रवीश कुमार ने ‘गोदी मीडिया’ पर फिर निकाली भड़ास, कहा- ‘गोदी में खेलती हैं इसकी हज़ारों मीडिया’

0

पिछले दिनों NDTV के सह-संस्थापक और कार्यकारी सह-अध्यक्ष प्रणय रॉय के आवास पर केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) की छापेमारी पर वरिष्ठ पत्रकार रवीश कुमार ने अपने फेसबुक वॉल पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए लिखा था कि ‘तो आप डराइये, धमकाइये, आयकर विभाग से लेकर सबको लगा दीजिये। ये लीजिये हम डर से थर थर कांप रहे हैं। सोशल मीडिया और चंपुओं को लगाकर बदनामी चालू कर दीजिये, लेकिन इसी वक्त में जब सब ‘गोदी मीडिया’ बने हुए हैं, एक ऐसा भी है जो गोद में नहीं खेल रहा है।’रवीश कुमारउस वक्त रवीश कुमार का यह पोस्ट सोशल मीडिया पर वायरल हो गया था। अब एक बार फिर रवीश कुमार ने बुधवार(19 जुलाई) को ‘गोदी मीडिया’ पर अपनी भड़ास निकाली है। दरअसल, प्रतिष्ठित शोध मैगजीन इकोनॉमिक एंड पोलिटिकल वीकली (EPW) के संपादक परंजय गुहा ठाकुरता ने इस्तीफा दे दिया है। द वायर की रिपोर्ट के अनुसार ठाकुरता ने ये इस्तीफा अडानी समूह द्वारा पत्रिका को भेजे गए कानूनी नोटिस के बाद दिया है।

रिपोर्ट के मुताबिक, ठाकुरता ने उद्योपति गौतम अडानी की कंपनी अदानी पावर लिमिटेड के लेकर EPW में दो रिपोर्ट छापी। एक रिपोर्ट थी कि कैसे एक हज़ार करोड़ की कर वंचना की गई है और दूसरी कि कैसे सरकार ने 500 करोड़ का फायदा पहुंचाया। जिसके बाद अदानी ग्रुप ने पत्रिका को मानहानि का नोटिस भेजते हुए कहा कि दोनों रिपोर्ट हटा दें।

जिसके बाद ईपीडब्ल्यू का संचालन करने वाले समीक्षा ट्रस्ट की दिल्ली में हुई संपादकीय बोर्ड की बैठक में अडानी पावर लिमिटेड द्वारा उल्लिखित खबरों को हटाने का फैसला किया गया। ये दोनों लेख ठाकुरता समेत चार पत्रकारों ने मिलकर लिखे थे। इस बैठक के बाद ही ठाकुरता ने संपादक पद से इस्तीफा दे दिया।हालांकि, द वायर पर अभी भी दोनों स्टोरी मौजूद है और द वायर का साफ तौर पर कहना है कि वह इसे नहीं हटाएंगे।

पढ़ें, रवीश कुमार की पूरी फेसबुक पोस्ट-

परॉन्जॉय गुहा ठाकुर्ता ने अदानी पावर लिमिटेड के लेकर EPW में दो रिपोर्ट छापी। एक रिपोर्ट थी कि कैसे एक हज़ार करोड़ की कर वंचना की गई है और दूसरी कि कैसे सरकार ने 500 करोड़ का फायदा पहुँचाया। अदानी ग्रुप ने मानहानि का नोटिस भेज दिया और कहा कि दोनों रिपोर्ट हटा दें। EPW को संचालित करने वाले समीक्षा ट्रस्ट ने कहा कि दोनों रिपोर्ट हटा दें। परॉन्जॉय गुहा ठाकुर्ता ने मना कर दिया और इस्तीफ़ा दे दिया। The Wire पर दोनों स्टोरी है और वायर का कहना है कि नहीं हटायेंगे।

आप दोनों रिपोर्ट को पढ़ें और ज़ोर ज़ोर से गायें- गोदी में खेलती हैं इसकी हज़ारों मीडिया।

गोदी मीडिया ही आप पाठकों की नियति है। जनता सत्ता कारपोरेट कुटुंब चुनती रहेगी। अकेला पत्रकार जोखिम उठाता रहेगा। मारा जाता रहेगा। बहस चलती रहेगी। ये सूचना हिन्दी में इसलिए दी कि हिन्दी के अख़बारों की अब औकात नहीं रही। वे आहत ज़रूर हो जायेंगे और गिनाने लगेंगे कि हमने ये किया वो किया। जबकि ये वो के अलावा यही किया कि रोज़ छपते रहे और आप पैसे देते रहे। अखबारों को भी पता है कि गोदी मीडिया ही सच्चाई है। यह जानकर आप पर क्या फर्क पड़ेगा, हम नहीं जानते। द वायर की स्टोरी का लिंक दे रहा हूँ। वायर हिन्दी में भी है।

नोटिस भेजकर डराने का चलन ज़्यादा हो गया है। मानहानि की आड़ में ताक़तवर खेल खेल रहे हैं। कोई इन खूंखार वकीलों के आगे कैसे टिकेगा। केस मुक़दमा लड़ने के लिए कहाँ से पैसे लायेगा। इस डर के कारण ही कोई कारपोरेट पर सवाल नहीं उठाता है। ठाकुर्ता उन विरले पत्रकारों से हैं जो कारपोरेट और सरकार के जटिल खेल को समझते थे और भांडाफोड़ कर देते थे। अब वे भी हटा दिये गए। भारत की आम जनता तक तो ये पोस्ट पहुँचेगा नहीं। किसी को पता भी नहीं चलेगा कि एक आवाज़ कुचल दी गई।

सवाल ठाकुर्ता का नहीं है। आपका ही है। जो युवा नौकरी और तमाम सवालों को लेकर मीडिया हाउस के बाहर घूम रहे हैं, उन्हें अब किसी वकील के पास जाना चाहिए। पूछना चाहिए कि आपके पास कोई नोटिस है जिसे भेज कर मीडिया हाउस से कह सकें कि ये ख़बर आपने क्यों नहीं छापी? पत्रकारिता को दब्बू बनाने में जनता क्यों साथ दे रही है? वो क्यों चुप है? क्या वो मरना ही चाहती है?

जनता को परेशान होने की ज़रूरत नहीं है। हिन्दू मुस्लिम विवाद के नए नए संस्करण लाँच होते रहेंगे। वो उसमें उलझ कर मौज करे। जब जनता ही पत्रकारों का साथ नहीं देगी तो पत्रकार क्या करे।

Satyagrah, newslaundry, scroll, wire और altnews की साइट पर जाते रहिए। पता नहीं ये भी कब तक रहेंगे। कोई केस मुक़दमा या संपादकों पत्रकारों पर छेड़खानी का आरोप लगाकर फिक्स करने की योजना बन ही गई होगी। फिर इनकी ख़बरों से आप हिन्दी अख़बारों के स्तर को मिलाते भी रहिए। काफी कुछ सीखेंगे। चैनल तो कूड़ा बन ही गए हैं।

जय हिन्द । जय भारत। जय गोदी मीडिया । ये नारा लगाते हुए ज़मीन पर साँप की तरह लोटिए। मुक्ति मिलेगी।

कमेंट बाक्स में वायर की स्टोरी का लिंक दिया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here