मुजफ्फरपुर बालिका गृह रेप कांड के खिलाफ जंतर-मंतर पर दिखी संयुक्त विपक्ष की एकता

0

बिहार के मुजफ्फरपुर के ‘बालिका गृह’ नाम के नारी निकेतन में मासूम बच्चियों के साथ यौन शोषण के आरोपों ने तूफान मचा दिया है। इस रेप कांड मामले को लेकर नीतीश सरकार के खिलाफ शनिवार (4 अगस्त) को राष्ट्रीय जनता दल (RJD) ने दिल्ली के जंतर मंतर पर विरोध प्रदर्शन का आह्वान किया। बच्चियों के साथ हुई हैवानियत के विरोध में जंतर-मंतर पर समूचा विपक्ष एकजुट दिखाई दिया। बता दें कि बालिका गृह में 34 बच्चियों के यौन उत्पीड़न के सनसनीखेज खुलासे के बाद घटना की चर्चा पूरे देश में हो रही है।

PTI photo

बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री और RJD नेता तेजस्वी यादव के धरने के समर्थन में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, लेफ्ट के नेता डी. राजा, सीताराम येचुरी, TMC के दिनेश त्रिवेदी, शरद यादव, संजय सिंह, जीतनराम मांझी आदि के पहुंचने से यहां 2019 में बीजेपी के खिलाफ विपक्ष के ‘महागठबंधन’ की स्पष्ट तस्वीर दिखाई दी। सभी नेताओं ने एक स्वर में दोषियों को सजा देने की मांग की और एक मिनट का मौन रखने के बाद मोमबत्ती जलाकर पीड़ित बच्चियों के साथ खड़े होने संदेश दिया।

राहुल ने बीजेपी और नीतीश पर साधा निशाना

हालांकि राहुल गांधी के आने से पहले ही केजरीवाल वहां से चले गए। कांग्रेस अध्यक्ष ने बच्चियों के यौन शोषण को लेकर बीजेपी और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर जमकर हमला बोला। राहुल ने कहा कि अगर नीतीश को शर्म आ रही है तो वह दोषियों पर जल्द से जल्द कार्रवाई करें। राहुल ने मोदी सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि देश में आज डर का माहौल है। कमजोर को दबाने की कोशिश हो रही है।

उन्होंने कहा कि महिलाओं, अल्पसंख्यकों, आदिवासियों, दलितों व मजदूरों पर हमले हो रहे हैं। हम उन सभी कमजोर लोगों के साथ खड़े हैं। अगर नीतीश कुमार को वाकई शर्म आ रही है तो उन्हें जल्द कार्रवाई करनी चाहिए। उन्होंने कहा कि एक तरफ बीजेपी और आरएसएस है तो दूसरी तरफ पूरा हिंदुस्तान खड़ा है। 2019 में विपक्षी एकता का संकेत देते हुए राहुल ने कहा कि यह आगे भी पूरे देश को दिखाई देगा।

अपराधियों को तीन माह में हो फांसी

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि 40 बेटियों के साथ कई साल से अमानवीय अत्याचार होता था। दुख की बात है कि बिहार सरकार के सामने पहले भी यह बात सामने आई। फिर भी संचालक को सरकारी फंड मिलता रहा और उधर अत्याचार चलता रहा। इससे साफ है कि इस गलत गतिविधि में कई लोग शामिल हैं। हमारी मांग है कि अपराधियों को तीन माह के भीतर फांसी दिलाई जाए। बेटियों के साथ गलत करने वाले दोषी हैं पर उन्हें संरक्षण देने वाले उससे ज्यादा दोषी हैं। एक निर्भया से यूपीए सरकार गिर गई थी। अब 40 निर्भया का मामला है। अब 40 बार सिंहासन हिल जाएगा।

ब्रजेश ठाकुर को लेकर तेजस्वी का नीतीश पर हमला

वहीं, तेजस्वी यादव ने कहा कि बिहार में सुशासन का दावा करने वाले नीतीश कुमार कहते हैं कि दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा, तो वह बताएं कि एफआईआर में ब्रजेश ठाकुर का नाम क्यों नहीं था? मैं नीतीश से पूछना चाहता हूं कि वह बताएं कि क्या ब्रजेश ठाकुर 2013 में उनकी पार्टी में शामिल हुए थे या नहीं? 2014 के लोकसभा चुनाव में नीतीश के मंच पर रहते हुए उसने मंच का संचालन किया था या नहीं? नीतीश कुमार उसके घर गए थे या नहीं?’ उन्होंने कहा, ‘मैंने कहा था कि चाचा नीतीश की चुप्पी तुड़वाकर रहूंगा। आखिर उन्होंने चुप्पी तोड़ दी।’

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here