राजस्थान राजनीतिक संकट: BJP की सहयोगी पार्टी का सनसनीखेज आरोप- ‘वसुंधरा राजे ने विधायकों से अशोक गहलोत को सपोर्ट करने को कहा’

0

पिछले कई दिनों से राजस्थान में चल रहें राजनीतिक संकट के बीच आरोप-प्रत्यारोप और नेताओं की बयानबाजी का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रही है। इस बीच, अब भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के सहयोगी दल राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष हनुमान बेनीवाल ने वरिष्ठ भाजपा नेता और राज्य की पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे पर सनसनीखेज आरोप लगाया है। बेनीवाल ने आरोप लगया कि वसुंधरा राजे राजस्थान की गहलोत सरकार को बचाने की कोशिश कर रही हैं।

राजस्थान
फाइल फोटो

राजस्थान के नागौर से सांसद हनुमान बेनीवाल ने ‘#गहलोत_वसुंधरा_गठजोड’ हैशटैग के साथ एक के बाद एक कई ट्वीट किए। एक ट्वीट में उन्होंने लिखा, “पूर्व सीएम वसुंधरा राजे ने राजस्थान कांगेस में उनके करीबी विधायको से दूरभाष पर बात करके उन्हें अशोक गहलोत का साथ देने की बात कही, सीकर व नागौर जिले के एक-एक जाट विधायको को राजे ने खुद इस मामले में बात करके सचिन पायलट से दूरी बनाने को कहा जिसके पुख्ता प्रमाण हमारे पास है!”

एक अन्य ट्वीट में उन्होंने लिखा, “पूर्व सीएम वसुन्धरा राजे, अशोक गहलोत की अल्पमत वाली सरकार को बचाने का पुरजोर प्रयास कर रही है, राजे द्वारा कोंग्रेस के कई विधायको को इस बारे में फोन भी किए गए!” उन्होंने अपने ट्वीट में आगे कहा, “प्रदेश व देश की जनता वसुंधरा-गहलोत के आंतरिक गठजोड़ की कहानी को समझ चुकी है!” बेनीवाल के इन आरोपों से राजस्थान की राजनीति में एक बार फिर भूचाल की स्थिति आ गई है।

इसके साथ बेनीवाल ने अपना ही एक पुराना ट्वीट शेयर करते हुए अशोक गहलोत को संबोधित करते हुए लिखा, “अशोक गहलोत, जी आपके स्मरण के लिए आप द्वारा सदन में कही बात याद दिला रहा हूँ, पूर्व सीएम राजे पर 5 करोड़ रुपये प्रतिमाह रिश्वत अवैध बजरी के एवज में देने के आरोप लगाए,आपने अब तक कोई जांच करवाई? क्या सदन में कही हुई बात पर आपकी किसी एजेंसी ने संज्ञान लिया?”

गौरतलब है कि, राजस्‍थान में गहलोत की कांग्रेस सरकार उस समय मुश्किल में पड़ गई थी जब उप मुख्‍यमंत्री सचिन गहलोत और उनके समर्थक विधायकों ने सीएम के खिलाफ बगावत का झंडा बुलंद कर दिया। गहलोत और पायलट के संबंधों में तल्‍खी राज्‍य में कांग्रेस के नेतृत्‍व वाली सरकार बनने के समय से ही चली आ रही है। इस सियासी घटनाक्रम के बाद पायलट के प्रति सख्‍त रुख अपनाते हुए कांग्रेस ने उन्‍हें उप मुख्‍यमंत्री और राज्‍य कांग्रेस अध्‍यक्ष के पद से बर्खास्‍त कर दिया था। उनके दो विश्‍वस्‍तों को भी मंत्री पद से हटा दिया गया था। कांग्रेस के सूत्रों ने बताया कि “गहलोत सरकार के लिए खतरे का स्तर इस समय नीचे है।”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here