CWG 2018: खिलाड़ियों के शानदार प्रदर्शन को राजनीति से जोड़ ट्रोल हुए राज्यवर्धन सिंह राठौर, कीर्ति आजाद ने पूछा- जब आप सिल्वर जीते थे तो किस पार्टी का प्रतिनिधित्व कर रहे थे?

0

ऑस्ट्रेलिया के गोल्ड कोस्ट में चल रहे कॉमनवेल्थ गेम्स 2018 में भारतीय खिलाड़ियों का शानदार प्रदर्शन जारी है। खबर लिखे जाने तक कॉमनवेल्थ खेलों की पदक तालिका में भारतीय टीम चौथे स्थान पर है। भारत ने सात स्वर्ण, दो रजत और तीन कांस्य पदक जीते हैं। इन सात में से पांच स्वर्ण भारत के भारोत्तोलकों ने जीते हैं और एक स्वर्ण निशानेबाजी और एक टेबल टेनिस की स्पर्धा में मिला है।

File Photo: PTI

इस बीच खिलाड़ियों के शानदार प्रदर्शन को लेकर अब राजनीति भी शुरू हो गई है। भारत के युवा मामले और खेल राज्य मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौर ने कथित तौर पर खेल महासंघों को एक ई-मेल भेजकर कांग्रेस के नेतृत्व वाली यूपीए सरकार और बीजेपी के नेतृत्व वाली एनडीए सरकार के दौरान खिलाड़ियों द्वारा जीते गए पदकों की जानकारी मांगी है, ताकी दोनों सरकारों के दौरान खिलाड़ियों के प्रदर्शन की तुलना की जा सके। खिलाड़ियों को प्रदर्शन को कथित राजनीतिक तुलना करने को लेकर लोगों ने आलोचना की है।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मनीष तिवारी ने इसे शर्मनाक करार दिया है। तिवारी ने ट्वीट कर लिखा है, ‘क्या यह बड़े पैमाने पर खेल का राजनीतिकरण नहीं है। राज्यवर्धन सिंह राठौर के कार्यालय का नीचे का मेल पढ़ें। पूछा गया है कि यूपीए की तुलना में पिछले चार साल में भारत ने कितने मेडल जीते। खिलाड़ी भारत के लिए मेडल जीतते हैं न कि एनडीए, बीजेपी या फिर यूपीए के लिए। शर्मनाक।’

मनीष तिवारी ने खेल मंत्रालय द्वारा खेल महासंघों को भेजे गए उस मेल को भी ट्वीट किया है जिसमें कथित तौर पर यूपीए और एनडीए के दौरान खिलाड़ियों द्वारा जीते गए पदकों की तुलना करने को कहा गया है। वहीं भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) से निलंबित सांसद व पूर्व क्रिकेटर कीर्ति आजाद ने भी केंद्रीय मंत्री पर निशाना साधा है।

मनीष तिवारी के ट्वीट को कोट करते हुए कीर्ति आजाद ने राज्यवर्धन सिंह राठौर को टैग करते हुए पूछा है कि जब आप ओलंपिक में सिल्वर पदक जीते थे तो किस पार्टी का प्रतिनिधित्व कर रहे थे? उन्होंने बतौर खिलाड़ी बोलते हुए कहा कि हम देश का प्रतिनिधित्व करते हैं न कि राजनीतिक दल का। कितना शर्मनाक है ये सब।

कीर्ति आजाद के इस ट्वीट पर जवाब देते हुए मनीष तिवारी ने लिखा है कि, ‘प्रिय कीर्ति आजाद, यह समय आप जैसे खिलाड़ियों को आगे आकर इसका विरोध करना चाहिए। अब खेल और खिलाड़ियों का भी ध्रुवीकरण करने की कोशिश हो रही है। समाज पर इसका क्या असर पड़ेगा।’

इसके अलाव सोशल मीडिया यूजर्स भी केंद्रीय मंत्री को निशाने पर ले रहे हैं। देखिए लोगों की प्रतिक्रियाएं:-

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here