कैंसर के बावजूद ICSE परीक्षा में हासिल किए 95.8 फीसदी अंक

0

कोलकाता के होनहार छात्र राघव चंडाक ने कैंसर जैसी जानलेवा बीमारी के आगे घुटने नहीं टेके। हर मुसीबत का डट कर सामना किया। राघव के अंदर आईसीएसई की परीक्षा में शानदार प्रदर्शन की मजबूत इच्छाशक्ति थी और ऐसे में उसने अस्पताल में किताबे और नोट्स से तैयारी कर रेकॉर्ड 95.8 फीसदी अंक हासिल किये।
raghav chandak

दरअसल पिछले साल अप्रैल में पता चला कि 16 साल के राघव चंडाक को लीम्फोब्लास्टिक ल्यूकेमिया है और वह दो महीने से ज्यादा हेरीटेज स्कूल में क्लास अटेंड नहीं कर पाएगा। राघव ने बताया कि उसका चचेरा भाई उसी क्लास में पढ़ता है और उसने ही राघव को पढ़ने के लिए अपने सभी नोट्स दिए।

Also Read:  मैं वित्‍तमंत्री होता और मुझ पर नोटबंदी के लिए जोर डाला जाता, तो इस फैसले के खिलाफ इस्तीफा दे देता- पी. चिदंबरम

डीएनए के मुताबिक राघव के पिता मनोज चंडाक भी उसकी इस उपलब्धि पर गर्व महसूस कर रहे। मनोज चंडाक ने बताया कि राघव करीब डेढ़ महीने तक अस्तपाल में था। उसके बाद उसे हर महीने केमोथेरेपी के लिए सप्ताहभर अस्पताल में रहना पड़ता था जिससे उसकी प्रतिरोधी क्षमता कमजोर तो हो गयी लेकिन संघर्ष का उसका जज्बा नहीं।

Also Read:  J&K: 'बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ' पोस्टर में इंदिरा गांधी और लता मंगेशकर के साथ अलगाववादी नेता का छपा फोटो

स्कूल ने उसे जरूरत की सारी सहायता उपलब्ध करायी और उससे यह भी कहा कि वह किसी भी मदद के लिए अपने शिक्षकों को सीधे फोन कर सकता है। टाटा मेडिकल सेंटर में जब उसकी केमोथेरेपी चल रही थी तब उसके लिए स्कूल की तरफ से भी नोट्स का इंतजाम किया गया। फूटबाल खेलने के शौकीन राघव का सपना स्कूल के बाद आईआईटी में दाखिला लेने का है।

Also Read:  दिल्ली के 55 में से 43 मैकडॉनल्ड रेस्तरां बंद, मुश्किल में 1700 कर्मचारी, लोगों में छाई मायूसी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here