“किसानों को करके जड़ से साफ, पूंजीपति ‘मित्रों’ का खूब विकास”; कृषि विधेयकों को लेकर राहुल गांधी का पीएम मोदी पर निशाना

0
5
राहुल गांधी
file photo- @INCIndia

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष और सांसद राहुल गांधी ने कृषि संबंधी विधेयकों को लेकर मंगलवार (22 सितंबर) को एक बार फिर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा और आरोप लगाया कि किसानों को जड़ से साफ करके कुछ पूंजीपतियों का विकास करने का प्रयास हो रहा है।

राहुल गांधी

राहुल गांधी ने ट्वीट किया कि 2014 में मोदी जी का चुनावी वादा किसानों को स्वामीनाथन आयोग वाला एमएसपी (न्यूनतम समर्थन मूल्य) दिलाने का था। 2015 में मोदी सरकार ने अदालत में कहा कि उनसे ये न हो पाएगा। 2020 में ‘काले क़ानून’ लाए गए। कांग्रेस नेता ने आरोप लगाया, ‘‘ मोदी जी की नीयत ‘साफ़’, कृषि-विरोधी नया प्रयास, किसानों को करके जड़ से साफ़, पूंजीपति ‘मित्रों’ का ख़ूब विकास।’’

पार्टी के वरिष्ठ नेता और पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने ट्वीट किया, ‘‘सरकार ने कृषि विधेयकों का बचाव करते हुए विज्ञापन जारी किया है। विज्ञापन में एक पंक्ति कहती है कि ‘वन नेशन वन मार्केट’ किसानों को आजादी देगा।’’ उन्होंने कहा, ‘‘छोटे किसान लगभग 85 प्रतिशत हैं, जिनके पास बेचने के लिए बहुत कम सरप्लस बचता है। अगर उन्हें धान या गेहूं की कुछ मात्रा बेचनी पड़े तो उन्हें पूरे देश में हजारों बाजार की जरूरत है, एकल बाजार की नहीं। बड़े गांवों और छोटे शहरों में किसानों के हजारों बाजार बनाने के लिए विधेयक में क्या प्रावधान है? हजारों बाजार किसानों को आजादी देंगे।’’

चिदंबरम ने सवाल किया, ‘‘यदि सरकार की मंशा एमएसपी की गारंटी देने की है, तो उस विधेयक में ऐसा कोई खंड क्यों नहीं है,जो यह बताए कि उपज का मूल्य एमएसपी से कम नहीं होगा?’’

बता दें कि, विपक्ष कृषि विधेयक का लगातार विरोध कर रहा है। रविवार को राज्यसभा में कृषि क्षेत्र से जुड़े दो विधेयक पास होने के दौरान सदन में जमकर हंगामा हुआ। विपक्षी सांसदों पर कार्रवाई करते हुए सोमवार को उच्च सदन के सभापति ने 8 सांसदों को एक हफ्ते के लिए निलंबित कर दिया है। निलंबित राज्यसभा सांसद सोमवार से ही संसद भवन परिसर में धरने पर बैठे हैं, यह विरोध प्रदर्शन रातभर जारी रहा। (इंपुट: भाषा के साथ)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here