…जब प्रियंका गांधी ने पत्रकारों से पूछा था- कौन हैं स्मृति ईरानी?, केंद्रीय मंत्री ने ऐसा किया था पलटवार

0

यूपीए चेयरपर्सन सोनिया गांधी की बेटी और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की बहन प्रियंका गांधी वाड्रा के आधिकारिक तौर पर राजनीति में कदम रखने के बाद हड़कंप मच गया है। प्रियंका गांधी वाड्रा की राजनीति में आधिकारिक एंट्री के बाद से ही लोकसभा चुनाव से पहले भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) और कांग्रेस के बीच तलवारें खिंच गई हैं। प्रियंका के राजनीति में आने आने के बाद बीजेपी बीजेपी के तमाम बड़े नेताओं की तरफ से प्रतिक्रियाएं आ रही हैं।

विवादास्पद प्रवक्ता संबित पात्रा ने कहा है कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने अपनी बहन प्रियंका गांधी को आगामी लोकसभा चुनाव से पहले पूर्वी उत्तर प्रदेश का प्रभारी नियुक्त किया है जो उनकी ‘असफलता’ को दर्शाता है। वहीं, कैबिनेट मंत्री स्मृति ईरानी ने तंज करते हुए कहा कि कांग्रेस ये सार्वजनिक तौर पर ऐलान कर दिया है कि राहुल गांधी राजनीति में पूरी तरह फेल हो गए हैं।

जब प्रियंका ने स्मृति को पहचानने से कर दिया था इनकार

इस बीच समाचार एजेंसी ANI का एक पुराना ट्वीट इस वक्त सोशल मीडिया पर काफी वायरल हो रहा है। दरअसल, एक समय ऐसा था जब प्रियंका गांधी ने स्मृति ईरानी (वर्तमान में केंद्रीय मंत्री) को पहचानने से इनकार कर दिया था। यह बात वर्ष 2014 की जब लोकसभा चुनाव के दौरान उत्तर प्रदेश के अमेठी में प्रियंका अपने भाई और कांग्रेस अध्यक्ष (उस वक्त उपाध्यक्ष) राहुल गांधी के लिए चुनाव प्रचार कर रही थीं, उस वक्त जब पत्रकारों ने बीजेपी की प्रत्याशी स्मृति ईरानी के बारे में सवाल किया, तब उन्होंने चुटकी लेने के अंदाज में कहा था, ‘कौन हैं स्मृति ईरानी।’

इस पर पर स्मृति ईरानी ने भी पलटवार करते हुए कहा था कि इसमें कोई आश्चर्य की बात नहीं है। अगर आप परिवार के किसी सदस्य द्वारा किए गए घोटालों को भूल जाते हैं तो मेरा नाम क्यों याद रहेगा? हालांकि, बाद में स्मृति ईरानी और प्रियंका गांधी की मुलाकात एक विमान में हुई थी, जहां स्मृति ने सामने से अपना परिचय प्रियंका को दिया था। उन्होंने खुद इसका खुलासा किया था।

विमान हुई दोनों की मुलाकात

वर्ष 2017 में एक इंटरव्यू के दौरान स्मृति ईरानी ने प्रियंका गांधी से एक विमान में हुई मुलाकात का जिक्र करते हुए बताया था कि उन्होंने खुद अपना परिचय प्रियंका को दिया था। स्मृति ने साल 2014 में हुए एक घटना का जिक्र करते हुए कहा था, “दो साल पहले मैं प्रियंका गांधी से मिली थी। जेट एयरवेज के एक विमान में जो चेन्नई से बेंगलुरु जा रहा था, मेरी मुलाकात प्रियंका से हुई। विमान में वह मेरे पीछे की सीट में ही बैठी थीं, मैंने पीछे मुड़कर अपना परिचय उन्हें दिया। मैंने कहा, ‘मैं स्मृति ईरानी हूं।’ प्रियंका की प्रतिक्रिया काफी सहज और विनम्र थी।”

राहुल गांधी को स्मृति ने अमेठी में दी थी टक्कर

आपको बता दें कि अमेठी लोकसभा सीट गांधी परिवार का गढ़ माना जाता है। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी वर्ष 2004 के बाद से ही अमेठी से सांसद हैं। 2014 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी ने यहां से स्मृति ईरानी को मैदान में उतारा था, तब खुद नरेंद्र मोदी (अब प्रधानमंत्री) ने राहुल गांधी के खिलाफ यहां जनसभा को संबोधित किया था। स्मृति ने 2014 के लोकसभा चुनाव में राहुल गांधी को कड़ी टक्कर दी थी, हालांकि उन्हें हार का सामना करना पड़ा था। लेकिन हार के बावजूद स्मृति अमेठी में अभी भी लगातार सक्रिय रहती हैं, वह कई बार यहां पर दौरा कर चुकी हैं।

प्रियंका ने राहुल गांधी के समर्थन में किया था प्रचार

केंद्रीय मंत्री लगातार अमेठी में स्थानीय लोगों से संवाद करती रही हैं, ऐसे में कयास लगाए जा रहे हैं कि एक बार फिर राहुल गांधी को स्मृति ईरानी कड़ी टक्कर दे सकती हैं। साल 2014 के आम चुनाव में प्रियंका गांधी ने रायबरेली और अमेठी में जमकर प्रचार किया था। दोनों ही सीटों पर कांग्रेस की जीत हुई थी। वहीं, ईरानी 2003 में बीजेपी में शामिल हुई थीं और वह 2011 में राज्यसभा सदस्य बनीं। उसके बाद पार्टी में उनका कद उस समय काफी बड़ा हो गया, जब 2014 में बीजेपी की अगुवाई में बनी सरकार में उनको मानव संसाधन विकास मंत्री बनाया गया।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here