“राफेल मामले की वजह से सीबीआई चीफ आलोक वर्मा को हटाने की जल्दबाजी में हैं पीएम मोदी”

0

केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) मामले में सुप्रीम कोर्ट से झटका खाने के बाद मोदी सरकार अब पूरी तरह बैकफुट पर नजर आ रही है, वहीं दूसरी तरफ कांग्रेस और पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी खुद को फ्रंट फुट पर खेलते हुए दिखाने की कोशिश में हैं। राफेल और सीबीआई मामले में वह सरकार और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमला करने का एक भी मौका छोड़ने को तैयार नहीं हैं। सीबीआई विवाद को लेकर गांधी ने पीएम मोदी पर एक बार फिर निशाना साधा है। उन्होंने बड़ा आरोप लगाते हुए ट्वीट कर सवाल पूछा है कि पीएम मोदी सीबीआई निदेशक आलोक वर्मा को हटाने की इतनी जल्दबाजी में क्यों है?

सीबीआई निदेशक की नियुक्ति को लेकर बुलाई गई चयन समिति की बैठक के एक दिन बाद कांग्रेस अध्यक्ष ने गुरुवार (10 जनवरी) को आरोप लगाया कि राफेल मामले के कारण प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सीबीआई प्रमुख अलोक वर्मा को हटाने की जल्दबाजी में हैं।

गांधी ने ट्वीट कर कहा, ‘प्रधानमंत्री सीबीआई प्रमुख को हटाने की इतनी जल्दबाजी में क्यों हैं? उन्होंने सीबीआई प्रमुख को चयन समिति के समक्ष अपना पक्ष रखने की अनुमति क्यों नहीं दी?’ उन्होंने कहा, ‘जवाब: राफेल।’

खबरों के मुताबिक सीबीआई निदेशक की नियुक्ति को लेकर बुधवार को बुलाई गई चयन समिति की पहली बैठक बेनतीजा रही। पीटीआई के मुताबिक, सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद प्रधानमंत्री आवास पर हुई इस बैठक में खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अलावा न्यायमूर्ति ए के सीकरी और लोकसभा में सबसे बड़ी विपक्षी पार्टी के नेता के रूप में मल्लिकार्जुन खड़गे शामिल हुए।

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को आलोक वर्मा को उनके पद पर बहाल कर दिया था, जिन्हें सरकार ने करीब दो महीने पहले जबरन छुट्टी पर भेज दिया था। सीबीआई प्रमुख औैर उनके उप विशेष निदेशक राकेश अस्थाना ने एक दूसरे पर भ्रष्टाचार के आरोप लगााए थे जिसके बाद उन्हें जबरन छुट्टी पर भेज दिया गया था। वर्मा ने बुधवार को पदभार पुन: संभालते हुए एम नागेश्वर राव द्वारा किये गये ज्यादातर तबादले रद्द कर दिये। राव (वर्मा की अनुपस्थिति में) अंतरिम निदेशक के तौर पर सीबीआई प्रमुख का प्रभार संभाले हुए थे।

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here