य है। सनातन संस्था से संबंधित लोगों को वाशी, ठाणे, पनवेल (2007) और गोवा (2009) ब्लास्ट में गिरफ्तार किया जा चुका है। सामाजिक कार्यकर्ता और लेखक नरेंद्र दाभोलकर (2013), गोविंद पानसरे और एमएम कलबुर्गी (2015) और वरिष्ठ पत्रकार गौरी लंकेश की हत्याओं में सनातन संस्था से संबंधित लोगों का नाम सामने आया था।

हालांकि, मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक सनातन संस्था के वकील संजीव पुनेलिकर ने बताया कि वैभव उनके संगठन का सक्रिय सदस्य नहीं है, बल्कि वो उनके संस्था के एक सदस्य का साथी है। उन्होंने कहा, ‘वैभव को पालघर पुलिस ने गोमांस प्रतिबंध मामले के संबंध में तड़ीपार कर रखा था। वो हिंदुत्व का कार्यकर्ता है, लेकिन हमारा सदस्य नहीं है। हालांकि, मुझे एटीएस के दावों पर शक है कि उसके पास विस्फोटक थे।’

दैनिक भास्कर की रिपोर्ट के अनुसार आधिकारिक सूत्रों के मुताबिक, राउत के घर से आठ देसी बम मिले। घर से कुछ दूर स्थित उनकी दुकान में सल्फर और डेटोनेटर भी मिले। जब्त किए गए सल्फर से 25-30 बम बनाए जा सकते हैं। अखबार के मुताबिक सनातन संस्था की स्थापना 1999 में जयंत बालाजी अठावले ने की थी। इसके विदेश में भी आश्रम हैं। यह संस्था अध्यात्म, शिक्षा और धर्म के क्षेत्र में काम करती है।

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here