#MeToo: देखिए कैसे एमजे अकबर पर पूछे गए सवाल पर दौड़कर भागे BJP प्रवक्ता संबित पात्रा, वायरल हुआ वीडियो

0

भारत में जारी ‘मी टू’ अभियान (यौन उत्पीड़न के खिलाफ अभियान) के लपेटे में आए केंद्र की मोदी सरकार में मंत्री एम.जे.अकबर की मुश्किलें बढ़ती जा रही है। महिला पत्रकारों के एक पैनल ने केंद्रीय मंत्री एम.जे.अकबर को बर्खास्त करने की मांग करते हुए राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को एक पत्र लिखा है। आपको बता दें कि अकबर पर ‘मीटू मूवमेंट’ के तहत दर्जनभर महिलाओं ने यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया है।

एमजे अकबर ने खुद के खिलाफ लगे आरोपों को बेबुनियाद बताया है। सभी आरोपों को खारिज करते हुए उन्होंने कहा है कि अपने खिलाफ आरोपों की वजह से वो इस्तीफा नहीं देंगे। इतना ही नहीं अकबर ने अपने खिलाफ यौन उत्पीड़न का आरोप लगाने वाली महिला पत्रकार पर मानहानि का मामला दर्ज कराया है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक उन्होंने अपने बचाव के लिए 97 वकील तैनात किए हैं।

सवालों से भागते नजर आए बीजेपी प्रवक्ता

विदेश राज्य मंत्री पर दर्जनभर से अधिक महिला पत्रकारों ने आरोप लगाए हैं, लेकिन इस मामले में पूरी सरकार चुप हो गई है। कोई भी केंद्रीय मंत्री अकबर के मामले में बयान नहीं दे रहा है। इतना ही नहीं सरकार के साथ-साथ अब बीजेपी का भी कोई नेता इस मामले में चुप्पी तोड़ने को तैयार नहीं है। इस बीच सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है जिसमें बीजेपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता संबित पात्रा अकबर को लेकर पत्रकारों द्वारा पूछे गए सवालों से भागते नजर आ रहे हैं।

दरअसल, बीजेपी नेता संबित पात्रा किसी कार्यक्रम से निकल रहे थे। तभी बाहर मौजूद कुछ पत्रकारों से उनका सामना हो गया। अन्य मुद्दों पर बात होते-होते अकबर पर लगे आरोपों को लेकर जैसे ही उनके सामने सवाल सामने आया संबित पात्रा को कोई जवाब देते नहीं बना और दौड़कर वह अपनी कार की तरफ भाग निकले। यहां तक कि पत्रकार उनसे सवाल पूछते रहे और वो गाड़ी मैं बैठकर निकल दिए।

पत्रकारों ने सवाल पूछा था कि महिला सशक्तिकरण के नाम पर बीजेपी यात्रा निकाल रही है। वहीं, केंद्रीय मंत्री एमजे अकबर पर गंभीर आरोप लग रहे हैं इस पर आपकी क्या प्रतिक्रिया है? इस सवाल पर संबित पात्रा बिना कुछ बोले ही गाड़ी में बैठकर चल दिए। इस घटनाक्रम का वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है। संबित अपनी कार की तरफ बढ़ते हुए बोले- हो गया… हो गया….।

जबकि, पत्रकार ने महिला सशक्तीकरण का वास्ता देते रहे। लेकिन संबित अपनी गाड़ी की तरफ बढ़ते रहे। संबित द्वारा जवाब नहीं देने से नाराज एक पत्रकार ने तो इतना तक कह दिया कि आप सवालों से भागने की कोशिश कर रहे हैं। जिसके बाद संबित ने अपनी कार का गेट खोला और अंदर बैठ गए। गाड़ी में बैठने तक उन्होंने अकबर मामले पर कोई जवाब नहीं दिया।

(देखिए वीडियो)

Sambit Patra runs away

This is epic! WATCH and enjoy http://www.jantakareporter.com/india/watch-bjp-spokesperson-sambit-patra-runs-away-when-asked-to-comment-on-mj-akbar/213563/

Posted by Rifat Jawaid on Tuesday, 16 October 2018

सरकार के मंत्रियों ने साधी चुप्पी

आपको बता दें कि इससे पहले केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद और विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने भी अकबर पर पूछे गए सवालों पर कोई जवाब नहीं दिया था। केंद्र सरकार ने 10 अक्टूबर को अकबर पर लगे यौन दुर्व्यवहार के आरोपों पर चुप्पी बनाए रखी, जबकि कांग्रेस ने अकबर के इस्तीफे की मांग की। दरअसल, रविशंकर प्रसाद ने मंत्रिमंडल के निर्णय की जानकारी पत्रकारों को दी लेकिन उन्होंने अकबर और ‘मी टू’ अभियान समेत किसी भी अन्य मामले पर कोई जवाब नहीं दिया।

अकबर पर लगे आरोपों के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा, “आज का मुद्दा मंत्रिमंडल निर्णय है, कृपया उस पर ध्यान लगाए।” मामले पर जब पत्रकारों ने जवाब देने के दबाव डाला, तो प्रसाद ने दोबारा कहा, “मुद्दा मंत्रिमंडल निर्णय का है।” इससे पहले विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने भी अकबर के विरुद्ध लगे आरोपों के बारे में पूछे जाने कोई जवाब नहीं दिया था।

अकबर ने किया मानहानि का मुकदमा

आपको बता दें कि विदेश राज्यमंत्री एम. जे.अकबर पर सबसे पहले यौन उत्पीड़न का आरोप लगाने वाली पत्रकार प्रिया रमानी के खिलाफ मंत्री ने मानहानि का मुकदमा दायर किया है। उन्होंने सोमवार (15 अक्टूबर) को अपने वकील संदीप कपूर के माध्यम से भारतीय दंड संहिता की धारा 499 के तहत प्रिया के खिलाफ पटियाला कोर्ट में मानहानि का मुकदमा दर्ज कराया।

उनके वकील ने याचिका में कहा है कि अकबर देश के सम्मानित पत्रकार रहे हैं और इस पेशे में उनका लंबा करियर रहा है। उन्होंने देश का पहला राजनीतिक समाचार साप्ताहिक निकला था, उनके मुवक्किल के खिलाफ प्रिया रमानी ने बेबुनियाद मनगढ़ंत और ओछे आरोप लगाए हैं जिससे उनकी छवि और गरिमा को धक्का पहुंचा है। इस तरह यह उनकी मानहानि का मामला बनता है।

अकबर पर प्रिया रमानी के अलावा गजाला वहाब, अंजू भारती, शुत्पा पॉल, शुमा रहा समेत कई महिला पत्रकारों ने यौन शोषण एवं प्रताड़ना के आरोप लगाए थे। सबसे पहले रमानी ने ही मंत्री पर देश में चल रहे ‘मी टू’ अभियान के बीच यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया था।

इसके बाद करीब दर्जन भर महिला पत्रकारों ने अकबर पर यौन उत्पीड़न और छेड़छाड़ का आरोप लगाया है, जिसके कारण विदेश राज्यमंत्री को पद से हटाने की मांग जोर पकड़ने लगी है। इन महिलाओं का आरोप है कि ‘द एशियन एज’ और अन्य प्रकाशनों के संपादक की हैसियत से अकबर ने उनका यौन-उत्पीड़न किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here