प्रणब मुखर्जी ने RSS संस्थापक हेडगेवार को बताया ‘भारत मां का महान सपूत’

0

तमाम कांग्रेस नेताओं की नाराजगी के बीच पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी नागपुर स्थित राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (RSS) के मुख्यालय पहुंच गए हैं। यहां आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने गुलदस्‍ता भेंटकर पूर्व राष्ट्रपति मुखर्जी का स्‍वागत किया। जिसके बाद दोनों नेता संघ के संस्‍थापक के.बी. हेडगेवार के जन्‍मस्‍थली पर गए, जहां मुखर्जी ने उन्‍हें श्रद्धांजलि अर्पित की। साथ ही विजिटर बुक में आरएसएस संस्थापक डॉक्टर केबी हेडगेवार को ‘भारत मां का महान सपूत’ बताया।

(Indian Express Photo by Monica Chaturvedi)

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के संघ शिक्षा वर्ग (तृतीय वर्ष) के समापन समारोह में बतौर मुख्य अतिथि पहुंचे पूर्व राष्ट्रपति ने अपने संबोधन से पहले हेडगेवार के जन्मस्थान पहुंचकर विजिटर बुक में लिखा, ‘आज मैं यहां भारत माता के एक महान सपूत के प्रति अपना सम्मान जाहिर करने और श्रद्धांजलि देने आया हूं।’

बता दें कि मुखर्जी के संघ के कार्यक्रम में जाने पर कांग्रेस के कई नेताओं ने भारी नाराजगी जताई है। पूर्व राष्ट्रपति मुखर्जी के आरएसएस के कार्यक्रम में हिस्सा लेने से पहले उनकी बेटी ने भी अपनी नाराजगी जाहिर की है। प्रणब मुखर्जी की बेटी और दिल्ली कांग्रेस की प्रवक्ता शर्मिष्ठा मुखर्जी ने पूर्व राष्ट्रपति के इस दौरे को भगवा विचारधारा को बढ़ावा देने वाला कदम बताया है। शर्मिष्ठा ने इस संबंध में बुधवार को ट्वीट किया और अपनी नाराजगी जाहिर की।

शर्मिष्ठा ने बुधवार को ट्वीट कर कहा कि वह (प्रणब मुखर्जी) नागपुर जाकर ‘भाजपा एवं आरएसएस को फर्जी खबरें गढ़ने और अफवाहें फैलाने’ की सुविधा मुहैया करा रहे हैं। उन्होंने खुद के भाजपा में जाने की अटकलों को खारिज किया। उन्होंने अपने पिता को सचेत भी किया कि वह आज की घटना से समझ गए होंगे कि भाजपा का ‘डर्टी ट्रिक्स’ विभाग किस तरह से काम करता है।

दिल्ली कांग्रेस की मुख्य प्रवक्ता शर्मिष्ठा ने ट्वीट किया, ‘आशा करती हूं कि प्रणब मुखर्जी को आज की घटना से इसका अहसास हो गया होगा कि भाजपा का डर्टी ट्रिक्स विभाग किस तरह काम करता है।’ उन्होंने कहा, ‘यहां तक कि आरएसएस कभी यह कल्पना भी नहीं करेगा कि आप अपने भाषण में उनके विचारों का समर्थन करेगे। लेकिन भाषण को भुला दिया जाएगा और तस्वीरें रह जाएंगी तथा इनको फर्जी बयानों के साथ फैलाया जाएगा।’

उन्होंने कहा, ‘आप नागपुर जाकर भाजपा/आरएसएस को फर्जी खबरें गढ़ने, अफवाहें फैलाने और इनको किसी न किसी तरह विश्वसनीय बनाने की सुविधा मुहैया करा रहे हैं और यह तो सिर्फ शुरुआत भर है।’ प्रणब मुखर्जी को आरएसएस के स्वयं सेवकों के लिए आयोजित संघ शिक्षा वर्ग के दीक्षांत समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में आमंत्रित किया गया है। शर्मिष्ठा से पहले संदीप दीक्षित, सीके जाफर शरीफ और कांग्रेस के कई अन्य नेता पूर्व राष्ट्रपति के इस कदम पर सवाल खड़े कर चुके हैं।

अहमद पटेल बोले- प्रणब दा से ऐसी उम्मीद नहीं थी

शर्मिष्ठा मुखर्जी के सवाल उठाने के बाद अब कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अहमद पटेल ने कहा है कि ‘मैंने प्रणब दा से यह उम्मीद नहीं की थी।’ शर्मिष्ठा के ट्वीट को रिट्वीट करते हुए अहमद पटेल ने कहा, ‘मैंने प्रणब दा से यह उम्मीद नहीं की थी।’

बता दें कि, प्रणब मुखर्जी को आरएसएस के स्वयं सेवकों के लिए आयोजित संघ शिक्षा वर्ग के दीक्षांत समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में आमंत्रित किया गया है। शर्मिष्ठा से पहले कांग्रेस के कई नेता पूर्व राष्ट्रपति के संघ के कार्यक्रम में शामिल होने के फैसले पर सवाल खड़े कर चुके हैं। कांग्रेस के तीन वरिष्ठ नेताओं जयराम रमेश, रमेश चेन्नीथला और सी के जाफर शरीफ ने चिट्ठी लिखकर मुखर्जी से संघ के कार्यक्रम में शामिल होने का फैसला बदलने की अपील की थी।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here