“किसी के बाप का हिंदुस्तान थोड़ी है”: दुनिया को कहा अलविदा लेकिन इन शेरो-शायरी के बूते हमेशा जीवित रहेंगे राहत इंदौरी

0

मशहूर उर्दू शायर राहत इंदौरी का कोरोना वायरस संक्रमण से मंगलवार (11 अगस्त) को निधन हो गया। कोरोना वायरस से संक्रमित पाए जाने के बाद राहत इंदौरी को इलाज के लिए अरविंदो अस्पताल में भर्ती करवाया गया था।

राहत इंदौरी

निधन के बाद राहत इंदौरी के ट्विटर अकाउंट से एक ट्वीट किया गया जिसमें बताया गया कि वो अब इस दुनिया में नहीं रहे। उनके अकाउंट से ट्वीट किया गया, “राहत साहब का Cardiac Arrest की वजह से आज शाम 05:00 बजे इंतेक़ाल हो गया है….. उनकी मग़फ़िरत के लिए दुआ कीजिये।”

समाचार एजेंसी ANI के मुताबिक, अरबिंदो अस्पताल के डॉ विनोद भंडारी ने बताया, उर्दू कवि राहत इंदौरी का निधन अस्पताल में हुआ। उन्हें आज दो बार दिल का दौरा पड़ा और उन्हें बचाया नहीं जा सका। कोरोना पॉजिटिव पाये जाने के बाद उन्हें रविवार को अस्पताल में भर्ती कराया गया था। उन्हें 60% निमोनिया था।

उर्दू शायर राहत इंदौरी के निधन पर सीएम शिवराज सिंह चौहान, राहुल गांधी, कुमार विश्वास समेत देश की तमाम बड़ी हस्तियों ने दुख जताया है। वहीं, सोशल मीडिया यूजर्स ने उनके शायरी को शेयर करते हुए उन्हें याद किया है।

1 जनवरी 1950 को इंदौर, मध्य प्रदेश में जन्में राहत कुरेशी उर्फ राहत इंदौरी के पिता का नाम रफ्तुल्लाह कुरैशी था जोकि कपड़ा मिल के कर्मचारी थे उनकी माता का नाम मकबूल उन निशा बेगम था। उर्दू को विश्व पटल को एक नई और आधुनिक पहचान देने वाले शायरों में से एक राहत इंदौरी का इस दुनिया को छोड़ के जाना एक ऐसी क्षति है जिसकी भरपाई नहीं हो सकती

देखें कुछ ऐसे ही ट्वीट

आज ही (मंगलवार) सुबह 70 वर्षीय शायर ने खुद ट्वीट कर अपने संक्रमित होने की जानकारी थी। उन्होंने कहा, “कोविड-19 के शुरूआती लक्षण दिखायी देने पर कल (सोमवार) मेरी कोरोना वायरस की जांच की गई जिसमें संक्रमण की पुष्टि हुई।” इंदौरी ने ट्वीट में आगे कहा, “दुआ कीजिये (मैं) जल्द से जल्द इस बीमारी को हरा दूं।”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here