यूपी चुनाव में कांग्रेस को जीताने के लिये रणनीति तैयार कर रहे पी.के.

0

चुनावी मेनेजमेंट गुरू पी.के. मतलब प्रंशान्त किशोर को अब कांग्रेस की नैय्या पार कराने के लिये रखा गया है। प्रंशान्त किशोर ने यूपी चुनावों से पहले रणनीति बनानी शुरू कर दी है। जबकि वे जानते है कि कांग्रेस का यूपी में बहुत बुरा हाल है। कांग्रेस 27 साल से उत्तर प्रदेश में सत्ता से दूर है। हालाकिं अभी तक पी.के. की कमान से निकला कोई भी निशाना अपने लक्ष्य से हटा नही है। पीएम मोदी को लिये प्रंशान्त की सेवाए हो या बिहार जीतने वाले नीतिश के लिये चुनावी मेनेजमेंट करना। लेकिन इस बार प्रंशान्त किशोर के लिये यूपी का चुनाव आसान नहीं होगा, देखना ये होगा कि राहूल गांधी की छवि को यूपी चुनावों में पी.के. किस तरह से भुना कर लाते हैं।
hqdefault-1

जनसत्ता की खबर के अनुसार चुनाव रणनीतिकार प्रशांत किशोर को उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनावों में कांग्रेस की स्थिति सुधारने का जिम्‍मा दिया गया है। प्रशांत किशोर की ओर से प्रत्येक जिले से मांगी गई सूचनाओं को राज्य की सभी जिला यूनिट्स ने मुहैया करा दिया। इनमें कम से कम 20 समर्पित कार्यकर्ताओं के नाम और फोन नंबर मांगे गए थे। जबकि रायबरेली, अमेठी और सुल्तानपुर की जिला यूनिट्स को इस प्रक्रिया से अलग रखा गया। प्रियंका खुद व्यक्तिगत रूप से इन तीनों क्षेत्रों की निगरानी कर रहीं हैं। इसलिये प्रंशान्त किशोर इससे दूर रहेगें।

पिछले दिनों यूपी विधान सभा चुनाव को लेकर दिल्ली में राहुल गांधी ने बैठक बुलाई थी जिसमें राज्य के 40 वरिष्ठ नेताओं के साथ-साथ प्रशांत किशोर को भी शामिल किया गया था। किशोर ने सुझाव दिया था कि 2017 में होने वाले विधानसभा चुनावों के लिए पार्टी को ब्राह्मणों में पैठ बनानी होगी। प्रशांत किशोर की योजना की अनुसार युपी की 403 विधानसभाओ में राहुल गांधी के रैलीयो को गुलजार बनाने के लिए 500 पेड कार्यकर्ताओ को इकट्ठा किया जाएगा सुत्रो कि माने तो इसके लिए प्रत्येक कार्यकर्ता को 50 हजार रुपए सैलरी दी जाएगी।

LEAVE A REPLY