राहुल गांधी बने 132 साल पुरानी कांग्रेस पार्टी के 49वें अध्यक्ष, जश्न का माहौल, भारी संख्या में जुटे समर्थक

0

राहुल गांधी शनिवार को औपचारिक रूप से कांग्रेस़ के अध्यक्ष पद की कमान ली है। पद संभालने के कार्यक्रम के लिए कांग्रेस हेडक्वार्टर में खास तौर पर तिरंगा पंडाल बनाया गया था। सुबह से ही पार्टी दफ्तर के बाहर लोगों की लंबी कतारें लग गईं थी।

राहुल गांधी ने 4 दिसंबर को इस पद के चुनाव में नामांकन किया था। राहुल के पक्ष में 86 लोगों ने प्रस्ताव किया था और 11 दिसंबर को उनके निर्विरोध चुने जाने की घोषणा की गई। राहुल, नेहरू-गांधी परिवार के 6वें सदस्य होंगे जो कांग्रेस की कमान संभालेंगे। राहुल गांधी सुबह करीब 11 बजे कांग्रेस मुख्यालय पहुंचेंगे। 47 साल के राहुल 132 साल पुरानी कांग्रेस पार्टी के 49वें अध्यक्ष बने हैं।

कांग्रेस मुख्यालय के बाहर समर्थकों ने तमाम तरह के पोस्टर और होर्डिंग लगा दिए थे। इनमें बधाई संदेश दिए जा रहे हैं।  एआईसीसी के दफ्तर के बाहर लोगों में गजब का उत्साह देखा जा रहा है। समर्थक और कार्यकर्ता पटाखे फोड़ रहे हैं और नारे लगा रहे हैं।

जश्न के लिए खास तौर पर दिल्ली के चांदनी चौक से आए हलवाई जलेबी और लड्डू समेत कई तरह की मिठाइयां बनाने में जुटे हुए हैं। दिल्ली के यूथ कांग्रेस दफ्तर में मिठाई के साथ ही लोकगीतों की भी तैयारी की गई है।

सोनिया के रिटायरमेंट वाले बयान से उनके राजनैतिक संन्यास की अटकलें लगने लगीं तो कांग्रेस के मीडिया प्रभारी रणदीप सुरजेवाला ने ट्वीट करके सफाई दी कि सोनिया गांधी कांग्रेस अध्यक्ष पद से रिटायर हो रही हैं, सक्रिय राजनीति से नहीं। उनकी बुद्धिमत्ता और दृढ़ प्रतिबद्धता मार्गदर्शन करती रहेगी। सोनिया गांधी ने मार्च 1998 में पार्टी को नियंत्रण में लिया था वह 19 साल अध्यक्ष रहीं।

इस मौके पर सोनिया गांधी ने कहा कि इंदिरा गांधी की हत्या के 7 साल के बाद मेरे पति की भी हत्या की गई। इसके बाद मुझे पार्टी के आम कार्यकर्ताओं की पुकार सुननी पड़ी। मुझे लगा कि इस जिम्मेदारी को नकारने से इंदिरा जी और राजीव जी का बलिदान व्यर्थ जाएगा। इसीलिए अपने कर्तव्य को समझते हुए मैं राजनीति में आई।

उन्होेंने कहा मैं एक क्रांतिकारी परिवार में आई। इस परिवार के लोगों ने देश के लिए धन दौलत और जीवन लुटा दिया। इंदिरा जी ने मुझे बेटी की तरह स्वीकार किया। जब इंदिरा जी की हत्या हुई तो मुझे लगा जैसे मेरी मां छीनी गई हों। उन्होेंने कहा मैं आज इस जिम्मेदारी को छोड़ते हुए अपने कार्यकर्ताओं और देश वासियों से मिले प्यार के लिए धन्यवाद देती हूं।

इस मौके पर राहुल गांधी ने कहा कि हम भारतीयों की आवाज की सुरक्षा करतेे है, दमनकारी ताकतें लोकप्रियता से नहीं जोड़तोड़ से जीत रही है। हम देश को इक्कीस वीं सदी में देश को लेकर आए वो देश को मध्ययुग में ले जा रहे है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here