‘सन्यासी व्यापार कर रहे है और व्यापारी सन्यास लेने की सोच रहे है’

0

यशवंत सिन्हा ने देश की बिगड़ती हुई अर्थव्यवस्था को लेकर टिप्पणी की जिसके बाद वह BJP के निशाने पर आ गए जबकि आर्थिक मामलों के विशेषज्ञों ने इस पर पहले ही चितां व्यक्त कर दी थी। पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने पहले ही बता दिया था कि देश के नोटबंदी और जीएसटी के बाद हालात कितने अधिक खराब हो जाएगें।

यशवंत सिन्हा

प्रधानमंत्री मोदी और वित्त मंत्री अरुण जेटली इस गिरते हुए आर्थिक ढांचे को बचाने के लिए राहत के कार्यक्रम बनाने में जुटे हुए है जबकि मोदी सरकार का नोटबंदी को लेकर किया गया विफल प्रयास अब सबके सम्मुख आ गया है। इन्हीं सारे मुद्दों पर हास्य कवि संपत सरल का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है जिसमें वह चरमराती हुई अर्थव्यवस्था को निशाने पर लेते हुए कहते है कि ‘सन्यासी व्यापार कर रहे है और व्यापारी सन्यास लेने की सोच रहा है।’ कवि का यह मारक व्यंग बदले हुए परिदृश्य को अच्छे से रेखाकिंत करता है।

इसके अलावा कवि संपत सरल बुलेट ट्रेन को लेकर भी जोरदार तरीके से प्रधानमंत्री पर निशाना साधते हैं। इस कार्यक्रम का संचालन कुमार विश्वास कर रहे थे। सोशल मीडिया पर आने के बाद यह वीडियो वायरल हो गया।

जबकि दो दिन पहले ही पूर्व वित्त मंत्री यंशवत सिन्हा ने बेखौफ होकर कहा कि ‘वित्त मंत्री अरुण जेटली ने अर्थव्यवस्था का ‘कबाड़ा’ कर दिया है।यशवंत सिन्हा ने तंज कसते हुए कहा, ‘प्रधानमंत्री दावा करते हैं कि उन्होंने गरीबी को काफी करीब से देखा है। ऐसा लगता है कि उनके वित्त मंत्री ओवर-टाइम काम कर रहे हैं जिससे वह सभी भारतीयों को गरीबी को काफी नजदीक से दिखा सकें।’

पूर्व वित्त मंत्री यंशवत सिन्हा ने इसी हालात पर चिंता जाहिर करते हुए एक समाचार पत्र से बात करते हुए कहा कि ‘इस समय भारतीय अर्थव्यवस्था की तस्वीर क्या है? प्राइवेट इन्वेस्टमेंट काफी कम हो गया है, जो दो दशकों में नहीं हुआ। औद्योगिक उत्पादन ध्वस्त हो गया, कृषि संकट में है, निर्माण उद्योग जो ज्यादा लोगों को रोजगार देता है उसमें भी सुस्ती छायी हुई है। सर्विस सेक्टर की रफ्तार भी काफी मंद है। निर्यात भी काफी घट गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here