निर्भया की मां ने कांग्रेस उपाध्यक्ष का किया शुक्रिया, बोलीं- राहुल गांधी की मदद से ही ‘पायलट’ बना मेरा बेटा

0

16 दिसंबर 2012… इस तारीख को देश के इतिहास में कभी भुलाया नहीं जा सकता। पांच साल पहले 16 दिसंबर 2012 को 23 साल की लड़की के साथ हुए सामूहिक बलात्कार की घटना ने न सिर्फ देश, बल्कि दुनिया को भी हिलाकर रख दिया। छह दरिंदों ने राजधानी दिल्‍ली में एक चलती बस में निर्भया के साथ दरिंदगी की, जिसके चलते वह कुछ दिन तक जिंदगी और मौत से जूझती रही और फिर दुनिया से रुखसत हो गई।

इस घटना के बाद दिल्‍ली समेत देशभर में लोगों के गुस्‍से का सैलाब उमड़ा। लोग आरोपियों के लिए सख्‍त से सख्‍त सजा की मांग करते हुए सड़कों पर उतर आए। सत्‍ता के गलियारे तक इस घटना से हिल गिए। इस सनसनीखेज बलात्कार और हत्या मामले के चार दोषियों की मौत की सजा बरकरार रखते हुए सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि इस अपराध ने चारों ओर सदमे की सुनामी ला दी थी।

निर्भया की मां ने राहुल गांधी को कहा शुक्रिया

इस बीच निर्भया की मां आशा देवी ने अपने बेटे के पायलट बनने पर कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी को धन्यवाद दिया है। आशा देवी का कहना है कि निर्भया का भाई आज अगर पायलट है तो वह राहुल गांधी की वजह से ही है। न्यूज पेपर मेल टुडे से बात करते हुए उन्होंने बताया कि इस हादसे के बाद उनका पूरा परिवार टूटा हुआ था। लेकिन निर्भया का भाई अपने लक्ष्य से भटका नहीं।

आशा देवी ने बताया कि कांग्रेस उपाध्यक्ष ने ना सिर्फ उनकी शिक्षा की व्यवस्था की, बल्कि वह लगातार उसे फोन करके हौसला बढ़ाते रहते थे। उन्होंने अखबार को बताया कि उनके बेटे को राहुल गांधी ने लगातार सलाह दी और अपने लक्ष्य का पीछा करने को कहा। निर्भया की मां के मुताबिक, “राहुल गांधी ने मेरे बेटे के कॉलेज की पूरी पढ़ाई स्पॉन्सर की और उन्होंने समय-समय पर फोन कर बेटे को मोटिवेट भी करते थे।

निर्भया की मां ने बताया कि जब कांग्रेस उपाध्यक्ष को पता लगा कि वह भारतीय सेना में जाना चाहता है तो उन्होंने ने ही उसे सलाह दी कि वह स्कूल खत्म होने के बाद पायलट की ट्रेनिंग करे। बता दें कि 2012 में जब निर्भया के साथ वह दर्दनाक हादसा हुआ था, उस दौरान उसका भाई 12वीं क्लास में पढ़ता था।

रिपोर्ट के मुताबिक, 2013 में सीबीएसई की परीक्षा देने के बाद निर्भया के भाई ने रायबरेली की इंदिरा गांधी राष्ट्रीय उड़ान एकेडमी में एडमिशन लिया। जिसके बाद वह रायबरेली ही रहने लगा। निर्भया की मां ने बताया कि उनके बेटे के रहने, खाने और पढ़ने का सारा खर्चा राहुल गांधी ने उठाया। निर्भया की मां ने कहा कि अब उसकी पढ़ाई समाप्त हो गई है और फिलहाल गुरुग्राम में उसकी ट्रेनिंग चल रही है।

आशा देवी ने कहा कि जल्द ही उनका बेटा प्लेन उड़ाएगा। उन्होंने बताया कि अपनी 18 महीने की ट्रेनिंग के दौरान वह लगातार निर्भया केस से जुड़े हुए अपडेट ले रहा था, इसी बीच राहुल गांधी उससे फोन पर बात कर लगातार उसका हौसला अफजाई करते रहते थे। आशा देवी ने बताया कि राहुल गांधी के अलावा उनकी बहन प्रियंका गांधी वाड्रा ने भी कई बार उससे फोन पर बात की और उसका हालचाल जाना।

क्या है पूरा मामला?

बता दें कि साल 2012 में 16 दिसंबर की रात को 23 वर्षीय पैरामेडिकल छात्रा के साथ दक्षिण दिल्ली में एक चलती बस में जघन्य तरीके से सामूहिक दुष्कर्म किया गया था और उसे उसके एक दोस्त के साथ बस से बाहर फेंक दिया गया था। उसी साल 29 दिसंबर को सिंगापुर के एक अस्पताल में लड़की की मौत हो गई थी।

पुलिस ने वारदात में शामिल बस चालक रामसिंह, परिचालक मुकेश कुमार व अक्षय कुमार उर्फ अक्षय ठाकुर, उनके साथियों पवन कुमार और विनय शर्मा को गिरफ्तार किया था। मामले में पुलिस ने एक नाबालिग को भी गिरफ्तार किया था। निचली अदालत ने नाबालिग को बाल सुधार गृह भेजने का आदेश दिया था, जबकि बाकी सभी दोषियों को फांसी की सजा सुनाई थी।

देशभर को दहला देने वाली इस वारदात के बाद मुख्य आरोपी ड्राइवर राम सिंह ने तिहाड़ जेल में 11 मार्च 2013 को कथित खुदकुशी कर ली थी, जबकि नाबालिग अपनी तीन साल की सुधारगृह की सजा पूरी कर रिहा हो चुका है। सुप्रीम कोर्ट ने भी 25 मई 2017 को इस सामूहिक बलात्कार और हत्या के मामले में चार दोषियों की मौत की सजा बरकरार रखी है।

इस निर्णय के बाद अब मुकेश, पवन, विनय शर्मा आरै अक्षय कुमार सिंह को मौत की सजा दी जाएगी। चारों दोषियों ने अपनी अपील में दिल्ली हाई कोर्ट के 13 मार्च, 2014 के फैसले को चुनौती दी थी। इस फैसले में हाईकोर्ट ने चारों दोषियों को मौत की सजा सुनाने के निचली अदालत के निर्णय की पुष्टि की थी।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here