“रिपब्लिक टीवी के रिपोर्टर ने मुंह पर माइक से मारा”: कांग्रेस की महिला नेता प्रिया जयंत का आरोप, वीडियो वायरल

0
6
रिपब्लिक टीवी

उत्तर प्रदेश के हाथरस जिले में 19 वर्षीय दलित लड़की के साथ कथित सामूहिक दुष्कर्म और उसकी मौत के मामले को लेकर विरोध प्रदर्शन कर रही महिला कांग्रेस की नेता प्रिया जयंत ने रिपब्लिक टीवी के रिपोर्टर पर अभद्रता और मारपीट का आरोप लगाया है। प्रिया जयंत ने आरोप लगया कि, रिपोर्टर ने उनके चेहरे पर माइक से मारा है जिस वजह से उन्हें चोट भी आई है।

रिपब्लिक टीवी

दरअसल, ऑल इंडिया महिला कांग्रेस ने एक वीडियो ट्वीट किया है जिसमें महिला इकाई की नेता प्रिया जयंत ने आरोप लगाया है कि रिपब्लिक टीवी चैनल के रिपोर्टर ने उन्हें माइक से मारा है। इस वीडियो में उनके होंठ से खून भी बहता हुआ दिखाई दे रहा है। वीडियो में देखा जा सकता है की वहां मौजूद महिलाओं ने मोदी सरकार और रिपब्लिक टीवी के विरोध में नारे लगाने शुरू कर दिए।

सोशल मीडिया पर यह वीडियो अब खूब वायरल हो रहा है, इसके साथ ही लोग रिपब्लिक टीवी की और उनके रिपोर्टर की जमकर आलोचना कर रहे हैं। ऑल इंडिया महिला कांग्रेस के इस वीडियो को शेयर करते हुए अपने ट्वीट में लिखा, “हमारी पदाधिकारी प्रिया जयंत को मोदी सरकार के पालतू रिपब्लिक चैनल के पत्रकार ने पीटा और घायल कर दिया।”

वीडियो पर कमेंट करते हुए एक यूजर ने लिखा, “उस रिपोर्टर की पहचान किजिए अथवा रिपब्लिक चैनल का बहिष्कार किजिए। आप कमजोर नहीं हैं आपकी नेता प्रियंका गांधी ने साफ संदेश दिया है कि कार्यकर्ताओं का महत्व पहले है।” एक अन्य यूजर ने लिखा, “समय आने पर गोदी मीडिया को अपनी औकात पता चल जाएगी। अगर राजनीति ही करनी है तो सीधे आ जाओ गोदी मीडिया। शर्म करो गोदी मीडिया।”

उत्तर प्रदेश के हाथरस रेप कांड ने पूरे देश को झकझोर कर रख दिया है। हाथरस में गैंगरेप पीड़ित लड़की की मौत के बाद से राजनीति जारी है। वहीं, इस पर राजनेताओं का बयान देने का सिलसिला भी लगातार जारी है। इस बीच, यूपी सरकार ने इस मामले में शनिवार को सीबीआई जांच की सिफारिश की। वहीं, दूसरी तरफ, कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने हाथरस पहुंचकर पीड़िता के परिवार से मुलाकात कर ढांढस बंधाया और कहा कि वे न्याय के लिए लड़ेंगे।

हाथरस

गौरतलब है कि, गत 14 सितम्बर को हाथरस में चार युवकों ने 19 वर्षीय दलित लड़की से कथित तौर पर सामूहिक बलात्कार किया था। मंगलवार सुबह दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में पीड़िता की मौत हो गई, जिसके बाद बुधवार तड़के उसके शव का अंतिम संस्कार कर दिया गया। पीड़िता के परिजनों का आरोप है कि पुलिस ने उन्हें रात में ही अंतिम संस्कार करने के लिए बाध्य किया। बहरहाल, स्थानीय पुलिस का कहना है कि ‘‘परिवार की इच्छा के मुताबिक’’ अंतिम संस्कार किया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here