राहुल गांधी का नीतीश कुमार पर हमला, पूछा- ‘नशामुक्त बिहार’ में नशे में धुत BJP नेता ने 9 मासूम बच्चों को मार दिया, क्या यही है आपकी शराबबंदी की सच्चाई?

0

बिहार के मुजफ्फरपुर में हुए सड़क हादसे में नौ मासूम बच्चों की मौत मामले भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के नेता का नाम सामने आने के बाद राज्य के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर विपक्षी पार्टियों ने हमला तेज कर दिया है। दरअसल, आरोप है कि जिस गाड़ी से दुर्घटना हुई उसे बीजेपी नेता मनोज बैठा चला रहे थे। फिलहाल इस मामले में किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई है। इस बीच कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने सोमवार (26 फरवरी) को इस घटना को लेकर बिहार की नीतीश कुमार सरकार पर हमला बोला है।

Photo: DNA

आरजेडी नेता और बिहार के उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव की तरफ से इस मामले को लेकर नीतीश सरकार को घेरने के बाद अब राहुल गांधी ने भी ट्वीट कर शराबबंदी के बहाने बिहार सरकार को निशाने पर लिया है। ट्वीट के जरिए राहुल ने सीएम नीतीश कुमार से पूछा है कि क्या यही बिहार में शराबबंदी की सच्चाई है कि प्रतिबंध के बावजूद शराब के नशे में धुत बीजेपी नेता 9 मासूम बच्चों की जान ले लेता है।

नीतीश सरकार पर हमला बोलते हुए सोमवार को राहुल गांधी के ट्वीट किया, ‘नशामुक्त बिहार’ में नशे में धुत एक बीजेपी नेता ने 9 मासूम बच्चों को मार दिया! नीतीशजी क्या यही है आपकी शराबबंदी की सच्चाई? आपकी अंतरात्मा की आवाज आज किसे बचा रही है, आरोपी बीजेपी नेता को या बिहार में शराब की सच्चाई को?

आरोपी BJP नेता पर केस दर्ज

9 बच्चों की मौत के मामले में पुलिस ने आरोपी वाहन मालिक और बीजेपी नेता मनोज बैठा के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कर ली है। इसके साथ ही पुलिस अब मनोज की गिरफ्तारी में जुट गई है। मनोज फिलहाल फरार हैं और उनको गिरफ्तार करने के लिए पुलिस की छापेमारी जारी है। दरअसल, मनोज बैठा वह आरोपी है जिनकी गाड़ी की टक्कर से नौ बच्चों की शनिवार को मौत हो गई।

बैठा की गाड़ी पर बीजेपी महादलित प्रकोष्ठ का बोर्ड लगा था। लेकिन पटना में राज्य पार्टी के नेता इस बात से इनकार करते रहे हैं कि मनोज बैठा नामक कोई व्यक्ति उनकी पार्टी में है। हालांकि बाद में बीजेपी ने मनोज बैठा को पार्टी से निलम्बित कर दिया। इस बीच बीजेपी के वरिष्ठ नेता और उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा कि यह नीतीश कुमार की सरकार है, इसमें कोई भी अपराधी बच नहीं पाएगा।

तेजस्वी के आरोपों को खारिज करते हुए सुशील मोदी ने कहा कि बीजेपी या आरजेडी से संबंध होने के चलते किसी आरोपी को बचाए जाने का कोई सवाल ही नहीं उठता है। सुशील मोदी ने कहा, ‘मैंने मुजफ्फरपुर एसपी से इस मामले को लेकर बातचीत की है। आरोपी मनोज बैठा पर कड़ी से कड़ी कारवाई होनी चाहिए। मासूमों की जान लेनेवालों पर कोई रहम नहीं होनी चाहिए।’

वहीं जेडीयू के प्रवक्ता नीरज कुमार ने भी दावा किया कि आरोपी पाताल में भी होगा तो उसे पकड़कर जेल भेजा जाएगा। उन्होंने कहा कि सरकार विधायक और सांसद को तो छोड़ती ही नहीं है, यह तो एक पदधारी हैं। नीरज ने कहा कि जो भी होगा वह कानून के मुताबिक होगा। हमारी सरकार न किसी को फंसाती है और न ही बचाती है।

क्या है मामला?

बता दें कि बीते शनिवार को मुजफ्फरपुर के मीनापुर थाना क्षेत्र में धर्मपुर उत्क्रमित मध्य विद्यालय के सामने छुट्टी के बाद घर जा रहे छात्र एक तेज रफ्तार बोलेरो की चपेट में आ गए थे। इनमें 9 छात्रों की मौत हो गई थी जबकि 24 छात्र घायल हुए थे। मीनापुर के थाना प्रभारी सोना प्रसाद सिंह ने सोमवार को बताया कि अबतक जांच में यह स्पष्ट हुआ है कि जब यह हादसा हुआ था, तब बोलेरो खुद बीजेपी नेता मनोज बैठा चला रहे थे।

सिंह ने बताया कि ग्रामीण मोहम्मद अंसारी और अन्य के बयान पर मीनापुर थाने में मनोज बैठा के खिलाफ गैरइरादतन हत्या के आरोप में एक प्राथमिकी दर्ज की गई है। उन्होंने बताया कि आरोपी की गिरफ्तारी के लिए लगातार छापेमारी की जा रही है। बता दें कि बीजेपी से जुड़े मनोज महादलित प्रकोष्ठ के सीतामढ़ी जिलास्तरीय नेता हैं।

इस हादसे में बीजेपी नेता का नाम आने के बाद बिहार की राजनीति गरमा गई है। बिहार में प्रतिपक्ष के नेता तेजस्वी प्रसाद यादव ने सरकार पर सवाल उठाते हुए सोमवार को ट्वीट किया और कहा था कि नौ मासूम बच्चों को कुचलने वाले हत्यारे बीजेपी नेता को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी के सीधे संरक्षण के चलते अभी तक गिरफ्तार नहीं किया गया है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here