VIDEO: राज ठाकरे बोले- लता मंगेशकर और सचिन तेंदुलकर का उपयोग गलत, सरकार को अक्षय कुमार जैसे अभिनेता का करना चाहिए इस्तेमाल; किसान आंदोलन का समर्थन करने पर रिहाना के ट्वीट पर कई सितारों ने दिया था जवाब

0

महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) प्रमुख राज ठाकरे ने शनिवार को कहा कि केंद्र सरकार को आंदोलनरत किसानों के समर्थन में ट्वीट करने वाली विदेशी हस्तियों पर पलटवार के लिए चलाए गए अपने अभियान में लता मंगेशकर और सचिन तेंदुलकर को नहीं उतारना चाहिए था। इन हस्तियों को सोशल मीडिया पर आलोचना का सामना करना पड़ रहा हैं। अक्षय कुमार जैसे लोगों का इस्तेमाल करना चाहिए था।

राज ठाकरे
फाइल फोटो

बता दें कि, जहां एक तरफ राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) के प्रमुख शरद पवार ने किसान आंदोलन पर विदेशी हस्तियों के ट्वीट के जवाब में ट्वीट करने पर महान क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर को नसीहत दी तो दूसरी तरफ महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (MNC) के मुखिया राज ठाकरे ने केंद्र सरकार को सलाह देते हुए कहा है कि केंद्र सरकार को आंदोलनरत किसानों के समर्थन में ट्वीट करने वाली विदेशी हस्तियों पर पलटवार के लिए चलाए गए अपने अभियान में लता मंगेशकर और सचिन तेंदुलकर को नहीं उतारना चाहिए था। ऐसे में इन हस्तियों को भी सोशल मीडिया पर आलोचना का सामना करना पड़ा है।

राज ठाकरे ने संवाददाताओं से बात करते हुए, “अंतरराष्ट्रीय हस्तियों के ट्वीट्स का मुकाबला करने के लिए अपने सोशल मीडिया अभियान के लिए केंद्र को लता मंगेशकर और सचिन तेंदुलकर को उसके रुख के समर्थन में ट्वीट करने के लिए नहीं कहना चाहिए था और उनकी प्रतिष्ठा को दांव पर नहीं लगाना चाहिए था। अब उन्हें सोशल मीडिया पर ट्रॉलिंग का सामना करना पड़ेगा।” उन्होंने कहा कि सरकार को अपने अभियान के लिए अक्षय कुमार जैसे अभिनेताओं का उपयोग ही सीमित रखना चाहिए।

ठाकरे ने कहा, “वे (तेंदुलकर और मंगेशकर) अपने अपने क्षेत्रों के सही मायनों में दिग्गज हैं किंतु वैसे बहुत सरल व्यक्ति हैं। उन्हें उसी हैशटैग के साथ ट्वीट करने के लिए नहीं कहना चाहिए था। उन्होंने वही ट्वीट किया जो सरकार ने उनसे ट्वीट करने को कहा और अब उन्हें आलोचनाओं का सामना करना पड़ रहा है।”

मनसे प्रमुख राज ठाकरे ने ये भी कहा कि अगर अमेरिकी गायिका रिहाना और अन्य हस्तियों का नए कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे किसानों का समर्थन करना भारत के आंतरिक मामलों में दखल देने जैसा था, तो डोनाल्ड ट्रंप के समर्थन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का नारा भी परेशानी भरा था।

ठाकरे ने तत्कालीन अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के कार्यकाल के दौरान मोदी की ह्यूस्टन रैली को हवाला देते हुए कहा, ‘इस आधार पर, अमेरिका में ‘अगली बार, ट्रंप सरकार’ जैसी रैली करने की कोई आवश्यकता नहीं थी। यह उस देश का आंतरिक मामला था।’ उन्होंने यह भी कहा कि किसान जिन कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं, उनमें कुछ कमियां हो सकती हैं, जिन्हें दूर किया जाना चाहिए।

गौरतलब हैं कि, सचिन तेंदुलकर समेत कई क्रिकेट सितारों और फिल्मी हस्तियों ने कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों के आंदोलन के समर्थन में वैश्विक हस्तियों के उतरने के खिलाफ सरकार का समर्थन किया था। किसानों के समर्थन में अमेरिकी पॉप स्टार रिहाना, पर्यावरण कार्यकर्ता ग्रेटा थुनबर्ग, मिया खलीफा, मीना हैरिस समेत कई विदेशी हस्तियों ने ट्वीट किया था।

विदेशी हस्तियों के ट्वीट के बाद सरकार का बचाव करते हुए तेंदुलकर ने अपने ट्वीट में लिखा था, ‘‘भारत की सम्प्रभुता से समझौता नहीं किया जा सकता। विदेशी ताकतें दर्शक हो सकती हैं लेकिन प्रतिभागी नहीं। भारत को भारतीय जानते हैं और वे ही भारत के लिये फैसला लेंगे। एक देश के रूप में एकजुट होने की जरूरत है।’’

इनके अलावा अभिनेता अक्षय कुमार, साइना नेहवाल, करण जौहर, लता मंगेशकर, अजय देवगन, विराट कोहली और अनिल कुंबले सहित अन्य भारतीय हस्तियों ने भी सरकार के समर्थन में ट्वीट किया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here