पुराने हस्ताक्षरों वाले गलत नोट छापकर कर्मचारियों ने लगाई सरकार को 37 करोड़ की चपत

0

कैग की एक रिर्पोट में खुलासा हुआ कि सरकारी कर्मचरियों ने आपसी मिलीभगत के चलते सरकार को 37 करोड़ रूपये का नुकसान पहुंचाया है। इस नुकसान का कारण ‘एसपीएमसीआईएल’ कर्मचारियों की लापरवाही है जिसके चलते सरकार को 37 करोड़ रूपये का नुकसान उठाना पड़ा

old-note

‘एसपीएमसीआईएल’ द सिक्योरिटी प्रिंटिंग एंड मिंटिंग कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड करेंसी नोट छापने वाली सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनी है। मामला है कि रिजर्व बैंक के गवर्नर थे रघुराम राजन और नोट छप रहे थे डी सुब्बाराव के हस्ताक्षरों वाले। इसके चलते 37 करोड़ रूपये के करेंसी नोटों की बर्बादी की गई।

कंट्रोलर एंड ऑडिटर जनरल ऑफ इंडिया (सीएजी) की रिपोर्ट बताती है कि डी सुब्बाराव रिजर्व बैंक के गवर्नर के पद से 4 सितंबर 2013 को ही सेवानिवृत हो गए और उनकी जगह रघुराम राजन भारतीय रिजर्व बैंक के नए गवर्नर बन चुके थे। बावजूद इसके डी सुब्बाराव के हस्ताक्षर वाले 500 रुपये 100 रुपये और 50 रुपये के करेंसी वाले नोट लगातार छपते रहे।

Also Read:  गज़ब सोच है। कायल हो गया हूँ मैं आपका मोदीजी। “धीरे धीरे” की क्या परिभाषा है सर?

जनसत्ता की खबर के अनुसार, लापरवाही की ये घटना उस वक्त हुई जब देवास बैंक नोट प्रेस के प्रबंध निदेशक (एमडी) एम. एस. राणा थे। राणा पर भ्रष्टाचार के और भी आरोप हैं। राणा पिछली सरकार में सेवा विस्तार लेते रहे थे लेकिन मोदी सरकार ने उन्हें नोटबंदी की प्रक्रिया शुरू करने से दो महीने पहले ही पद से हटा दिया था।

Also Read:  पुराने नोट नहीं बदले जाने से आहत होकर खुद को आग लगाने वाली महिला की मौत

सितंबर 2013 में रिजर्व बैंक गवर्नर के कार्यकाल पूरा कर लेने के एक महीने बाद तक यह कंपनी उसी गवर्नर के हस्ताक्षर से उच्च मूल्य के करेंसी नोट छापती रही। इस सरकारी कंपनी के छापेखाने देवास और नासिक में हैं।

आपको बता दे कि द भारतीय रिजर्व बैंक नोट मुद्रण प्राइवेट लिमिटेड (बीआरबीएनएमपीएल) रिजर्व बैंक के अधीन और नामित कंपनी है जो करेंसी नोट की डिजायन, प्रिंटिंग प्लेट्स और गवर्नर के हस्ताक्षर एसपीएमसीआईएल कंपनी को उपलब्ध कराती है।

Also Read:  VIDEO: एंटी रोमियो अभियान के नाम पर पुलिस की मनमानी, जबरन मुंडवाया युवक का सिर, 3 पुलिसकर्मी सस्पेंड  

रिर्पोट के अनुसार, बीआरबीएनएमपीएल ने मुद्रण कंपनी को गवर्नर के हस्ताक्षर का मशीन प्रूफ भी सौंपा था। बावजूद इसके डी सुब्बाराव के हस्ताक्षर वाले नोट छापे गए। मार्च 2015 तक करीब 37 करोड़ रुपये मूल्य के 20 रुपये, 100 रुपये और 500 रुपये के 2 करोड़ 30 लाख नोट स्टॉक में पड़े थे। इन सभी करेंसी नोटों की छपाई पूर्व गवर्नर के हस्ताक्षर के साथ साल 2014 तक हुई है। अब इस बात की भी संभावना है कि रिजर्व बैंक इन नोटों को स्क्रैप कर दे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here