राष्ट्रपति को रिश्वत देने के आरोप में सैमसंग ग्रुप के चीफ हुए गिरफ्तार

0

स्मार्टफोन की सबसे बड़ी कंपनी सैमसंग के ग्रुप चीफ जे वाई ली को शुक्रवार (17 फरवरी) सुबह राष्ट्रपति को रिश्वत देने के आरोप में दक्षिण कोरिया में गिरफ्तार कर लिया गया। ली पर आरोप था कि उन्होंने दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति पार्क ग्यून हेई को 38 मिलियन डॉलर की रिश्वत देने की कोशिश की थी। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, शुक्रवार को सैमसंग इलेक्ट्रानिक्स के उपाध्यक्ष 48 साल के ली को सियोल की कोर्ट में सुनवाई के बाद गिरफ्तार किया गया। मामले को लेकर कोर्ट में करीब 10 घंटे सुनवाई चली थी।

खबरों के मुताबिक सैमसंग चीफ ने दो कंपनियों के विलय को लेकर राष्ट्रपति से समर्थन मांगा था और उन्हें इसके लिए रिश्वत की पेशकश की थी। दिसंबर में राष्ट्रपति के खिलाफ चलाए गए महाभियोग से भी यह मामला जुड़ा है। ली के खिलाफ गबन, विदेशों में संपत्तियों को छुपाने और झूठे साक्ष्य देने के आरोपों की भी जांच हो रही है।

कोर्ट ने पिछले महीने ली को गिरफ्तार करने के अभियोजकों के पहले प्रयास को खारिज कर दिया था और कहा था कि ली की गिरफ्तारी को न्यायसंगत ठहराने के लिए सबूतों का अभाव है। इसके बाद अभियोजन पक्ष के वकीलों ने अदालत के समक्ष घूस लेने समेत कई अन्य सबूत भी पेश किए थे। इसके बाद अदालत ने ली को गिरफ्तार किए जाने की इजाजत दी। हालांकि जज ने सैमसंग इलेक्ट्रॉनिक्स के प्रेजिडेंट पार्क सांग-जिन को गिरफ्तार किए जाने की मांग को खारिज कर दिया।

ली को अरेस्ट किए जाने के बाद कंपनी की ओर से जारी बयान में कहा गया, ‘हम यह सुनिश्चित करने का प्रयास करेंगे कि भविष्य में अदालती कार्यवाही के दौरान पूरा सच निकलकर सामने आए।’ वहीं सैमसंग ग्रुप की प्रवक्ता ने कहा कि ली को अरेस्ट किए जाने को चुनौती दी जाएगी या फिर बेल की मांग की जाएगी, इस पर अभी कोई फैसला नहीं लिया जा सका है। वहीं आपको बता दें कि, ली की गिरफ्तारी के बाद सैमसंग ग्रुप के शेयरों में गिरावट का माहौल है। ग्रुप की कंपनी सैमसंग इलेक्ट्रॉनिक्स कंपनी लिमिटेड के शेयरों में 1.4 पर्सेंट की गिरावट आई है।

वहीं, सैमसंग ग्रुप की होल्डिंग कंपनी सी ऐंड टी कॉर्प. के शेयरों में भी 2.8 पर्सेंट की बड़ी गिरावट दर्ज की गई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here