राहुल गांधी बोले- धार्मिक और जातिगत मतभेदों को छोड़कर एकजुट होने का मौका है कोरोना संकट

0

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष और सांसद राहुल गांधी ने सोमवार (6 अप्रैल) को कहा कि कोरोना संकट देश में धर्म, जाति और वर्ग आधारित मतभेदों को भुलाकर एकजुट होने का मौका है। उन्होंने यह भी कहा कि देश एकजुट होकर इस महामारी को पराजित करेगा।

राहुल गांधी
फाइल फोटो

राहुल गांधी ने सोमवार को ट्वीट किया, ”कोरोना संकट भारत के लिए एक ऐसा मौका है जिसमें लोग अपने धर्म, जाति एवं वर्ग के मतभेदों को पीछे छोड़कर एकजुट हों और इस खतरनाक वायरस को पराजित करें।” उन्होंने कहा, ” करुणा, संवेदना और त्याग इस सोच की बुनियाद हैं। हम साथ मिलकर इस लड़ाई को जीतेंगे।”

उधर, कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने सरकार से एक बार फिर सरकार से आग्रह किया कि कोरोना की व्यापक स्तर पर जांच की जाए। उन्होंने ट्वीट किया, ”कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने का एकमात्र रास्ता ज्यादा से ज्यादा जांच है। तभी हम संक्रमित व्यक्ति का उपचार कर सकते हैं।” प्रियंका ने कहा, ”ज्यादा से ज्यादा जांच करो, फिर उपचार करो-यही हमारा मंत्र होना चाहिए। आप सबसे मेरी गुज़ारिश है कि ज्यादा जांच के लिए आवाज उठाइए।”

वहीं, इससे पहले एक अन्य ट्वीट में प्रियंका गांधी वाड्रा ने लिखा था, “हमारे डॉक्टर्स, नर्सिंग स्टाफ, टेक्नीशियन, सफाईकर्मी कोरोना के खिलाफ जंग में योद्धा हैं जो जान की बाजी लगाकर काम कर रहे हैं। इनकी मदद करना, इन्हें और इनके परिवारों को सुरक्षित रखना, हर ढंग से हिमायत करना-हम सबका फर्ज है। इन जाँबाज योद्धाओं को अपना संदेश दें।”

बता दें कि, देश में कोरोना वायरस के चलते मृतकों की संख्या 110 से अधिक पहुंच गई जबकि कुल संक्रमितों की संख्या 4100 से अधिक हो गई है। कुल मामलों में 65 विदेशी नागरिक भी शामिल हैं। (इंपुट: भाषा के साथ)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here