जानलेवा हुई नोटबंदी: रिटायर्ड IAS के 10 करोड़ रुपये बदलवाने के दबाव में चीनी मिल के पूर्व मैनेजर ने खुद को गोली मारी

0

उत्तर प्रदेश के शामली जिले के एक गांव में एक सेवानिवृत्त आईएएस अधिकारी के 10 करोड़ रुपये के पुराने नोट बदलवाने के दबाव में चीनी मिल के पूर्व प्रबंधक (मैनेजर) ने कथित रूप से खुद को गोली मारकर खुदकुशी कर ली। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक मैनेजर की मौत के बाद मिले सुसाइड नोट से खुलासा हुआ है कि वो नोटबंदी के समय करोड़ो रूपये न बदलने के दबाव में था। उपनी मौत का जिम्मेदार उसने एक पूर्व आईएस को ठहराया है।

Also Read:  Demonetisation: Sporadic violence in Delhi, cops receive 4.5K calls

डाक विभाग

समाचार एजेंसी भाषा के मुताबिक अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक (एएसपी) श्लोक कुमार ने बताया कि आदर्श मंडी थाना क्षेत्र के बधेव गांव में कल शाम यह घटना हुई। उन्होंने बताया कि मृतक विजय सिंह (51) ने सुसाइड नोट में अपने एक रिश्तेदार और सेवानिवृत्त आईएएस विनोद कुमार पवार पर नोटबंदी के बाद प्रचलन से बाहर हो चुके नोटों को बदलवाने के लिए दबाव बनाने का आरोप लगाया है।

एएसपी ने बताया कि सुसाइड नोट के मुताबिक, विजय सिंह पूर्व में सेवानिवृत्त आईएएस पवार के 50 लाख रुपये के नोटों को बदलवाने में मदद की थी। सिंह ने पवार पर अपनी मां की जमीन के एक टुकड़े को जबरन हथियाने का आरोप भी लगाया है।

Also Read:  Morale of Army has gone up, eager to teach lesson to enemy: Manohar Parrikar

कुमार ने बताया कि पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है। खुदकुशी के लिए इस्तेमाल पिस्तौल को जब्त कर लिया गया है और सुसाइड नोट को सत्यापन के लिए हस्तलेख विशेषज्ञों को भेजा गया है। गाजियाबाद निवासी पवार मुजफ्फरनगर में अतिरिक्त जिला अधिकारी और बिजनौर में जिला अधिकारी के पद पर रह चुके हैं।

Also Read:  बोको हराम के कब्जे से निकली लड़कियों ने बयां किया दर्द, 40 दिन तक रहीं भूखी

बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आठ नवंबर 2016 को 500 और 1000 रुपये के पुराने नोटों को प्रचलन से बाहर करने की घोषणा की थी। प्रधानमंत्री की इस घोषणा से 86 फीसदी नोट व्यवस्था से बाहर हो गए थे। बिना किसी तैयारी के उठाए गए इस कदम के साइड इफेक्ट्स देश की आम जनता को आज भी बुरी तरह भुगतने पड़ रहे हैं।

Pizza Hut

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here