प्रियंका गांधी को हिरासत में लिए जाने पर योगी सरकार पर भड़के कांग्रेसी, राहुल गांधी ने बताया सत्ता का दुरुपयोग, ट्विटर पर ट्रेंड हुआ #UPmeinJungleRaj

0

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा को उत्तर प्रदेश के सोनभद्र जाने के दौरान शुक्रवार को कथित तौर पर यूपी पुलिस द्वारा हिरासत में लिए जाने पर राहुल गांधी समेत तमाम कांग्रेसी नेताओं ने नाराजगी जताई है। राहुल गांधी ने ट्वीट कर कहा कि प्रियंका गांधी को गैरकानूनी तरीके से हिरासत में लेना परेशान करने वाली बात है। उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी ताकत का गलत इस्तेमाल कर रही है। वहीं, कांग्रेस समर्थकों द्वारा ट्विटर पर हैशटैग #UPmeinJungleRaj के जरिए यूपी की भाजपा सरकार निशाना साधा जा रहा है, जिस वजह है #UPmeinJungleRaj टॉप पर ट्रेंड कर रहा है।

बता दें कि रिपोर्ट के मुताबिक, प्रियंका सोनभद्र में हुए नरसंहार के पीड़ितों से मिलने जा रही थीं। इसी दौरान मिर्जापुर में जिला प्रशासन द्वारा उन्हें हिरासत में लेकर एक गेस्ट हाउस ले जाया गया। हालांकि, राहुल गांधी ने यूपी पुलिस पर प्रियंका गांधी को गैरकानूनी तरीके से गिरफ्तार करने का आरोप लगाया है।

राहुल ने आरोप लगाया कि पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा को उस वक्त “गैरकानूनी रूप से गिरफ्तार” किया गया जब वह सोनभद्र जिले में हुए खूनी संघर्ष के पीड़ितों से मिलने जा रही थीं। उन्होंने उत्तर प्रदेश की भाजपा सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि “सत्ता का मनमाना इस्तेमाल” उनकी बढ़ती असुरक्षा को उजागर करता है।

राहुल गांधी ने ट्विटर पर प्रियंका को रोके जाने का एक वीडियो शेयर करते हुए लिखा, ‘‘सोनभद्र में प्रियंका की गैरकानूनी गिरफ्तारी परेशान करने वाली है। वह उन 10 आदिवासियों के परिवारों से मिलने जा रही थीं जिनकी अपनी जमीन छोड़ने से इनकार करने पर निर्मम हत्या कर दी गई। उन्हें रोकने के लिए सत्ता का मनमाने ढंग से इस्तेमाल किया गया है। इससे भाजपा सरकार की बढ़ती असुरक्षा का पता चलता है।’’

प्रियंका बोलीं- पीड़ितों के लिए खड़े होना मेरा कर्तव्य

प्रियंका गांधी ने ट्वीट कर यूपी की योगी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि भारतीय जनता पार्टी अपराध रोकने में तो नाकामयाब है, लेकिन मुझे मेरा कर्तव्य करने से रोक रही है। प्रियंका ने ट्वीट कर लिखा, “उत्तर प्रदेश सरकार की ड्यूटी है अपराधियों को पकड़ना। मेरा कर्तव्य है अपराध से पीड़ित लोगों के पक्ष में खड़े होना। भाजपा अपराध रोकने में तो नाकामयाब है मगर मुझे मेरा कर्तव्य करने से रोक रही है। मुझे पीड़ितों के समर्थन में खड़े होने से कोई रोक नहीं सकता।कृपया अपराध रोकिए!”

योगी सरकार पर भड़के कांग्रेसी

राहुल गांधी के अलावा अन्य वरिष्ठ कांग्रेसी नेताओं ने भी इस घटना को लेकर उत्तर प्रदेश सरकार की आलोचना की और इस कार्रवाई को “लोकतंत्र को कुचलने” जैसा करार दिया। कांग्रेस महासचिव और पश्चिमी उत्तर प्रदेश के प्रभारी ज्योतिरादित्य सिंधिया ने प्रियंका गांधी को सोनभद्र जाने से रोकने पर योगी आदित्यनाथ सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि यह कार्रवाई लोकतंत्र की “खुलेआम अपमान” है।

उन्होंने ट्वीट में कहा, “उत्तर प्रदेश की सरकार द्वारा प्रियंका गांधी जी को सोनभद्र जाने से रोकना खुलेआम लोकतंत्र का अपमान है। पीड़ित परिवार से मिलना और संवेदना व्यक्त करना हर जनप्रतिनिधि का प्रथम कर्तव्य है; ऐसे में सरकार ने लोकतंत्र को कुचलने का प्रयास किया है जो अत्यंत निंदनीय है।”

