गौरी लंकेश की हत्या पर अगर PM मोदी ने नहीं तोड़ी चुप्पी तो अपने सभी राष्‍ट्रीय पुरस्‍कार लौटा दूंगा: प्रकाश राज

0

राष्‍ट्रीय पुरस्‍कार विजेता अभिनेता प्रकाश राज ने जर्नलिस्ट गौरी लंकेश के मर्डर पर पीएम नरेंद्र मोदी की चुप्पी की निंदा करते हुए अपने पांचाें नैशनल अवॉर्ड लौटाने की धमकी दी है। वॉन्टेड, सिंघम जैसी कई बॉलीवुड फिल्मों में विलेन का रोल करने वाले दक्षिण भारत के मशहूर अभिनेता प्रकाश राज ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर तंज कसते हुए एक बयान दिया है।

प्रकाश राज

कन्नड़ जर्नलिस्ट गौरी लंकेश के मर्डर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की चुप्पी को लेकर एक्टर प्रकाश राज ने उन्हें आड़े हाथों लिया।रविवार को प्रकाश राज ने बेंगलुरू में डेमोक्रेटिक यूथ फेडरेशन ऑफ इंडिया की स्टेट मीट में कहा कि पीएम के फॉलोअर्स सोशल मीडिया में जर्नलिस्ट के मर्डर पर जश्न मना रहे हैं। इस पर मोदी चुप्पी साधे हुए हैं, क्या वो एक एक्टर की तरह उन्हें खुश करने की कोशिश कर रहे हैं। वो मुझसे भी बड़े एक्टर हैं। अगर उन्होंने चुप्पी नहीं तोड़ी तो मैं अवॉर्ड लौटा दूंगा।

इसके अलावा प्रकाश राज ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को निशाने पर लेते हुए कहा कि मैंने एक वीडियो देखा, वीडियो देखकर मैं नहीं कह सकता कि क्या वह उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री थे या मंदिर पुजारी थे। ऐसा लगता है कि वह एक डबल भूमिका निभा रहे है जब मैं ऐसे प्रतिभाशाली कलाकारों को देखता हूं, तो मुझे उन सभी पांच राष्ट्रीय पुरस्कारों को लौटा देने का विचार महसूस होता है।

बता दें कि प्रकाश राज साउथ के साथ बॉलीवुड की कई सुपरहिट फिल्मों में विलेन के रोल में लोगों के बीच पहचान बना चुके हैं। उन्होंने सिंघम, वॉन्टेड जैसी फिल्मों में काम किया है।

बताया जाता है कि प्रकाश राज कन्नड पत्रकार के पुराने दोस्त थे। प्रकाश ने कहा,‘मैं लंकेश को करीब 30 साल से जानता था, उनकी हत्या से मुझे बड़ा सदमा पहुंचा है। हम सब उनके बच्चे जैसे थे। जब भी मुझे जरुरत थी वो हमेशा मेरे साथ होती थीं। हम आपस में अक्सर बात करते थे, वो मुझे समझाती थीं।

प्रकाश राज ने आगे कहा, मैं कोई अवॉर्ड नहीं चाहता. मुझसे न कहें कि अच्छे दिन आएंगे। मैं जाना पहचाना एक्टर हूं, जब आप एक्ट‍िंग करते हैं तो मैं पहचान लेता हूं।

गौरी वीकली टैबलॉइड ‘गौरी लंकेश पत्रिके’ की एडिटर थीं। यह टैबलॉइड एडवर्टिजमेंट नहीं छापता था। इसे 50 लोगों का ग्रुप चलाता था। इस टैबलॉइड के जरिए गौरी लगातार कम्युनल पॉलिटिक्स और कास्ट सिस्टम के खिलाफ लिखती थीं। वे राइट विंग और हिंदुत्व पॉलिटिक्स की भी विरोधी थीं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here