‘जालसाज’ RSN सिंह रॉ का व्यक्ति नहीं है: पूर्व राॅ अधिकारी RK यादव

0

पैगंबर मुहम्मद (PBUH) का अपमान करने वाली ‘जनता का रिपोर्टर’ पर RSN सिंह पर प्रकाशित रिपोर्ट के कुछ समय बाद ही राॅ के एक पूर्व अधिकारी ने सामने आकर बताया कि RSN सिंह ‘जालसाज’ है और वह राॅ का व्यक्ति नहीं है।

राॅ अधिकारी

RSN सिंह, ‘टाइम्स नाउ’ और ‘रिपब्लिक’ चैनल्स पर किसी डिबेट या शो में अपने धूर्त विचारों को प्रसारित करने के लिए मेहमान बतौर विशेष रूप से आमंत्रित किया जाता है और जिसकी पहचान एक पूर्व राॅ के अधिकारी के रूप में कराई जाती है।

हालांकि इस पर जानकारी देते हुए राॅ के एक पूर्व अधिकारी आर के यादव ने RSN सिंह के दावों को खारिज करते हुए बताया कि वह राॅ का व्यक्ति नहीं है।

राॅ के पूर्व अधिकारी यादव ने ट्विटर पर लिखा, “धोखेबाज RSN सिंह रॉ आदमी नहीं है।”

जबकि इस मामले से बिल्कुल अलग ‘इंडियन एक्सप्रेस’ ने भी अपनी एक पूर्व रिपोर्ट में सिंह के राॅ से जुड़ा होने पर खबर प्रकाशित की थी जिसमें उसका राॅ से कोई ताल्लुक न होने का जिक्र था साथ ही साथ यह भी बताया गया था कि यह व्यक्ति पाकिस्तान विरोधी और इस्लाम विरोधी विचारों के लिए जाना जाता है, जिसका रॉ से कोई सम्बंध नहीं हैं।

इस ‘जालसाज’ व्यक्ति RSN सिंह के बारें में इस जानकारी को भी आर के यादव ने ट्वीट कर शेयर किया। जबकि टीवी डिबेट में पैगंबर मुहम्मद (PBUH) का अपमान करने वाले RSN सिंह के बारें में बताया गया कि यह वास्तव में,  राॅ से नहीं बल्कि सेना जुड़ा हुआ था और उन्हें एजेंसी ने संक्षिप्त कार्यकाल के लिए नियुक्त किया था। उन्हें कभी पाकिस्तान डेस्क नहीं सौंपा गया था लेकिन बांग्लादेश सेना की देखभाल करने के लिए उन्हें रखा गया था। उन्होंने दो साल का कार्यकाल भी पूरा नहीं किया, यह जानकारी IE की रिपोर्ट में सामने आई थी।

आपको बता दे कि पैगंबर मुहम्मद (PBUH) का अपमान करने वाली RSN सिंह की टिप्पणियों पर ‘टाइम्स नाउ’ की ‘डिबेट’ पर ‘जनता का रिपोर्टर’ द्वारा खबर प्रकाशित करने के कुछ देर बाद ही चैनल ने इस पर अफसोस जाहिर करते हुए सिंह के बयान की भर्त्सना की थी।

अपने बयान में खेद व्यक्त करते हुए, चैनल के मुख्य संपादक राहुल शिवशंकर ने कहा, यह मेरे संज्ञान में लाया गया है कि ‘टाइम्स नाउ’ की एक डिबेट में तीखी बहस के दौरान एक पैनलिस्ट ने पैगंबर (PBUH) का अपमान किया गया। मैं सदैव एकता का घोर सर्मथक रहा हूं। मेरे सम्मुख इस तरह का प्रयास एक घृणित कार्य है, इसलिए मैं खुद को इससे अलग करता हूं और इस प्रकार की टिप्पणी पर अफसोस व्यक्त करता हूं।

आपको बता दे कि ‘टाइम्स नाउ’ की इस हालिया डिबेट में राॅ के पूर्व अधिकारी आर एस एन सिंह पैगंबर मुहम्मद (PBUH) का अपमान करते हुए दिखाई दे रहे थे। यह वीडियो सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर तेजी के साथ वायरल हो गया था जिससे बाद मुस्लिम वर्ग में काफी गुस्सा और रोष व्याप्त हो गया।

वीडियो में देखा जा सकता है कि टाइम्स नाउ के एक नियमिक पैनलिस्ट के तौर पर सिंह अपने कट्टरपंथी विचारों के साथ कश्मीर, पाकिस्तान और मुस्लिम विरोधी मुद्दों पर चर्चा करते हुए इस्लाम धर्म में सबसे अधिक सम्मानित और खुदा के बाद लिया जाने वाले नाम के प्रति अपमानजनक भाषा का प्रयोग करते है।

इसके बाद वह पैगंबर (PBUH) की श्रद्धेय पत्नी के बारे में अपमानजनक बोलते हुए तथ्यात्मक तौर पर गलत टिप्पणियां करना शुरू कर देता है। फिर वह इस्लाम में खलीफाओं में से एक हजरत अली को हत्या के आरोप से जोड़ते हुए गलत जानकारियां देने लगता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here