‘किसी की हत्या नहीं हुई… हरेन पांड्या, तुलसीराम प्रजापति, जस्टिस लोया, प्रकाश थोम्ब्रे, श्रीकांत खांडालकर, कौसर बी, सोहराबुद्दीन शेख… ये अपने आप मर गए’

0

सीबीआई की विशेष अदालत ने गैंगस्टर सोहराबुद्दीन शेख, उसकी पत्नी कौसर बी और सहयोगी तुलसी प्रजापति की कथित फर्जी मुठभेड़ में हत्या किए जाने के मामले में सभी 22 आरोपियों को शुक्रवार (21 दिसंबर) को बरी कर दिया। सीबीआई अदालत के इस फैसले के बाद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्विटर पर कटाक्ष किया है। कांग्रेस अध्यक्ष ने ट्वीट करते हुए कहा कि ‘उसे किसी ने नहीं मारा, वह खुद मर गया।’

राहुल गांधी

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने शनिवार (22 दिसंबर) को ट्विटर पर लिखा, ‘किसी की हत्या नहीं हुई… हरेन पांड्या, तुलसीराम प्रजापति, जस्टिस लोया, प्रकाश थोम्ब्रे, श्रीकांत खांडालकर, कौसर बी, सोहराबुद्दीन शेख … ये अपने आप मर गए।’ राहुल गांधी का यह ट्वीट अब सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है।

खबर लिखे जाने तक, करीब साढ़े 14 हजार से ज्यादा लोगों ने इस ट्वीट को रिट्वीट किया। 39 हजार से ज्याला लोगों ने लाइक्स किया है। वहीं, इस ट्वीट पर 7 हजार से लोग अपनी प्रतिक्रिया दे चुके है।

बता दें कि सीबीआई की एक विशेष अदालत ने गैंगेस्टर सोहराबुद्दीन शेख, उसकी पत्नी कौसर बी और उसके सहयोगी तुलसी प्रजापति की कथित फर्जी मुठभेड़ में हत्या के मामले में 22 आरोपियों को साक्ष्यों के आभाव में शुक्रवार को बरी कर दिया था।

सीबीआई के विशेष जज एस. जे. शर्मा ने कहा कि अभियोजन पक्ष कथित साजिश को साबित करने के लिए किसी भी प्रकार के दस्तावेजी और ठोस सबूत पेश करने में असफल रहा है। सीबीआई ने कहा था कि कथित गैंगस्टर शेख, कौसर बी और प्रजापति का गुजरात पुलिस ने 22-23 नवंबर की दरमियानी रात को एक बस से अपहरण कर लिया था। वे लोग महाराष्ट्र के सांगली से हैदराबाद जा रहे थे।

सीबीआई ने कहा था कि 26 नवंबर, 2005 को अहमदाबाद के पास कथित फर्जी मुठभेड़ में शेख की हत्या कर दी गई थी, जबकि उसकी पत्नी की तीन दिन बाद हत्या कर उसका शव ठिकाने लगा दिया गया था। उसने कहा था कि उसके एक साल बाद गुजरात-राजस्थान सीमा पर 27 दिसंबर, 2006 को प्रजापति की कथित फर्जी मुठभेड़ में हत्या कर दी गई थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here