पीवी सिंधु ने रियो ओलिंपिक में इतिहास रचा, फाइनल्स में पहुँच कर साइना नेहवाल को भी पीछे छोड़ा

0

पीवी सिंधु ने आज यहां जापान की नोजोमी ओकुहारा को सीधे गेम में हराकर रियो ओलंपिक की बैडमिंटन प्रतियोगिता के महिला एकल के फाइनल में पहुंचने वाली पहली भारतीय खिलाड़ी बनने के साथ ही कम से कम रजत पदक पक्का कर दिया।

विश्व चैंपियनशिप में दो बार की कांस्य पदक विजेता सिंधु ने जापान की आल इंग्लैंड चैंपियन के खिलाफ 49 मिनट तक चले मैच में 21-19, 21-10 से जीत दर्ज की।

CqKD0_7VYAAYxR_

हैदराबाद की रहने वाली विश्व में दसवें नंबर की सिंधु को फाइनल में कल दो बार की विश्व चैंपियन और शीर्ष वरीय स्पेनिश खिलाड़ी कारोलिना मारिन से भिड़ना होगा। बेहद प्रतिभाशाली सिंधु अपनी सीनियर साइना नेहवाल से भी एक कदम आगे निकलने में सफल रही जिसने लंदन 2012 में कांस्य पदक जीतकर भारत को बैडमिंटन में पहला पदक दिलाया था।

सिंधु का ओकुहारा के खिलाफ रिकार्ड 1-3 था लेकिन भारतीय खिलाड़ी अच्छी रणनीति के साथ उतरी थी और उन्होंने अपने रिटर्न और ड्राप्स से जापानी खिलाड़ी को लंबी रैलियों में उलझाकर रखा।

सिंधु के इस कारनामे पर बधाईयां देने वालों का तांता लग गया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर कहा सिंधु ने अपने कारनामे से पूरे देश को गौरान्वित किया है और अब वो बस फाइनल में जाकर गोल्ड मैडल जीत लें।

खुद सिंधु ने कहा कि भले ही अब उन्होंने रजत पदक सुनिश्चित कर लिया है, वो गोल्ड मैडल जीतने केलिए फाइनल में जी जान लगा देंगी।

LEAVE A REPLY