रघुराम राजन ने कहा- रिजर्व बैंक गवर्नर कोई नौकरशाह नहीं है, केन्द्र सरकार अपने रुख में करें सुधार

0

नोटबंदी को लेकर जारी घमासान के बीच रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन ने कहा है कि केन्द्र सरकार के लिए रिजर्व बैंक गवर्नर कोई नौकरशाह नहीं है और उसे नौकरशाह समझना सरकार की भूल है। राजन ने अपनी नई किताब ‘आई डू व्हाट आई डू’ (I Do What I Do) में इसका उल्लेख किया है।

रघुराम राजन

राजन के मुताबिक, रिजर्व बैंक गवर्नर के अधिकारों की स्पष्ट परिभाषा नहीं होने का सबसे बड़ा खतरा यही है कि ब्यूरोक्रेसी लगातार उसकी शक्तियों को कम करने की कोशिश में रहती है। राजन की किताब  RBI गवर्नर के रूप में कई मुद्दों पर दिए गए उनके भाषणों का संकलन है।

हालांकि उन्होंने अपनी किताब में सबकुछ बताने की कोशिश नहीं की है। उन्होंने अपने असहज संबंधों और वर्तमान सरकार के साथ मतभेदों को आकर्षक ढंग से शार्ट इंट्रोडक्शन और पोस्टस्क्रिप्ट के जरिए समझाने की कोशिश की है। राजन ने कहा कि गवर्ननर की शक्तियों को लेकर मौजूदा सरकार से पहले की सरकारें भी ऐसा करती रहीं है जिससे अर्थव्यवस्था में केन्द्रीय बैंक की भूमिका कमजोर हुई है।

आपको बता दे कि इस मुद्दे पर और अधिक विचार प्रकट करते हुए राजन ने कहा कि उन्होंने काले धन को सिस्टम में लाने का मकसद पूरा करने के दूसरे तरीके भी सुझाए थे। उन्होंने कहा कि फरवरी 2016 में सरकार ने नोटबंदी पर उनसे राय मांगी थी और उन्होंने मौखिक रूप में अपनी राय बता दी थी। राजन के अनुसार, इसके बाद मोदी सरकार ने नोटबंदी को लेकर नोट तैयार करने को कहा और केंद्रीय बैंक ने ऐसा ही किया। आरबीआई ने नोट में नोटबंदी के पड़ने वाले प्रभावों, फायदों के बारे में बताया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here