RSS नेता बोले- अयोध्या मामले की देरी के लिए सुप्रीम कोर्ट के दो-तीन जज भी हैं ‘गुनाहगार’

0

राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (RSS) के नेता इंद्रेश कुमार ने अयोध्या मामले में देरी के लिए कांग्रेस, वाम दल और सुप्रीम कोर्ट के दो-तीन जजों को भी जिम्मेदारी ठहराया है। आरएसएस नेता ने आरोप लगाया है कि कांग्रेस व वाम दलों के अलावा सुप्रीम कोर्ट के ‘दो तीन जज’ भी उन गुनहगारों में शामिल हैं जो न्याय में देरी कर अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण में अड़चन डाल रहे हैं। रिपोर्ट के मुताबिक, कुमार ने मंगलवार (15 जनवरी) को पुणे में एक संवाददाता सम्मेलन में यह बात कही।

File Photo: PTI

इंद्रेश कुमार ने दोहराया कि आरएसएस की मांग है कि मंदिर के निर्माण के लिए सरकार अध्यादेश लाए। आरएसएस नेता ने कहा, ‘‘हम सरकार से संसद में चर्चा कराने की अपील करते हैं। हमारा मानना है कि जल्द से जल्द न्याय होना चाहिए।’’ समूचे देश की भावना है कि जितनी जल्दी हो सके भगवान राम के मंदिर का निर्माण होना चाहिए।

उन्होंने प्रेस कॉन्फेंस को संबोधित करते हुए कांग्रेस और अन्य दलों के आरोपों को ‘‘मिथ्या’’ बताकर खारिज कर दिया कि सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) आगामी लोकसभा चुनावों में राजनीतिक लाभ लेने के लिए राम मंदिर के मुद्दे को उठा रही है। आरएसएस से संबद्ध राष्ट्रीय मुस्लिम मंच के अध्यक्ष कुमार कुछ कार्यक्रम में हिस्सा लेने के लिए पुणे आए थे।

आरएसएस नेता ने आरोप लगाया कि राम मंदिर मामले में न्याय में देरी के लिए कांग्रेस और वाम दल असली गुनहगार हैं। कुमार ने कहा, ‘‘तीसरे गुनहगार सुप्रीम कोर्ट के दो-तीन न्यायाधीश हैं, जो देरी करते जा रहे हैं और ऐसे कदमों से मामले में अड़चन आ रही है।’’ उन्होंने दावा किया कि तीन साल पहले शीर्ष अदालत ने साफ कहा था कि वह जमीन मालिकाना मामले में रोजाना की सुनवाई करेगा और जल्द से जल्द फैसला सुनिश्चित करेगा।

बता दें कि अयोध्या मामला फिलहाल सुप्रीम कोर्ट में लंबित है। इस मामले में इलाहाबाद हाई कोर्ट के वर्ष 2010 के आदेश के खिलाफ 14 याचिकाएं दायर हुई हैं। हाई कोर्ट ने इस विवाद में दायर चार दीवानी वाद पर अपने फैसले में 2.77 एकड़ भूमि का सुन्नी वक्फ बोर्ड, निर्मोही अखाड़ा और राम लला के बीच समान रूप से बंटवारा करने का आदेश दिया था। इस फैसले को शीर्ष अदालत में चुनौती दी गई है। (इनपुट पीटीआई के साथ)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here