उद्योगपति आदि गोदरेज ने कहा- ‘देश में बढ़ती असहिष्णुता और घृणित अपराध की घटनाओं का विकास पर होगा गंभीर असर’

0

गोदरेज ग्रुप के चेयरमैन और प्रसिद्ध उद्योगपति आदि गोदरेज ने शनिवार (13 जुलाई) को चेताया कि देश में बढ़ती असहिष्णुता, घृणित अपराध और नैतिकता के नाम पर पहरेदारी वाली घटनाएं राष्ट्र के आर्थिक विकास को “गंभीर नुकसान” पहुंचा सकती हैं। हालांकि, गोदरेज ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अपने दूसरे कार्यकाल के दौरान नए भारत का निर्माण और अर्थव्यवस्था का आकार लगभग दोगुना कर 5,000 अरब डॉलर तक पहुंचाने की ‘‘वृहद दूरदृष्टि’’ के लिए उन्हें बधाई दी है।

File Photo: Forbes India

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक, गोदरेज ने इसके साथ ही यह भी कहा कि देश में सब कुछ ठीक नहीं है। उन्होंने सामाजिक मोर्चे पर उभरी चिंताओं की ओर इशारा करते हुए आर्थिक विकास पर पड़ाने वाले उनके दुष्प्रभाव को लेकर चेतावनी दी है।

उन्होंने ने सेंट जेवियर कॉलेज की 150 वीं वर्षगांठ मनाने के लिए आयोजित एक सभा को संबोधित करते हुए चेतावनी दी और कहा, “सब कुछ ठीक ठाक है ऐसा नहीं है। हमें बड़े पैमाने पर बढ़ती साधनहीन बनाने की प्रवृति को नजरअंदाज नहीं करना चाहिए जो आगे चलकर हमारी विकास गति को गंभीर नुकसान पहुंचा सकता है तथा हमें अपनी क्षमताओं का पूरा दोहन करने से रोक सकती है।’’

देश के इस प्रमुख उद्योगपति ने इस बात को लेकर भी आगाह किया कि सामाजिक समरसता बढ़ाने के लिए देश में “बढ़ती असहिष्णुता, सामाजिक अस्थिरता, घृणा-अपराध, महिलाओं के खिलाफ हिंसा, नैतिक पहरेदारी, जाति और धर्म आधारित हिंसा और कई अन्य तरह की असहिष्णुता दूर नहीं किया गया तो आर्थिक विकास प्रभावित होगा।” उन्होंने कहा कि बेरोजगारी 6.1 प्रतिशत के चार दशक के उच्चतम स्तर पर है और इस समस्या का जल्द से जल्द निदान ढूंढा जाना चाहिये।

उन्होंने कहा कि “बड़े पैमाने पर” जल संकट, पर्यावरण को नुकसान पहुंचाने वाले प्लास्टिक के बढ़ते उपयोग और चिकित्सा सुविधाओं का पंगु होना, देश में स्वास्थ्य देखभाल का खर्च समकालीन उभरते देशों की तुलना में बहुत कम रहना कुछ ऐसे मुद्दे हैं जिनसे युद्ध स्तर पर निपटा जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि कई मुद्दों को बुनियादी स्तर पर सुलझाया जाना चाहिए। उन्होंने चेतावनी दी कि ऐसा किए बिना देश अपनी वास्तविक विकास क्षमता हासिल नहीं कर सकता है।

मॉब लिंचिंग की बढ़ती घटनाओं के बीच काफी महत्वपूर्ण है गोदरेज की यह टिप्पणी

गोदरेज की यह टिप्पणी झारखंड और मुंबई उपनगर सहित देश के विभिन्न हिस्सों में धर्म अथवा गाय सुरक्षा के नाम पर मुस्लिम समुदाय के लोगों को पीट पीटकर मार डालने वाली घटनाओं के संदर्भ में देखी जा रही है। हाल के दिनों में गोरक्षा के नाम पर देश के कई हिस्सों में मुस्लिम समुदाय को निशाना बनाए जाने की घटना सामने आई है। झूठी अफवाहों के चलते भीड़ ने मुस्लिम समुदाय के कई लोगों को मौत के घाट उतारा है।

हाल ही में झारखंड के सरायकेला खरसावां में तबरेज अंसारी नाम के एक युवक पर चोरी का आरोप लगाकर ग्रामीणों द्वारा बेरहमी से पिटाई की गई, जिसके बाद अस्पताल में इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई। घटना की एक वीडियो के मुताबिक, कुछ लोग तबरेज से जबरदस्ती ‘जय श्री राम’ के नारे लगवा रहे हैं। यह खबर भारत सहित पूरे विश्व भर में सुर्खियों में रहा।

इसके अलावा मुंबई उपनगरीय इलाके में हाल ही में एक मुस्लिम कैब ड्राइवर पर उसकी आस्था के नाम पर हमला किया गया। वहीं, राजस्थान में मॉब लिंचिंग का एक चौंकाने वाला मामला सामने आया है। कांग्रेस शासित राजस्थान के राजसमंद जिले में राज्य पुलिस के एक मुस्लिम हेड कांस्टेबल की शनिवार (13 जुलाई) को कुछ लोगों ने पीट-पीट कर हत्या कर दी। भीलवाड़ा के जहाजपुर इलाके के रहने वाले 48 वर्षीय अब्दुल गनी राजसमंद के भीम पुलिस स्टेशन में तैनात थे।

गोदरेज ने हालांकि, एक नए भारत के निर्माण की एक नई दृष्टि की शुरुआत करने के लिए प्रधानमंत्री को बधाई दी, उन्होंने कहा ‘‘हम एक ऐसे भारत की उम्मीद करते हैं जहां भय और संदेह का माहौल नहीं हो और राजनीतिक नेतृत्व पर जवाबदेह होने का भरोसा कर सकें।” (इनपुट- भाषा के साथ)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here