झूठ साबित हुआ BJP का दावा, विदेश सचिव ने सूचना दी, सेना ने पहले भी किए थे सर्जिकल स्ट्राइक लेकिन पहली बार सरकार ने इस सर्जिकल स्ट्राइक को सार्वजनिक किया

0

संसद की एक समिति को बताया गया कि सेना ने पहले भी नियंत्रण रेखा के पार आतंकवाद विरोधी अभियान चलाया था जो ‘विशिष्ट लक्ष्य वाले सीमित क्षमता के थे’, लेकिन यह पहला मौका है जब सरकार ने इसे सार्वजनिक किया है। यह टिप्पणी रक्षा मंत्री के दावे की विरोधाभासी प्रतीत होती है।

विदेश सचिव एस जयशंकर ने विदेश मामलों से संबंधित संसदीय समिति को यह सूचना दी. सांसदों ने उनसे विशिष्ट रूप से सवाल किया था कि क्या पहले भी सर्जिकल स्ट्राइक (लक्षित हमले) किए गए थे। बैठक में मौजूद सूत्रों के अनुसार, विगत में नियंत्रण रेखा के पार विशिष्ट लक्ष्य वाले, सीमित क्षमता के आतंकवाद विरोधी अभियान चलाए गए थे, लेकिन यह पहला मौका है जब सरकार ने इसे सार्वजनिक किया है।

Photo courtesy: indian express
Photo courtesy: indian express

शीर्ष राजनयिक की टिप्पणी काफी अहम है, क्योंकि रक्षामंत्री मनोहर पर्रिकर ने पिछले हफ्ते कांग्रेस के दावों को खारिज कर दिया था कि यूपीए कार्यकाल में भी लक्षित हमले किए गए थे।

Also Read:  Amit Shah drops big hint, says next govt will function under Parrikar's leadership

सदस्यों ने नाम उजागर नहीं करने की शर्त पर कहा कि जयशंकर ने समिति से यह भी कहा कि 29 सितंबर के लक्षित हमले के बाद भी भारत पाकिस्तान से बातचीत कर रहा है, लेकिन भविष्य की बातचीत तथा इसके स्तर के बारे में कोई कैलेंडर नहीं तैयार किया गया है. उन्होंने कहा कि ऑपरेशन के समाप्त होने के बाद जल्द ही पाकिस्तानी सेना के सैन्य अभियान महानिदेशक (डीजीएमओ) को हमलों के बारे में सूचित कर दिया गया था।

 करीब ढाई घंटे चली बैठक के दौरान सेना के उप प्रमुख ले. जनरल बिपिन रावत ने भी नियंत्रण रेखा के पार आतंकवादियों के ठिकानों पर लक्षित हमले का ब्यौरा दिया।

ये भी पढ़े-‘सर्जिकल स्ट्राइक’ मनमोहन सिंह के कार्यकाल में भी हुए थे पर उन्होने कभी ट्विटर का सहारा लेकर फर्जी श्रेय नही लिया

Also Read:  'पैडमैन' के प्रमोशन के लिए एक्ट्रेस जैकलीन फर्नांडिस ने सेनेटरी पैड को किया ‘खराब’, सोशल मीडिया पर हुई ट्रोल

सरकार के प्रतिनिधियों ने पैनल से कहा कि हमलों ने मकसद को अभी पूरा कर दिया है और पाकिस्तानी प्रतिष्ठान में हमेशा यह संदेह कायम रहेगा कि क्या भारत भविष्य में भी ऐसे अभियान चला सकता है. कांग्रेस के एक सदस्य जानना चाहते थे कि क्या भविष्य में भी ऐसे अभियान चलाए जा सकते हैं. सरकार के प्रतिनिधियों ने कहा कि ‘काफी कुछ सहने के बाद’ हमले किए गए।

ये भी पढ़े-जानिए क्या है ‘सर्जिकल स्ट्राइक’ और कैसे दिया भारतीय सेना ने इसे अंजाम ?

हमले में आतंकवादियों के हताहत होने के बारे में सवाल किए जाने पर अधिकारियों ने कहा कि सेना नियंत्रण रेखा के पार हमले करने गयी थी न कि सबूत एकत्र करने बैठक के दौरान बीजेपी और वाम दल के एक सदस्य के बीच शब्दों का आदान प्रदान हुआ जब हमलों के बाद सांसदों की सुरक्षा का मुद्दा उठाया गया कुछ सदस्यों ने कहा कि बैठक का विषय निजी सुरक्षा नहीं बल्कि राष्ट्रीय सुरक्षा है।

Also Read:  हाई कोर्ट ने केजरीवाल और कीर्ति आज़ाद पर मानहानि के केस में लगाया जुर्माना

ये भी पढ़े-सर्जिकल स्‍ट्राइक की खबर आई तो अरनब हुए ट्रोल ट्विटर यूर्जस ने लिखा- अपने आज के प्राइम टाइम शो में अरनब खुशी से टेबल डांस कर सकते हैं

भाषा की खबर के अनुसार,विशेष सचिव आंतरिक सचिव एम के सिंघला ने अति महत्वपूर्ण लोगों को दी जा रही सुरक्षा के बारे में समिति को सूचित किया बैठक में रक्षा सचिव जी मोहन कुमार और सीमा सुरक्षा बल के महानिदेशक के के शर्मा भी शामिल हुए. कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी भी समिति के सदस्य हैं. एक सदस्य ने कहा कि वह बैठक में शामिल हुए, लेकिन उन्होंने कोई सवाल नहीं पूछा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here