अभिनेता प्रकाश राज ने कठुआ गैंगरेप और हत्या मामले में चुप्पी के लिए अमिताभ बच्चन को बताया कायर

0

पिछले कुछ समय से भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) और दक्षिणपंथी संगठनों पर लगातार हमला बोल रहे बॉलीवुड फिल्मों में विलेन की भूमिका में नजर आने वाले मशहूर अभिनेता प्रकाश राज ने जम्मू-कश्मीर के कठुआ जिले में 8 साल की नाबालिग मासूम बच्ची के साथ हुए गैंगरेप और हत्या के खिलाफ बोलने से इनकार करने पर बॉलीवुड महानायक अमिताभ बच्चन पर निशाना साधा है।

जब प्रकाश राज से पूछा गया कि कठुआ में 8 साल की नाबालिग मासूम बच्ची के साथ हुए गैंगरेप और हत्या के मामले में आप अमिताभ बच्चन से क्या उम्मीद करते है, तो राज ने कहा कि, मैं चाहता था कि वह (बच्चन) कहें कि ‘इसे रोको।’ जब राज से पूछा गया कि इंडस्ट्री के सबसे चर्चित चेहरे के खिलाफ बोलने पर उन्हें टेंशन नहीं हुई। इस पर उन्होंने कहा कि, मैंने उनसे अपील की, मैं समझता हूं कि अभिनेता होने के नाते हमारी भी सामाजिक चेतना है, हमारी जिम्मेदारी है, क्योंकि। जब कलाकार डरपोक हो जाएंगे, तो समाज के डरपोक-कायर होने का हम कारण बनेंगे।

इस पर जब उनसे पूछा गया कि क्या आप समझते हैं अमिताभ बच्चन यहां कायर (cowardly) साबित हुए हैं। इसका जवाब देते हुए प्रकाश राज ने कहा कि, मुझे लगता है ऐसा ही हुआ है, इससे मुझे क्या फायदा होने वाला है, मैं उनका (बच्चन) सम्मान करता हूं कि, लेकिन मैं उनसे अपील कर रहा हूं, कृपया हाथ बढ़ाइए, ये महत्वपूर्ण है, आप किसी पार्टी के खिलाफ नहीं बोल रहे हैं, आप एक मुद्दे पर बोल रहे हैं, आप एक सोच के खिलाफ बोल रहे हैं जो कि इस देश के लिए ठीक नहीं है।

वरिष्ठ पत्रकार बरखा दत्त से बात करते हुए दक्षिण भारतीय फिल्मों के जानेमाने अभिनेता प्रकाश राज ने कहा कि, मैंने उनसे अपील की, ये मेरा अधिकार है, उन्हें एक बेहतरीन आवाज मिली है, मैं चाहता था कि वे बोलें, लेकिन उन्होंने कह दिया, मैं इस बारे में बोलना नहीं चाहता, लेकिन सर, ये इतना गंदा है कि आपको बोलना पड़ेगा।

प्रकाश राज ने आगे कहा कि, ऐसा नहीं है कि कठुआ रेप मेरे लिए इसलिए नहीं है कि कोई किसी धर्म से ताल्लुक रखता है, बल्कि ऐसा इसलिए है कि क्योंकि ऐसा करने की वजह एक समुदाय के लोगों को, जो कि वहां रह रहे थे वहां से भागने की धमकी देना था। और सिर्फ इसिलए कि आरोपी आपकी पार्टी से हैं, आप उनके समर्थन में जाते हैं, उनके समर्थन में विरोध करते हैं, ये ठीक नहीं है।

बता दें कि, अभी हाल ही में जम्मू-कश्मीर के कठुआ जिले में एक नाबालिग मासूम बच्ची के साथ हुए गैंगरेप व हत्या व यूपी के उन्‍नाव गैंगरेप की घटनाओं पर बॉलीवुड के कई सितारों ने मुखर होकर अपना विरोध जताया है। वहीं, इस मामले में चुप्पी साधने को लेकर अमिताभ बच्चन को सोशल मीडिया पर अलोचनाओं का सामना करना पड़ा था।

हालंकि, बाद में अमिताभ ने दोनों घटनाओं पर अपनी प्रतिक्रिया तो दी थी। लेकिन वो साफ तौर पर इस कांड के बारे में कुछ कहने से बचते दिखाई दिए, जिसे लेकर सोशल मीडिया पर उनकी आलोचना भी हुई थी।

अमिताभ ने अपनी फिल्म ‘102 नॉट आउट’ के सॉन्ग लॉन्च के एक इवेंट के दौरान कहा था कि, इस विषय पर चर्चा करने पर मुझे घिन आ रही है। आप मुझसे इस बारे में मत पूछिए, यह बात करने मे भी भयावह है। बता दें कि, अमिताभ पीएम मोदी की योजना ‘बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ’ के ब्रैंड एंबेसडर हैं।

वहीं, बॉलीवुड अभिनेत्री पूजा भट्ट ने अमिताभ बच्चन के बयान पर तीखी प्रतिक्रिया दी थी। पूजा भट्ट ने 20 अप्रैल को एक ट्वीट में महानायक पर तंज कसते हुए लिखा था कि, ‘मैं पिंक नामक ‘फिल्म’ की याद दिलाने में मदद नहीं कर सकती।’ ट्वीट में आगे लिखा गया कि क्या हमारी छवि वास्तविकता में प्रतिबिंबित हो सकती है?

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here