राजस्थान विधानसभा चुनाव: BJP के 162 घोषित उम्मीदवारों में एक भी मुस्लिम नहीं, कांगेस की पहली सूची में 9 मुस्लिम उम्मीदवार शामिल

0

अगले महीने सात दिसंबर को राजस्थान में होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए नामांकन और प्रत्याशियों को घोषित करने का काम शुरू हो चुका है। भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने अब तक दो किस्तों में 200 में से 162 प्रत्याशियों के नामों की घोषणा कर दी है। लेकिन इनमें अब तक एक भी मुस्लिम उम्मीदवार नहीं है। इससे कुछ लोग यह मानने लगे हैं कि बीजेपी विधानसभा चुनाव में हिंदू कार्ड खेल रही है।

राजस्थान

वहीं, कांग्रेस ने राजस्थान विधानसभा चुनाव के लिए 152 उम्मीदवारों की अपनी पहली सूची में नौ मुस्लिम उम्मीदवारों को जगह दी है। राज्य की 200 विधानसभा सीटों के लिए सात दिसंबर को मतदान होना है। बीजेपी की दो सूचियों में अब तक 162 और कांग्रेस की एक सूची में 152 उम्मीदवारों की घोषणा की जा चुकी है। इसके अलावा बसपा व आप सहित कई अन्य पार्टियां भी अपने उम्मीदवार उतार चुकी हैं। बीजेपी को 38 और नामों की घोषणा अभी करनी है।

बता दें कि नागौर से विधायक हबीबुर रहमान ने बुधवार को कांग्रेस का दामन दाम लिया, क्योंकि रविवार को जारी उम्मीदवारों की सूची में उनका नाम नहीं था। रहमान ने कहा कि बीजेपी राजस्थान में हिंदुत्व कार्ड खेल रही है। वहीं, प्रदेश सरकार में मंत्री यूनुस खान का भी नाम अब तक जारी उम्मीदवारों की सूची में शामिल नहीं है, लेकिन रहमान के विपरीत वह पार्टी के बफादार बने हुए हैं।

बीजेपी द्वारा उम्मीदवारों की पहली सूची जारी होने के तुरंत बाद पार्टी के अल्पसंख्यक सेल के महासचिव एम. सादिक ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर अपनी चिंता जाहिर करते हुए कहा कि अगर मुस्लिमों को उम्मीदवार नहीं बनाया जाएगा तो फिर पार्टी के सदस्य कैसे मुस्लिम समुदाय के पास वोट मांगने जाएंगे। बीजेपी ने 2013 के विधानसभा चुनाव में मुस्लिम समुदाय से चार उम्मीदवार उतारे थे, जिनमें से दो विजयी रहे। हबीबुर रहमान नागौर से और यूनुस खान डीडवाना से चुनाव जीते थे।

कांगेस की पहली सूची में 9 मुस्लिम उम्मीदवार शामिल

हालांकि, कांग्रेस ने राजस्थान विधानसभा चुनाव के लिए 152 उम्मीदवारों की अपनी पहली सूची में नौ मुस्लिम उम्मीदवारों को जगह दी है। कांग्रेस ने गुरुवार देर रात जारी 152 उम्मीदवारों की पहली सूची में बीजेपी छोड़कर कांग्रेस में आए हबीबुर्रहमान को नागौर से अपना उम्मीदवार बनाया है। वहीं पार्टी ने पुष्कर से नसीम अख्तर इंसाफ, पोकरण से सालेह मोहम्मद, शिव से अमीन खान, मकराना से जाकिर हुसैन गैसावत, किशनपोल से अमीन कागजी, फतेहपुर से हाकम अली, सवाईमाधोपुर से दानिश अबरार व चूरू से रफीक मंडेलिया को उम्मीदवार बनाया है।

बीजेपी की सफाई

हालांकि, राजस्थान के अलवर के मूल निवासी केंद्रीय पर्यटन व संस्कृति मंत्री महेश शर्मा इस बात से इनकार करते हैं, लेकिन पार्टी के अन्य लोगों का कहना है कि बीजेपी को मालूम है कि राजस्थान में मुस्लिम उसका वोट बैंक नहीं है। महेश शर्मा ने समाचार एजेंसी IANS से कहा, “कांग्रेस के विपरीत भाजपा लोकतांत्रिक पार्टी है, जहां बोर्ड द्वारा उम्मीदवार तय किए जाते हैं। उम्मीदवारों की ताकत समेत कई तरह के कारकों को ध्यान में रखकर उम्मीदवारों का चयन किया जाता है।”

राजस्थान में बीजेपी के चुनाव प्रभारी अविनाश राय खन्ना ने IANS से कहा कि जमीनी स्तर के कार्यकर्ताओं और शीर्ष नेताओं से विचार-विमर्श के बाद उम्मीदवारों की सूची तैयार की जाती है। उन्होंने कहा कि बीजेपी उम्मीदवारों की अंतिम सूची आने वाली है और जब तक अंतिम सूची नहीं आ जाती, तब तक जाति या धर्म के आधार पर उम्मीदवारों के बारे में कोई निष्कर्ष नहीं निकाला जाना चाहिए।

राजस्थान कांग्रेस की उपाध्यक्ष अर्चना शर्मा ने कहा, “बीजेपी को अच्छा मौका मिला था, लेकिन प्रदेश में कोई काम नहीं कर पाई। अब वह ध्रुवीकरण करने की कोशिश कर रही है। लेकिन यह कोशिश काम नहीं आएगी, क्योंकि राजस्थान उत्तर प्रदेश नहीं है।”

बीजेपी अल्पसंख्यक मोर्चा के महासचिव सलावत खान ने कहा कि पिछले चुनाव में पार्टी ने चार मुस्लिम उम्मीदवारों को टिकट दिया। उन्होंने कहा, “अब तक हमें पार्टी उम्मीदवारी नहीं है, हमें अभी उम्मीद है कि पार्टी मुस्लिम समुदाय से उम्मीदवारों बनाने पर विचार करेगी।” राजस्थान की 200 सदस्यीय विधानसभा में 2013 में बीजेपी 163 सीटों पर चुनाव जीती थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here