राहुल गांधी ने पूछा- ‘क्या भारत सरकार इसकी पुष्टि कर सकती है कि कोई चीनी सैनिक भारतीय सीमा में दाखिल नहीं हुआ?’

0

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष और सांसद राहुल गांधी ने लद्दाख में चीनी सैनिकों की कथित घुसपैठ से जुड़ी खबरों की पृष्ठभूमि में बुधवार को सवाल किया कि क्या सरकार इसकी पुष्टि कर सकती है कि चीन का कोई सैनिक भारतीय सीमा में दाखिल नहीं हुआ?

राहुल गांधी

राहुल गांधी ने बुधवार (3 जून) को एक खबर को शेयर करते हुए अपने ट्वीट में लिखा, ‘‘क्या भारत सरकार इसकी पुष्टि कर सकती है कि चीन का कोई सैनिक भारतीय सीमा में दाखिल नहीं हुआ?’’

उन्होंने एक समाचार रिपोर्ट भी संलग्न की है जिसमें कहा गया था कि भारत-चीन रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के हवाले से पूर्वी लद्दाख में सैन्य टकराव को सुलझाने के लिए 6 जून को एक शीर्ष स्तरीय सैन्य बैठक आयोजित करेंगे, जिसमें उन्होंने यह भी स्वीकार किया कि उंचाई पर चीनी सैनिक मौजूद थे।

गौरतलब है कि रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर लगभग एक महीने से चले आ रहे गतिरोध के संदर्भ में कहा कि पूर्वी लद्दाख में चीनी सैनिक ‘‘अच्छी खासी संख्या में’’ आ गए हैं और भारत ने भी स्थिति से निपटने के लिए सभी आवश्यक कदम उठाए हैं। सिंह ने कहा कि भारत और चीन के वरिष्ठ सैन्य अधिकारियों के बीच छह जून को बैठक निर्धारित है। इसके साथ ही उन्होंने आश्वस्त किया कि भारत अपनी स्थिति से पीछे नहीं हटेगा।

इससे पहले, राहुल गांधी ने 29 मई को केंद्र सरकार पर हमला बोला था। एक ट्वीट में राहुल गांधी ने कहा था, “चीन के साथ सीमा की स्थिति के बारे में सरकार की चुप्पी संकट के समय में भारी अटकलों और अनिश्चितता को हवा दे रही है। भारत सरकार को स्पष्ट करना चाहिए और भारत को बताना चाहिए कि वास्तव में क्या हो रहा है।”

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से मीडिया को अपने चौथे संबोधन के दौरान 26 मई को पूर्व कांग्रेस प्रमुख ने कहा था, “सीमा पर क्या हुआ, इसका विवरण सरकार को लोगों के साथ साझा करना चाहिए।” उन्होंने कहा कि नेपाल के साथ क्या हुआ और क्यों हुआ, लद्दाख में क्या हो रहा है ये सब स्पष्ट किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा, “लद्दाख और चीन का मुद्दा एक जीवंत मुद्दा है। यहां पारदर्शिता की आवश्यकता है।”

खबरों के अनुसार, एलएसी पर भारत की तरफ गलवान घाटी और पैंगोंग त्सो क्षेत्र में चीनी सैनिक अच्छी-खासी संख्या में डेरा डाले हुए हैं। (इंपुट: आईएएनएस और भाषा के साथ)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here