राष्ट्रपति चुनाव से पहले सोनिया गांधी के नेतृत्‍व में एकजुट हुआ विपक्ष, केजरीवाल ने भी मिलाया सुर

0

उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में बीजेपी की भारी जीत के बाद विपक्ष में इस बात की भावना तेजी से बढ़ रही है कि राष्ट्रपति चुनाव से पहले एकता स्थापित करने के प्रयास तेज किए जाएं। माकपा महासचिव सीताराम येचुरी ने चुनाव में संयुक्त उम्मीदवार उतारने की संभावना तलाश करने के लिए कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात की।

वहीं, राजद प्रमुख लालू प्रसाद ने बिहार की तर्ज पर महागठबंधन बनाने की चर्चा की। उधर पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बीजेपी का मुकाबला करने के लिए क्षेत्रीय पार्टियों से एकजुट होने की अपील की। साथ ही दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल भी अब विपक्षी एकता का राग छेड़ दिया है।

Also Read:  राहुल गांधी 13 जून को देंगे इफ्तार पार्टी, कांग्रेस नेताओं के अलावा पहुंचेंगे विपक्ष के कई दिग्गज

येचुरी ने सोनिया गांधी से शुक्रवार(21 अप्रैल) को मुलाकात की। इसके पहले सोनिया ने बिहार के मुख्यमंत्री एवं जदयू अध्यक्ष नीतीश कुमार से भी मुलाकात की थी। येचुरी ने बैठक के बाद कहा कि एक संयुक्त उम्मीदवार के बारे में चर्चा के लिए हम सभी धर्मनिरपेक्ष विपक्षी दलों के साथ मुलाकात कर रहे हैं।

वाम दल से जुड़े एक सूत्र ने कहा कि येचुरी और सोनिया गांधी ने ऐसा उम्मीदवार खड़ा करने की संभावना पर चर्चा की जो कि सभी धर्मनिरपेक्ष विपक्षी पार्टियों को मंजूर हो। सोनिया ने इस संबंध में माकपा नेता के सुझाव पर सकारात्मक जवाब दिया।

Also Read:  महिला क्रिकेट टीम के शानदार प्रदर्शन पर BCCI देगा सभी खिलाडियों को 50 लाख का ईनाम

माकपा ने इस मुद्दे पर राकांपा प्रमुख शरद पवार और राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव से भी अनौपचारिक चर्चा की है। उन्होंने बताया कि विपक्षी पार्टियां जल्द ही मुलाकात कर इस विषय पर चर्चा कर सकती हैं। हालांकि, जदयू प्रवक्ता केसी त्यागी ने कल कहा था कि कुमार और सोनिया की बैठक में राष्ट्रपति चुनाव के मुद्दे पर चर्चा नहीं हुई थी। उन्होंने कहा कि पार्टी का मानना है कि एक मजबूत संयुक्त विपक्षी उम्मीदवार राष्ट्रीय हित में हैं।

उधर पटना में, लालू ने विपक्षी दलों के व्यापक गठबंधन पर बल दिया। उन्होंने कहा कि जब कभी सामाजिक न्याय या क्षेत्रीय राजनीतिक दल एकसाथ आए हैं, हमें जीत मिली है। उन्होंने कहा कि हम चाहते हैं कि सांप्रदायिक और फासीवादी बलों को हराने के लिए मायावती, कांग्रेस, ममता बनर्जी, अखिलेश एक साथ आएं।

Also Read:  सेना के जवानों को मेरा निर्देश AK-47 लेकर घूमते किसी भी शख्स को गोली मार दो- मनोहर पर्रिकर

साथ ही दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल भी अब विपक्षी एकता का राग छेड़ दिया है। केजरीवाल ने कहा कि बीजेपी से मुकाबले के लिए सभी ‘अच्छे’ लोगों को साथ आना चाहिए। हालांकि, इससे पहले वह कांग्रेस और बीजेपी सहित ज्यादातर राजनीतिक दलों को भ्रष्ट बताते रहे हैं। ऐसे में वह किन ‘अच्छे’ लोगों के साथ आने की अपील कर रहे हैं, यह साफ नहीं हो पाया है।

Pizza Hut

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here