नहीं रहे अपनी बेटी को गोद में लेकर रिक्शा चलाने वाले बबलू, तन्हा हुई मासूम

0

कुछ साल पहले बबलू नाम के रिक्शा चालक की एक तस्वीर वायरल हुई थी, इस तस्वीर में बबलू एक हाथ से रिक्शा खींचते थे और एक हाथ में उनकी प्यारी बेटी दामिनी रहती थी। बिन मां की अपनी मासूम बच्ची की जिम्मेदारियों का बोझ उठाते उठाते अपनी उम्र से पहले ही उम्रदराज नजर आने वाले बबलू अब इस दुनिया में नहीं रहे।राजस्थान के भरतपुर में बबलू की तस्वीर ऐसी वायरल हुई की पूरी दुनिया उसे सलाम करने लगी। दरअसल, वर्ष 2012 में बच्ची को जन्म देते ही बबलू की पत्नी और मासूम दामिनी की मां अस्पताल में इस दुनिया से चल बसी। जिसके बाद दामिनी की परवरिश का भार रिक्शा चलाकर जीवन यापन कर रहे बबलू पर आ गया।

पिता बबलू को अपनी बेटी को गले में लटकाए रिक्शा चलाना पड़ता था। वो जब रिक्शा लेकर निकलते तो मासूम दामिनी को भी बांहों का झूला बना लेते थे, लेकिन अब यह पिता भी अपनी बेटी को तन्हा छोड़कर मंगलवार(27 जून) को इस दुनिया से चल बसा। रिक्शा चालक बबलू का शव मंगलवार को बदहोश हालत में एक कमरे में पड़ा मिला।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, ऐसा कहा जा रहा है कि बबलू की मौत 7-8 दिन पहले ही हो चुकी थी। शव से बदबू आने पर लोगों को इसका पता लगा। पुलिस की माने तो ज्यादा शराब पीने की वजह से बबलू की असमय मौत हो गई। बबलू की असमय हुई मौत से अब पांच साल की मासूम दामिनी फिर तन्हा हो गई है।

जब बबलू और दामिनी की खबरें मीडिया में आई तो मदद के लिए इतने हाथ उठे कि उस नन्हीं परी के लिए लगभग 18 लाख रुपए जमा हो गए। उसके बाद भी सहायता का सिलसिला थमा नहीं। कुछ महीने पहले तक मासूम दामिनी के लिए 23 लाख रुपये तक जमा हो चुके थे। यह राशि दामिनी के नाम से बैंक में जमा है, ताकि उसका भविष्य सवांरने में मदद मिले।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here