कपिल के आरोपों पर रिफत जावेद ने न्यूज-24 पर कहा- अगर मैं केजरीवाल होता तो मिश्रा पर मानहानि का केस करता

0

दिल्ली सरकार से हटाए जाने के एक दिन बाद रविवार(7 मई) को AAP विधायक कपिल मिश्रा ने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन पर भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप लगाए। मिश्रा ने राजघाट पर कहा कि उन्होंने जैन को केजरीवाल के आधिकारिक आवास पर उन्हें 2 करोड़ रुपये नगद सौंपते हुए देखा। उनके मुताबिक जब उन्होंने इसके बारे में पूछा तो मुख्यमंत्री ने कहा कि राजनीति में कुछ चीजें बताई नहीं जा सकतीं।

मिश्रा ने कहा कि केजरीवाल में पूरा विश्वास होने की वजह से मैं चुप था। परसों(5 मई) मैंने देखा कि जैन केजरीवाल को दो करोड़ रुपये नकद दे रहे हैं। केजरीवाल ने कहा कि राजनीति में कुछ चीजें होती हैं। केजरीवाल को जैन की ओर से इतनी बड़ी राशि देते हुए देखने के बाद मुझे सामने आना पड़ा। मैंने उप राज्यपाल अनिल बैजल को पूरा ब्यौरा सौंप दिया है।

उन्होंने कहा कि अगर जरूरी हुआ तो मैं सीबीआई और भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो के सामने बयान देने के लिए तैयार हूं। साथ ही मिश्रा ने आरोप लगाया कि जैन ने मुझे बताया था कि उन्होंने केजरीवाल के रिश्तेदार का 50 करोड़ रुपये का भूमि सौदा कराया है। केजरीवाल पर भ्रष्टाचार का आरोप लगने के बाद अब सभी राजनीतिक पार्टियों, पत्रकारों सहित अन्य लोगों की प्रतिक्रियाएं आ रही है। 

कपिल मिश्रा के आरोपों पर ‘जनता का रिपोर्टर’ के प्रधान संपादक और वरिष्ठ पत्रकार रिफत जावेद कहा कि अगर मैं केजरीवाल की जगह होता तो सबसे पहले कपिल मिश्रा पर मानहानि का केस करता। न्यूज-24 पर डिबेट के दौरान उन्होंने कहा कि कपिल ने शनिवार को ट्वीट कर दावा किया था कि वह टैंकर घाटाले को लेकर बड़ा खुलासा करेंगे, लेकिन आज यह 2 करोड़ कैश में तब्दील हो गया।

रिफत ने कहा कि मैं नहीं मानता हूं कि कपिल मिश्रा को उनके कामकाज की वजह से हटाया गया है। उन्होंने कहा कि अगर ऐसा होता तो हमने एक साल पहले ही दिल्ली में पानी की हालात को जोर शोर से उठाया था, लेकिन आम आदमी पार्टी ने उस समय हमारे ऊपर ही सवाल दिए।

जावेद ने कहा कि ऐसा नहीं है कि पहले कपिल का प्रदर्शन बहुत अच्छा था और आज इतनी खराब भी नहीं हो गई कि जैसा दावा किया गया है। उन्होंने कहा कि पानी की स्थिती पहले भी खराब थी और यह कोई अचानक नहीं हुआ है। उन्होंने कहा कि दरअसल, पिछले कुछ दिनों से आम आदमी पार्टी में अलग-अलग खेमा बन गया था।

रिफत ने कहा, जहां तक मुझे लग रहा है कि कुमार विश्वास के समर्थन में कपिल मिश्रा ने जो बयान दिया उन्हें उसी वजह से हटाया गया है। लेकिन मेरा मानना है कि अगर यह सच है तो केजरीवाल ने गलत फैसला लिया है। उन्होंने कहा कि अगर मैं केजरीवाल होता तो सबसे पहले कपिल मिश्रा पर मानहानि का केस करता। क्योंकि इससे बेहतर कोई भी तरीका नहीं है कपिल के आरोपों का जवाब देने के लिए।

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here