वहीं, कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने भी इस घटना को लेकर सरकार पर निशाना साधा और कहा कि भाजपा सरकार ने उत्तर प्रदेश को “अपराध प्रदेश” बना दिया है। उन्होंने एक ट्वीट कर पूछा, “क्या श्रीमती प्रियंका गांधी को गिरफ़्तार कर, चुनार में नज़रबंद कर, सोनभद्र के आदिवासी परिवार के 10 सदस्यों की हत्या पर पर्दा डाल पाएगी आदित्यनाथ सरकार? भाजपा सरकार ने उत्तर प्रदेश को अपराध प्रदेश बना दिया है।”

इसके अलावा, कांग्रेस के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से ट्वीट कर लिखा गया, “यूपी की अजय सिंह बिष्ट सरकार द्वारा कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा को सोनभद्र जाने से जबरन रोकना लोकशाही का अपमान है। बगैर लिखित आदेश और संविधान की मूल भावना के विपरीत अजय सिंह बिष्ट सरकार का यह कदम तानाशाही को दर्शाता है।”

एक अन्य ट्वीट में लिखा गया, “सोनभद्र हत्याकांड के पीड़ितों से मिलने जा रही कांग्रेस महासचिव श्रीमती @PriyankaGandhi की गिरफ्तारी अजय सिंह बिष्ट सरकार की तानाशाही का निकृष्टतम उदाहरण है। हम पीड़ितों को न्याय दिलाने के लिए दृढ संकल्पित हैं और भाजपा सरकार के इन ओछे हथकंडों से डरने वाले नहीं हैं।”

प्रियंका को हिरासत में लिया गया

कांग्रेस महासचिव एवं पूर्वी उत्तर प्रदेश की प्रभारी प्रियंका गांधी को शुक्रवार को सोनभद्र की तरफ जाने से रोक दिया गया जहां वो संघर्ष में जान गंवाने वाले लोगों के परिजनों और घायलों से मिलने जा रही थीं। इस पर वह स्थानीय कांग्रेस नेताओं के साथ धरने पर बैठ गईं जिसके बाद उन्हें अधिकारियों द्वारा एक अतिथि गृह ले जाया गया। कांग्रेस का दावा है कि प्रियंका गांधी को पुलिस हिरासत में लिया गया है। आईएएनएस के मुताबिक, प्रियंका गांधी शुक्रवार को सोनभद्र में हुए नरसंहार के पीड़ितों से मिलने जा रही थीं। इसी दौरान मिर्जापुर में जिला प्रशासन ने उन्हें हिरासत में ले लिया।

वाराणसी में बनारस हिंदू विश्वविद्यालय (बीएचयू) परिसर में स्थित ट्रामा सेंटर से प्रियंका का काफिला जैसे ही मिर्जापुर के रास्ते सोनभद्र के लिए रवाना हुआ, वैसे ही नारायणपुर के पास उनको रोक दिया गया। रोकने के विरोध में प्रियंका और कांग्रेसी नेता मौके पर ही धरने पर बैठ गए। प्रियंका गांधी को हिरासत में लेने के दौरान डीएम वाराणसी और एसएसपी वाराणसी मौके पर पहुंच गए। मिजार्पुर जिले के चुनार के एसडीएम प्रियंका को अपनी गाड़ी में बैठा कर चुनार ले गए।

वहीं, कांग्रेस नेता अजय राय को सीओ अपनी गाड़ी में बैठा कर चुनार ले गए। प्रियंका गांधी और अजय राय को चुनार किले के गेस्ट हाउस में छोड़ दिया गया। काफिला रोके जाने पर प्रियंका गांधी ने कहा कि वह बस सोनभद्र फायरिंग मामले में पीड़ितों के परिवारवालों से मिलना चाहती हैं। उन्होंने बताया कि उनके साथ सिर्फ चार लोग ही जाएंगे। फिर भी प्रशासन ने उन्हें वहां जाने से रोक दिया। ऐसे में प्रियंका गांधी ने सवाल किया कि हमें क्यों रोका जा रहा है, इसका कारण बताया जाए? हम यहां शांति से बैठे रहेंगे।

10 लोगों की गोली मारकर हत्या

गौरतलब है कि बुधवार को सोनभद्र सोनभद्र जिले के घोरावल कोतवाली क्षेत्र के उभ्भा गांव में जमीन विवाद में ग्राम प्रधान ने अपने समर्थकों के साथ मिलकर दूसरे पक्ष पर फायरिंग कर दी जिसमें 10 लोगों की मौत हो गई और कई अन्य घायल हो गए। आईएएनएस के मुताबिक, भूमि विवाद को लेकर हुई गोलीबारी के बाद खुफिया एजेंसी से जिला प्रशासन को इनपुट मिला है, कि कुछ नेता घटनास्थल पर पहुंचकर माहौल को बिगाड़ने का प्रयास करने वाले हैं। इसको देखते हुए डीएम ने जिले में धारा 144 लागू कर दी है। (इनपुट- भाषा/आईएएनएस/एएनआई के साथ)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here