ANI की संपादक का मजाक उड़ाए जाने पर लोगों ने की राहुल गांधी की आलोचना, अरुण जेटली सहित BJP और पत्रकारों ने जताई नाराजगी

0

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नए साल के पहले दिन समाचार एजेंसी ANI को दिए अपने इंटरव्यू में राम मंदिर, लोकसभा चुनाव 2019, जीएसटी, नोटबंदी और सर्जिकल स्ट्राइक समेत कई मुद्दों पर खुलकर अपने विचार रखे। पीएम मोदी ने न्यूज एजेंसी ANI को 95 मिनट का लंबा इंटरव्यू दिया। आप प्रधानमंत्री के 95 मिनट के इस इंटरव्यू को वर्ष 2019 की पहली राजनीतिक फिल्म भी कह सकते हैं।

हालांकि, कांग्रेस ने पीएम मोदी के इंटरव्यू को ‘पूर्वनियोजित’ करार दिया है। वहीं, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने बुधवार को एएनआई की संपादक स्मिता प्रकाश के साथ प्रधानमंत्री मोदी के इंटरव्यू को लेकर संसद में तंज सका। राहुल ने बुधवार को लोकसभा में अपने भाषण में कहा कि पीएम मोदी ने ‘पूर्वनियोजित इंटरव्यू’ दिया। वहीं, इसका बाद राहुल ने संसद के बाहर कांग्रेस मुख्यालय में प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान फिर से प्रकाश का मजाक बनाया।

प्रेस कॉन्फेंस में स्मिता प्रकाश को ‘अनुकूल पत्रकार’ बताते हुए तंज सका। राहुल गांधी ने संवाददाताओं से कहा, ‘प्रधानमंत्री के पास आपके (मीडिया) सामने आने का साहस नहीं है। मैं यहां आता हूं। आप मुझसे कोई भी सवाल पूछ सकते हैं। मैं हर सात से 10 दिनों में यहां आता हूं। क्या आपने कल प्रधानमंत्री का इंटरव्यू देखा? अनुकूल (pliable) पत्रकार थीं। वह खुद सवाल भी कर रही थीं और जवाब भी दे रही थीं।”

राहुल गांधी की इस टिप्पणी पर स्मिता प्रकाश ने तीखी प्रतिक्रिया दी है। प्रकाश ने ट्विट कर राहुल गांधी को जवाब देते हुए लिखा है कि प्रिय राहुल गांधी आपने मुझ पर हमला करने के लिए प्रेस कॉन्फेंस में सस्ता हथकंडा अपनाया। मैं सवाल पूछ रही थी, जवाब नहीं दे रही थी। आप श्री मोदी पर हमला करिए लेकिन मेरा उपहास उड़ाना बेतुका है। देश की सबसे पुरानी राजनीतिक पार्टी के अध्यक्ष से यह उम्मीद नहीं थी।

प्रकाश की टिप्पणी को लेकर भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने भी नाराजगी व्यक्त करते हुए राहुल गांधी से माफी की मांग की है। वहीं, केंद्रीय वित्त मंत्री जेटली ने ट्वीट करते हुए कहा कि आपातकाल की तानाशाह के पोते ने अपना असली डीएनए दिखा दिया है। उन्होंने एक स्वतंत्र संपादक को डराया और धमकी दी है। इसके अलावा उन्होंने एक और ट्वीट उन्होंने कहा, ‘छद्म उदारवादी चुप क्यों हैं? एडिटर्स गिल्ड की प्रतिक्रिया का इंतजार है।’

जबकि बीजेपी ने बुधवार को प्रधानमंत्री मोदी के इंटरव्यू को ‘पूर्वनियोजित’ बताने पर कांग्रेस अध्यक्ष से माफी मांगने को कहा है। बीजेपी मीडिया प्रमुख अनिल बलूनी ने ANI की संपादक स्मिता प्रकाश का बचाव किया और कहा कि गांधी द्वारा मीडियाकर्मी पर निशाना साधना पत्रकारों के बारे में कांग्रेस की मानसिकता दर्शाता है। बीजेपी नेता ने कहा कि यह स्वतंत्र पत्रकारिता के बारे में कांग्रेस की मानसिकता रही है। राहुल गांधी का डीएनए आपातकाल का है। उनकी पार्टी का पत्रकारिता को कुचलने का इतिहास रहा है। उन्हें अपनी ओछी टिप्पणियों के लिए देश के पत्रकारों से माफी मांगनी चाहिए।

इसके अलावा देश के तमाम बड़े पत्रकारों ने भी ट्वीट कर स्मिता प्रकाश पर तंज सकने को लेकर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की आलोचना की है। देखिए, पत्रकारों की प्रतिक्रियाएं:-

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here