प्रकाश जावेडकर ने नेहरू पटेल वाले बयान पर सफाई दी, लेकिन वीडियो मे सच क़ैद

0

देश की आज़ादी के लिए कौन फांसी पर झूला इसकी जानकारी लगभग हर बच्चे को होगी लेकिन लगता है मोदी के मंत्रियों में इतिहास के ज्ञान का अभाव हैं।

शायद यही कारण रहा कि उन्होंने जवाहरलाल नेहरू, सुभाषचंद्र बोस और सरदार पटेल को भी फांसी के फंदे पर लटकने वाला बता दिया।

अपने इस बयान से शर्मिंदगी झेल रहे जावेडकर ने एक के बाद के 4 टवीट करके सफाई दी है।और लिखा है। ‘मैंने 1857 के बाद के सभी स्वतंत्रता सेनानियों को श्रद्धांजलि दी। मैंने गांधी,नेहरू,बोस का नाम लिया। यह लाइन यही खत्म थी। अगली लाइन में मैंने उनको गिनाया जिन्हें फांसी दी गई, जिन्हें जेल जाना पड़ा और जिन पर अंग्रेजी हुकूमत ने जुल्म ढाए। मेरे दिमाग में इसको लेकर कोई उलझन नहीं थी वहां सुनने वालों को कोई गलतफहमी नहीं हुई है।

CqiJnABWYAAzW1W

लेकिन ANI के वीडियो में साफ रुप से जावेडकर को नेहरु,पटेल वाले शब्दों को बोलते हुए देखा जा सकता है।

भारत के प्रथम प्रधानमंत्री नेहरू की प्राकृतिक कारणों से मौत हुई थी। भारत के पहले गृह मंत्री पटेल की भी 75 साल की उम्र में स्वतंत्र भारत में मौत हुई। जबकि भगत सिंह और राजगुरु को वास्तव में 1931 में अंग्रेजों द्वारा फांसी दी गई थी।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लोकसभा चुनाव प्रचार के दौरान कहा था कि चंद्रगुप्त मौर्य गुप्ता राजवंश से थे। उसी रैली में मोदी ने कहा कि सिकंदर की सेना ने पूरी दुनिया पर विजय प्राप्त की लेकिन बिहारियों से हार गया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here