भ्रष्टाचार के आरोप में CBI ने हाईकोर्ट के रिटायर्ड जज सहित 5 को किया गिरफ्तार

0

उत्तर प्रदेश की राजधानी में स्थित एक मेडिकल कालेज में एडमीशन में भारी अनिमितता के मामले में केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने ओडिशा हाईकोर्ट के रिटायर्ड चीफ जस्टिस इशरत मशरूर कुद्दूसी सहित पांच अन्य लोगों को गिरफ्तार कर लिया है। इससे एक दिन पहले सीबीआई ने बुधवार (20 सितंबर) को रिटायर्ड जज समेत पांच लोगों के खिलाफ भ्रष्टाचार के मामले में एफआईआर दर्ज की थी। बता दें कि सुप्रीम कोर्ट में मेडिकल कॉलेज में दाखिले का यह मामला चल रहा है।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, इस मामले में जज के अलावा गिरफ्तार हुए अन्य व्यक्तियों में लखनऊ में मेडिकल कॉलेज चलाने वाले प्रसाद एजुकेशनल ट्रस्ट के बीपी यादव और पलाश यादव, एक बिचौलिया विश्वनाथ अग्रवाल और हवाला कारोबारी रामदेव सारस्वत शामिल हैं। रिपोर्ट के अनुसार, गिरफ्तार किए गए आरोपियों को आज अदालत में पेश किया जाएगा।

इससे पहले बुधवार को सीबीआई प्रवक्ता अभिषेक दयाल ने कहा कि गोपनीय सूचना के आधार पर सीबीआई ने एक व्यक्ति को एक निजी मेडिकल कॉलेज से रिश्वत के रूप में मिली एक करोड़ रुपये की रकम के साथ पकड़ा। उन्होंने बताया था कि उसी मामले में सीबीआई ओडिशा हाईकोर्ट के एक सेवानिवृत्त न्यायाधीश के साथ अन्य लोगों की भूमिका की जांच कर रही है।

प्रवक्ता ने बताया कि जांच के दौरान सीबीआई टीम मंगलवार की रात कई स्थानों पर गई। इसमें ओडिशा हाईकोर्ट के पूर्व जज के पुराने और वर्तमान पते पर भी सीबीआई टीम गई। उन्होंने बताया कि इस दौरान सीबीआई टीम अभियोगात्मक दस्तावेज और नकदी बरामद करने के लिये स्वतंत्र गवाहों के साथ पूर्व जज के सेवानिवृत्त न्यायाधीश के कटक स्थित पूर्व आवास पर भी गई।

उन्होंने बताया कि गेट पर पहुंचने पर सीबीआई टीम को बताया गया कि सेवानिवृत्त न्यायाधीश अब वहां नहीं रहते हैं। सीबीआई तत्काल वहां से रवाना हो गई और स्थानीय पुलिस को इस बारे में बताया। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, इस मामले में बुधवार को सीबीआई ने देशभर में नौ जगह छापे मारे।

क्या है मामला?

जांच एजेंसी द्वारा दिल्ली में दर्ज एफआईआर के मुताबिक, यह मेडिकल कॉलेज देश के उन 46 मेडिकल कॉलेजों में से एक है, जिनमें मानकों की कमी के कारण केंद्र सरकार ने प्रवेश पर रोक लगाई है। कॉलेज में प्रवेश रोके जाने के आदेश के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में याचिका भी दायर की गई थी। कॉलेज के पक्ष में आदेश कराने के लिए दोनों ने एक व्यक्ति को एक करोड़ रुपये घूस दी थी। इसे बुधवार को सीबीआई ने गिरफ्तार किया।

इस संबंध में सीबीआई ने रिटायर जज व कॉलेज संचालकों समेत छह लोगों को आरोपी बनाया है। इसी मुकदमे के सिलसिले में सीबीआई ने साक्ष्य जुटाने के लिए बुधवार को छापेमारी की। इसमें कई महत्वपूर्ण दस्तावेज मिले हैं।सीबीआई के मुताबिक कथित तौर पर पूर्व जज ने अपने संपर्कों के आधार पर सुप्रीम कोर्ट में केस को रफा-दफा कराने को कहा था। इसी के एवज में भारी राशि की मांग की गई थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here