आर्थिक विकास दर गिरने की खबर चलाने पर संजय सिंह का टाइम्स नाउ पर तंज, “कुछ चटखारेदार ‘हिन्दू-मुसलमान’ चलाओ, कहां GDP में उलझे हो”, सिसोदिया ने भी साधा निशाना

0

केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार के लिए अपने दूसरे कार्यकाल की पहली बड़ी खबर अच्छी नहीं है। दुनिया की सबसे तेज अर्थव्यवस्था के रूप में बढ़ने वाली भारतीय अर्थव्यवस्था अपने पांच साल के निचले स्तर पर आ गई है। कृषि एवं विनिर्माण क्षेत्र में कमजोर प्रदर्शन के चलते वित्त वर्ष 2018-19 की चौथी तिमाही में देश की आर्थिक वृद्धि दर धीमी पड़कर पांच साल के न्यूनतम स्तर 5.8 प्रतिशत पर पहुंच गई। इससे पहले वित्त वर्ष 2017-18 की चौथी तिमाही में जीडीपी वृद्धि दर 7.2 प्रतिशत रही थी।

संजय सिंह

इस बीच अंग्रेजी समाचार चैनल टाइम्स नाउ द्वारा जीडीपी ग्रोथ रेट गिरने की खबर को अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से ट्वीट किए जाने पर दिल्ली में सत्तारूढ़ आम आदमी पार्टी (आप) के वरिष्ठ नेता एवं राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने तंज कसा है। सिंह ने टाइम्स नाउ पर निशाना साधते हुए लिखा है, “ग़ज़ब है मतलब हद कर दी अब टाइम्स नाउ का ये स्तर हो गया GDP की ख़बर चलायेगा, क्यों इन चक्करों में पड़े हो भैया टाइम्स नाउ? कुछ चटखारेदार हिंदू-मुसलमान चलाओ… कहां GDP में उलझे हो।”

सिंह के इस ट्वीट पर दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने भी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए मीडिया पर निशाना साधा है। सिसोदिया ने ट्वीट किया, “कुछ दिन पहलें टीवी पर देश की प्रगति देखकर अभिभूत जनता ने जब वोट डाल दिया तो अब टीवी पर ही बताया जा रहा है कि देश वस्तुतः वहाँ नहीं है जहाँ टीवी पर एक महीने पहले तक दिखाया था। ताकि नई सरकार जब फिर से ढोल बजवाएगी तो तरक़्क़ी के नए आँकड़ों से जनता को फिर से अभिभूत किया जा सके।”

बता दें कि भारत अब दुनिया का सबसे तेज आर्थिक विकास दर वाला देश नहीं रहा। अब इसकी जगह चीन ने ले लिया है। वित्त वर्ष 2018-19 की चौथी तिमाही में देश का सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) की संवृद्धि दर पिछले साल की समान अवधि से घटकर 5.8 फीसदी रह गई है। वहीं, चौथी तिमाही में चीन की आर्थिक विकास दर छह फीसदी से अधिक रही है। क्रमिक आधार, भारत की अर्थव्यवस्था की विकास दर दिसंबर 2018 में समाप्त हुई तिमाही में 6.6 फीसदी रही।

समाचार एजेंसी आईएएनएस के मुताबिक, केंद्रीय सांख्यिकी कार्यालय द्वारा शुक्रवार को जारी आंकड़ों के अनुसार, मार्च 2019 को समाप्त हुई तिमाही में भारत की जीडीपी संवृद्धि दर 5.8 फीसदी रही जो पूर्व वर्ष की समान अवधि के 8.1 फीसदी से कम है। वित्त वर्ष 2018-19 में देश की जीडीपी संवृद्धि दर 6.8 फीसदी रही, जबकि जोकि जीडीपी विकास दर का पिछले पांच साल का सबसे निचला स्तर है। वित्त वर्ष 2017-18 में आर्थिक विकास दर 7.2 फीसदी थी।

चौथी तिमाही में जीडीपी की वृद्धि दर चीन की आर्थिक वृद्धि की गति 6.4 प्रतिशत से भी कम रही है। इस लिहाज से चौथी तिमाही में भारत आर्थिक वृद्धि के लिहाज से चीन से पीछे रह गया। सीएसओ के आंकड़े के अनुसार देश की प्रति व्यक्ति आय मार्च 2019 को समाप्त वित्त वर्ष में 10 प्रतिशत बढ़कर 10,534 रुपये महीना (1,26,406 रुपये सालाना) पहुंच जाने का अनुमान है। इससे पूर्व वित्त वर्ष में यह 9,580 रुपये महीना (1,14,958 रुपये सालाना) था।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here