विजय माल्या द्वारा भारत छोड़ने से पहले अरुण जेटली से मुलाकात के दावों पर राहुल गांधी की प्रेस कॉन्फेंस

0

भारतीय बैंकों के करीब 9000 करोड़ रुपये लेकर फरार हुए भगोड़े शराब कारोबारी विजय माल्या के सनसनीखेज खुलासे के बाद केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार की मुश्किलें बढ़ गई हैं। दरअसल माल्या द्वारा भारत छोड़ने से पहले केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली से अपनी मुलाकात का दावा करने के बाद विपक्षी पार्टियों ने मोदी सरकार को आड़े हाथ लिया। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए अरुण जेटली के इस्तीफे की मांग की है। हालांकि, जेटली ने माल्या के बयान को ‘‘तथ्यात्मक तौर पर गलत’’ करार दिया।

इस मामले पर राहुल गांधी प्रेस कॉन्फेंस कर रहे हैं:-

देखिए, लाइव अपडेट्स:- 

  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की भूमिका पर सवाल उठाने के प्रश्न पर राहुल गांधी ने कहा, ‘और क्या? बिल्कुल… वित्त मंत्री जी हिन्दुस्तान को बताएं कि क्या उन्होंने भगोड़े को हिंदुस्तान से भागने दिया या इसके लिए उनको प्रधानमंत्री जी से आदेश आया था?’
  • राहुल गांधी ने प्रेस कांफ्रेंस को संबोधित करते हुए कहा कि 1 मार्च 2016 को अरुण जेटली ने माल्या से 15 मिनट तक बात की थी। पुनिया जी ने देखा था।
  • राहुल गांधी ने कहा कि माल्या के भागने में अरुण जेटली की मिलीभगत थी। वे देश को पूरे मामले की सच्चाई बताएं। अरुण जेटली झूठ बोल रहे हैं।
  • कल अरुण जेटली जी ने कहा कि विजय माल्या ने संसद में अनौपचारिक रूप से उनसे मुलाकात की थी। जेटली जी लंबे-चौड़े ब्लॉग लिखते हैं, लेकिन अपने किसी ब्लॉग में उन्होंने इसका जिक्र नहीं किया: राहुल गांधी
  • अरुण जेटली और विजय माल्या की मुलाकात के दौरान जरुर कोई ना कोई डील हुई है। वित्त मंत्री को ये बता देना चाहिए और इस्तीफा देना चाहिए।
  • अरेस्ट नोटिस को सूचना नोटिस में किसने बदला? वित्त मंत्री साफ करें कि क्या उनके लेवल पर डील हुई है या उनको ऊपर से ऑडर मिले थे ऐसा करने के लिए और फिर इस्तीफा देना चाहिए: कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधीविजय माल्या और अरुण जेटली के बीच 15-20 मिनट की मीटिंग हुई थी। सिट-डाउन मीटिंग थी : राहुल गांधी
  • पीएल पुनिया विजय माल्या और अरुण जेटली के बीच हुई मुलाकात के चश्मदीद गवाह हैं: राहुल गांधी
  • सीसीटीवी फुटेज की हो जांच, अगर मैं गलत निकला तो मैं राजनीति छोड़ दूंगा: पुनिया
  • 1 मार्च को संसद के सेन्ट्रल हॉल में कोने में खड़े होकर विजय माल्या और अरुण जेटली काफी अंतरंग बातचीत कर रहे थे। हावभाव से साफ था कि दोनों काफी अच्छे से एक-दूसरे को जानतें है। उसके बाद 3 मार्च को विजय माल्या देश छोड़कर चले गए: पी एल पुनिया

दरअसल, कांग्रेस के राज्यसभा सांसद पीएल पुनिया ने एक सनसनीखेज दावा किया है। पुनिया ने कहा है कि उन्होंने खुद देखा था कि संसद के सेंट्रल हॉल में विजय माल्या और वित्त मंत्री अरुण जेटली की बैठक हुई थी। कांग्रेस सांसद पीएल पुनिया ने कहा है कि उन्‍होंने वित्‍त मंत्री अरुण जेटली और विजय माल्‍या को संसद के सेंट्रल हॉल में एक-दूसरे से बातचीत करते हुए देखा था। उन्‍होंने कहा कि यह बात उस दिन की सीसीटीवी फुटेज देखने के बाद साबित हो सकती है।

इसके अलावा कांग्रेस नेता ने ट्वीट कर भी दावा किया है कि अरुण जेटली झूठ बोल रहे हैं। पूनिया ने ट्वीट में लिखा है,  अरुण जेटली झूठ बोल रहे हैं। मैंने 2 साल पहले सेंट्रल हॉल में अरुण जेटली को विजय माल्या से मिलते हुए देखा था। ये मुलाकात माल्या के देश से फरार होने के 2 दिन पहले हुई थी। चौकीदार सिर्फ भागीदार ही नहीं बल्कि गुनहगार भी है।

राहुल गांधी ने की जेटली के इस्तीफे की मांग

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्वीट किया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को माल्या के ‘‘अत्यंत गंभीर आरोपों’’ की स्वतंत्र जांच के आदेश तुरंत देने चाहिए और जेटली को जांच जारी रहने के दौरान अपना पद छोड़ देना चाहिए। राहुल गांधी ने ट्वीट कर कहा, ‘विजय माल्या द्वारा लगाए गए आरोप बेहद गंभीर हैं। प्रधानमंत्री को इस मामले में तुरंत एक स्वतंत्र जांच करानी चाहिए। जब तक जांच पूरी हो, तब तक अरुण जेटली को वित्त मंत्री के पद पर नहीं रहना चाहिए।’

वहीं, आम आदमी पार्टी (आप) के राष्ट्रीय संयोजक एवं दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने माल्या की ओर से किए गए खुलासे को ‘‘बिल्कुल चौंकाने वाला’’ करार दिया और सवाल किया, ‘‘वित्त मंत्री ने अब तक इस सूचना को छुपाए क्यों रखा?’’ केजरीवाल ने ट्वीट किया, ‘‘प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, नीरव मोदी के देश छोड़कर जाने से पहले उससे मिलते हैं। विजय माल्या के देश छोड़कर जाने से पहले वित्त मंत्री उससे मिलते हैं। इन बैठकों में क्या पकाया जा रहा था? जनता यह जानना चाहती है।’

 

 

 

Pizza Hut

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here