MP: संतों को मंत्री का दर्जा देने पर राहुल गांधी का शिवराज पर कटाक्ष- ‘बाबा कहते थे बड़ा काम करूंगा, नर्मदा घोटाला नाकाम करूंगा…’

0

मध्य प्रदेश की शिवराज सिंह सरकार द्वारा कंप्यूटर बाबा और भय्यूजी महाराज समेत पांच संतों को राज्यमंत्री का दर्जा दिए जाने के बाद बवाल मच गया है। शिवराज सरकार ने मंगलवार (3 अप्रैल) को आधिकारिक तौर पर ‘आदेश पत्र’ जारी कर पांच संतों को राज्यमंत्री का दर्जा दिए जाने की पुष्टि की। कहा जा रहा है कि इस फैसले के जरिए शिवराज सरकार अब धार्मिक और समाज के संतों के माध्यम से राजनीतिक माहौल बनाने में लग गई है।खास बात यह है कि जिन संतों को राज्य मंत्री का दर्जा दिया गया है वे मध्य प्रदेश में करोड़ों पौधे लगाने के दावे को घोटाला करार देकर ‘नर्मदा घोटाला रथ यात्रा’ निकालने वाले थे। जिसके बाद शिवराज सरकार ने इन्हें मनाने के लिए नर्मदा नदी के लिए जन-जागरूकता अभियान चलाने के लिए एक विशेष समिति बनाई है। इसमें पांच संत सदस्य है और सभी को राज्यमंत्री का दर्जा दिया गया है। इनमें नर्मदानंद महाराज, हरिहरानंद महाराज, कम्प्यूटर बाबा, भय्यू महाराज एवं पंडित योगेंद्र महंत शामिल हैं।

राहुल गांधी का शिवराज पर कटाक्ष

इस बीच कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने मध्य प्रदेश में ‘नर्मदा घोटाला रथ यात्रा’ निकालने की तैयारी में जुटे बाबाओं काे राज्यमंत्री का दर्जा मिलने के बाद हृदय परिवर्तन होने पर तीखा कटाक्ष करते हुए गुरुवार (5 अप्रैल) को कहा कि मध्य प्रदेश बर्बाद हो रहा है। कांग्रेस अध्यक्ष ने शिवराज सरकार के इस कदम पर बॉलीवुड फिल्म के एक गाने की पैरोडी बनाकर चुटकी ली है।

राहुल ने ट्वीट किया, ‘बाबा कहते थे बड़ा काम करूंगा, नर्मदा घोटाला नाकाम करूंगा, मगर यह तो मामा ही जाने, अब इनकी मंजिल है कहां! मध्य प्रदेश कयामत से कयामत तक।’

राहुल गांधी ने यह कटाक्ष मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के पांच बाबाओं को राज्यमंत्री का दर्जा देने की घोषणा पर किया है। उन्होंने इसके साथ ही एक खबर भी पोस्ट की है जिसमें कहा गया है कि शिवराज सरकार में राज्य मंत्री का दर्जा मिलने के बाद कंप्यूटर बाबा और योगेंद्र महंत ने साफ तौर कह दिया है कि अब ‘नर्मदा घोटाला रथ यात्रा’ नहीं निकाली जाएगी।

संतों के बदले सुर

बता दें कि पांचों विशिष्ट साधु-संतों को राज्यमंत्री का दर्जा मिलने के बाद पक्ष और विपक्ष में आरोप-प्रत्यारोप का सिलसिला शुरू हो गया है। इस बीच मंत्री बनने के बाद अब इन साधु-संतों के बोल बदल गए है। अभी तक ‘नर्मदा घोटाला रथ यात्रा’ निकाल रहे कंप्यूटर बाबा और योगेंद्र महंत ने साफ तौर कह दिया है कि अब यह यात्रा नहीं निकाली जाएगी।समाचार एजेंसी भाषा के मुताबिक, राज्यमंत्री का दर्जा हासिल करने के बाद कंप्यूटर बाबा ने बुधवार (4 अप्रैल) को कहा कि, ‘हम लोगों ने यह यात्रा निरस्त कर दी है, क्योंकि प्रदेश सरकार ने नर्मदा नदी के संरक्षण के लिए साधु-संतों की समिति बनाने की हमारी मांग पूरी कर दी है। अब भला हम यह यात्रा क्यों निकालेंगे।’

यह पूछे जाने पर कि क्या एक संन्यासी के रूप में उनका राज्यमंत्री स्तर की सरकारी सुविधाएं स्वीकारना उचित होगा, उन्होंने जवाब दिया, ‘अगर हमें पद और दूसरी सरकारी सुविधाएं नहीं मिलेंगी, तो हम नर्मदा नदी के संरक्षण का काम कैसे कर पाएंगे। हमें समिति के सदस्य के रूप में नर्मदा नदी को बचाने के लिए जिलाधिकारियों से बात करनी होगी और दूसरे जरूरी इंतजाम करने होंगे। इसके लिए सरकारी दर्जा जरूरी है।’ जिन योगेंद्र महंत को कंप्यूटर बाबा के साथ विशेष समिति में शामिल कर राज्यमंत्री का दर्जा प्रदान किया गया है, वह ‘नर्मदा घोटाला रथ यात्रा’ के संयोजक थे।

बहरहाल, राज्यमंत्री का दर्जा मिलने के बाद महंत ने भी कहा कि नर्मदा नदी को बचाने के लिये समिति बनाए जाने की मांग प्रदेश सरकार द्वारा पूरी किए जाने के कारण यह यात्रा निरस्त कर दी गई है। इस बीच, कांग्रेस ने कंप्यूटर बाबा और महंत की मंशा पर सवाल उठाए हैं। प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता नरेंद्र सलूजा ने कहा कि, ‘इन दोनों को स्पष्ट करना चाहिए कि उन्होंने प्रदेश की बीजेपी सरकार के साथ कौन-सी डील के तहत नर्मदा घोटाला रथ यात्रा रद्द कर दी है। क्या इन्होंने राज्यमंत्री का दर्जा हासिल करने के लिये ही इस यात्रा का ऐलान किया था।’

दरअसल, राज्य मंत्री का दर्जा मिलने से पहले कंप्यूटर बाबा की अगुआई में कई साधु-संतों ने शिवराज सरकार के खिलाफ बिगुल फूंक दिया था। इसे ‘नर्मदा घोटाला रथ यात्रा’ का नाम दिया गया था। यह यात्रा एक अप्रैल से निकाली गई थी और 15 मई को समाप्त होने वाली थी। लेकिन, इस बीच में मध्य प्रदेश सरकार ने पांच संतों को राज्यमंत्री का दर्जा देते हुए एक समिति के गठन का ऐलान कर दिया। जिसके बाद मंत्री का दर्जा मिलते ही शिवराज सरकार पर घोटाले का आरोप लगाने वाले कंप्यूटर बाबा का रवैया अचानक से बदल गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here